अन्य
    Monday, April 22, 2024
    अन्य
      Homeवेबसाइट

      डिजिटल वेबसाइट्स न्यूज़ रिपोर्टिंग एडिटिंग के लिए जरुरी आचार संहिता

      राज़नामा.कॉम डेस्क। डिजिटल न्यूज पब्लिशर्स एसोसिएशन ने स्वेच्छा से अपने सदस्यों के लिए आचार संहिता बनाई है। इस संहिता को बनाते समय यह ध्यान रखा गया है कि डिजिटल समाचारों के प्रकाशन के दौरान संविधान द्वारा प्रदत्त अनुच्छेद 19 (1) (a) की स्वतंत्रता को बनाए रखते हुए जर्नलिज्म के उच्च...

      बॉम्बे HC ने डिजिटल न्यूज पब्लिशर्स को दी अंतरिम राहत, IT नियम के 2 प्रावधान पर रोक

      "केरल और मद्रास उच्च न्यायालयों के बाद बॉम्बे हाईकोर्ट देश में ऐसी तीसरी अदालत है, जिसने याचिकाकर्ताओं को आईटी नियम 2021 को लागू करने और सूचना प्रसारण मंत्रालय द्वारा कार्रवाई से अंतरिम राहत दी है... राजनामा.कॉम। बॉम्बे हाई कोर्ट ने नए आईटी नियमों (मध्यवर्ती दिशानिर्देश और डिजिटल मीडिया आचार संहिता) 2021...

      डीसी-एसपी ने द प्रेस क्लब ऑफ सरायकेला-खरसावां के वेबसाइट का किया उद्घाटन

      एक्सपर्ट मीडिया न्यूज नेटवर्क (सरायकेला)। आज मंगलवार को द प्रेस क्लब ऑफ सरायकेला- खरसावां के ऑफिशियल वेबसाइट का उद्घाटन जिले के डीसी अरवा राजकमल एवं एसपी एम अर्शी ने संयुक्त रूप से की। जिला मुख्यालय सभागार में आयोजित इस कार्यक्रम में द प्रेस क्लब ऑफ सरायकेला-खरसावां के सभी पदाधिकारी मौजूद रहे।...

      बिहार सरकार का बड़ा फैसला, वेब मीडिया को भी देगी विज्ञापन, जानें क्या हैं नियम शर्तें

      "मीडिया को पांच कैटेगरी में शामिल किया गया है। समूह क में 50 लाख से अधिक यूनिक यूजर्स प्रति माह रखा गया है। वहीं सबसे कम प्रति माह पचास से 1।5 लाख यूजर्स का कैटेगरी रखा गया है.... राज़नामा.कॉम डेस्क। बिहार में अब प्रिंट- इलेक्ट्रॉनिक मीडिया की तर्ज पर वेब मीडिया...

      मोदी सरकार ने सभी ऑनलाइन न्यूज पोर्टल्स से 15 दिन के अन्दर यूं माँगा जवाब

      "सूचना और प्रसारण मंत्रालय ने पहली कैटेगरी के प्रकाशकों से यूआरएल, भाषा, ऐप, सोशल मीडिया अकाउंट, टीवी चैनल संचालित करने संबंधी अनुमति और या भारत के समाचार पत्रों के पंजीयक द्वारा जारी नंबर (आरएनआई नंबर), कॉन्टैक्ट सूचना और शिकायत निवारण के सिस्टम के बारे में जानकारी देनी होगी... राजनामा.कॉम डेस्क। डिजिटल...

      कृपया जिम्मेदारी तलाश कीजिए मिस्टर मीडिया !

      यह असाधारण नहीं, बल्कि भीषण और भयावह है। आजादी के बाद सबसे बड़ी आफत और आपदा। पैंतालीस साल की पत्रकारिता में मैंने कभी नहीं देखा। चंद रोज पहले अपने जमाने के मशहूर संपादक रहे कमल दीक्षित ने मुझसे कहा था-साठ साल की पत्रकारिता में ऐसी घड़ी नहीं आई। दीक्षित जी अब...

      जरुर पढ़ें

      error: Content is protected !!