अन्य
    Sunday, May 26, 2024
    अन्य

      आज तक के एंकर सुधीर चौधरी के खिलाफ रांची एसटी/एससी थाना में एफआईआर

      रांची (राजनामा.कॉम)। आज तक के एंकर सुधीर चौधरी के खिलाफ रांची के एसटी/ एससी थाना में एफआईआर दर्ज करायी गयी है।

      FIR against Aaj Tak anchor Sudhir Chaudhary in Ranchi STSC police station 1एफआईआर में कहा गया है कि आज तक चैनल के एंकर सुधीर चौधरी ने अपने खबर में कहा है कि हेमंत सोरेन को चार्टर प्लेन और सुविधायुक्त जिंदगी जीने की आदत लग गयी है। पर सीएम पद के जाने के बाद हालात बदल गए हैं। अब उन्हें जंगल में आदिवासी की तरह रहना पड़ेगा। जैसा वे 30-40 साल पहले रहा करते थे। उनके लिए यह काफी मुश्किल होगा।

      आदिवासी समाज को एवं पूर्व मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के बारे में हिंदी न्यूज चैनल आज तक के प्राइम टाइम के कार्यक्रम के एंकर सुधीर चौधरी द्वारा अभद्र और आपत्तिजनक टिप्पणी किया गया। इससे प्रतीत होता है कि सुधीर चौधरी जातीय विद्वेष से ग्रसित एक व्यक्ति ऐसा व्यक्ति है, जिनकी नजर में आदिवासियों का मतलब पिछड़ापन और जंगली होता है। उनके इस अभद्र टिप्पणी से पूरा आदिवासी समाज आहत है।

      एफआईआर में कहा गया है कि आदिवासी समाज जंगली नहीं है। आज देश की प्रथम महिला राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू हैं, जो देश के पूरे ज्यूडिशल सिस्टम के अभिभावक भी हैं।

      ऐसे में सुधीर चौधरी के द्वारा आदिवासी को जंगली बताना निहायत जातिवाद से ग्रस्त और ऊँच-नीच की भावना से प्रेरित मालूम पड़ता है। उनके इस शर्मनाक बयान से पूरा आदिवासी समाज आहत है, आक्रोशित है।

      पूरा आदिवासी समाज को नीचा दिखाने की सुधीर चौधरी की मंशा का संवैधानिक और लोकतांत्रिक रूप से विरोध हैं एवं सुधीर चौधरी के ऊपर एसटी / एससी एट्रोसिटी प्रीवेंशन एक्ट 1989 के तहत कानूनी कार्रवाई की जाए तथा अविलंब उनको गिरफ्तार कर आदिवासी समाज को न्याय दिया जाए।

      इस मौके पर आदिवासी सेना के महानगर अध्यक्ष अजित लकड़ा, अमरनाथ लकड़ा, आकाश तिर्की, पंकज भगत, नितिन तिर्की, मुन्ना तिर्की, आकाश बड़ा, अनूप लकड़ा, निशांत खलखो, उत्तम सांगा आदि लोग मौजूद थे।

       सुप्रीम कोर्ट ने पत्रकारों के डिजिटल उपकरणों को जब्त करने पर जतायी चिंता, कहा…

      सोशल मीडिया में वायरल हुआ न्यूज18 बिहार झारखंड न्यूज चैनल की यह सनसनीखेज फर्जी खबर

      बिहारः अररिया जिला के रानीगंज में दैनिक जागरण संवादाता की गोली मारकर हत्या

      खरमोर पक्षीः कुछ मीडिया बता रहे विदेशी तो बॉम्बे नेचरल हिस्ट्री सोसायटी पूर्णतः भारतीय?

      नहीं रहे वरिष्ठ पत्रकार डॉ. वेदप्रताप वैदिक, बाथरुम में गिरे, उठा शव

      संबंधित खबर
      error: Content is protected !!