अन्य
    Thursday, February 22, 2024
    अन्य
      Homeखुलासा

      पत्रकारिता के कारण नहीं बल्कि शादी समारोह में लड़की संग डांस करने को लेकर हुई पत्रकार सुभाष की हत्या

      राजनामा.कॉम। बिहार के बेगूसराय के परिहारा सहायक क्षेत्र में पत्रकार सुभाष कुमार की हत्या पत्रकारिता के कारण नहीं, शादी समारोह में लड़की के साथ डांस करने का विरोध करने पर हुई थी। घटना में शामिल तीन आरोपियों की पश्चिम बंगाल में गिरफ्तारी के बाद बेगूसराय लाकर हुए पूछताछ में इसका खुलासा...

      शिवेसना के मुखपत्र ‘सामना’ का संपादकीयः महाराष्ट्र में जारी तमाशे के पीछे भाजपा का हाथ

      राजनामा.कॉम। महाराष्ट्र के शिवेसना के बागी विधायकों को केंद्र की ओर से 'वाई प्लस' सुरक्षा दिए जाने के बाद सोमवार को पार्टी ने दावा किया कि अब यह स्पष्ट हो गया है कि राज्य में जारी राजनीतिक उथल-पुथल के बीच भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ही यह सब 'तमाशा' कर रही...

      कोविड के चलते भारत में हुई मौतों पर अमेरिका के अखबार की खबर है चर्चाओं में !

      राजनामा.कॉम डेस्क। कोरोना कोविड 19 के संक्रमण के चलते देश में कितने लोग कालकलवित हुए हैं, अर्थात कितने लोगों ने दम तोड़ा है इस बारे में कुहासा अब तक हट नहीं सका है। कहीं सवा पांच तो कहीं पांच लाख लोगों के कालकलवित होने की बात कही जा रही है। कोविड...

      ये न करें, अन्यथा हो सकता है आपका व्हाट्सएप अकाउंट बैन और मोबाईल डाटा हैक

      राजनामा.कॉम। व्हाट्सएप दुनिया भर में अरबों उपयोगकर्ताओं के लिए सबसे लोकप्रिय इंस्टेंट मैसेजिंग ऐप है। इस ऐप से यूजर्स अपने दोस्तों और परिवार से हर समय जुड़े रहते हैं। इस ऐप की सबसे बड़ी खासियत है कि इसमें चैटिंग और फोटो-वीडियो शेयरिंग के अलावा वॉयस और वीडियो कॉलिंग की भी सुविधा...

      प्रेस क्लब ऑफ जमशेदपुर चुनावः  मैच फिक्स, घोषणा बाकी, प्रक्रिया पर उठ रहे सवाल

      राजनामा.कॉम ।  एक सितंबर को जमशेदपुर प्रेस क्लब के अध्यक्ष का सर्वसम्मति से चयन हुआ था। उसके ठीक 17 वें दिन प्रेस क्लब ऑफ जमशेदपुर के अध्यक्ष पद के लिए चुनाव हो रहा है, वह भी नामांकन के 24 घंटे के भीतर। महज तीन प्रत्याशी चुनावी मैदान में।  कितने पत्रकारों को...

      खुलासाः सिर्फ अप्रैल में गई कोरोना संक्रमित इन 101 पत्रकारों की जान, यूपी अव्वल, देखिए सूची

      "रेट द डिबेट' की संस्थापक डॉ. कोटा नीलिमा के अनुसार ये डाटा 28 अप्रैल तक है। इसका मकसद लोगों को ये बताना भी है कि जो खबरें उन तक पहुंचती हैं, उसके पीछे की क्या कीमत चुकानी पड़ती है... राजनामा.कॉम डेस्क। भारत में कोरोना की दूसरी लहर बेहद भयावह रूप ले...
      - Advertisment -

      जरुर पढ़ें

      - Advertisment -
      error: Content is protected !!