पश्चिम बंगाल में सेना तैनात, भड़कीं ममता, कहा- आपातकाल

Share Button

कोलकाता। नोटबंदी के मुद्दे पर मोदी सरकार का विरोध कर रही पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने देर रात कोलकाता के कुछ इलाकों में सेना की तैनाती पर नाराजगी जताई है। ममता ने मोदी सरकार पर आरोप लगाया कि उसने इमरजेंसी जैसे हालात पैदा कर दिए हैं।

हालांकि, ममता के नाराजगी के बाद राज्य सचिवालय नबन्ना के पास स्थित टोल प्लाजा से सैन्य कर्मियों को हटा लिया गया। इसके अलावा हुगली पुल के टोल प्लाजा के नजदीक बने एक अस्थायी शेड को भी हटा दिया गया है। सैन्यकर्मियों को हटाने के बारे में सेना की ओर से कोई आधिकारिक बयान नहीं आया है।

क्या है पूरा मामला

गुरुवार देर रात ममता बनर्जी ने ट्वीट कर बताया है कि बंगाल राज्य सचिवालय के बाहर सेना तैनात कर दी गई है। उन्होंने ट्वीट में कहा कि पुलिस के विरोध के बावजूद अति सुरक्षित इलाके में सेना भेजना दुर्भाग्यपूर्ण है। उन्होंने धमकी दी कि जब तक सेना को टोल प्लाजा से नहीं हटाया जाता, वो सचिवालय में ही डेरा जमाए रहेंगी

सुश्री ममता ने जानना चाहा कि क्या यह संघीय व्यवस्था पर हमला है। हम मुख्य सचिव केंद्र को पत्र लिख रहे हैं। इस मुद्दे को लेकर मैं राष्ट्रपति से बात करूंगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि सेना हमारी संपत्ति है। हमें उनपर गर्व है। हमें बड़ी आपदाओं और सांप्रदायिक तनाव के दौरान सेना की जरूरत होती है। ममता ने दावा किया कि टोल प्लाजा पर सेना तैनात होने के कारण लोगों में अफरा-तफरी है।

आपातकाल जैसे हालात

ममता ने इसे आपातकाल जैसे हालात बताया। उन्होंने कहा कि जब देश में इमरजेंसी लगाई जाती है तो केंद्र सरकार राज्यों की कानून-व्यवस्था को अपने हाथ में ले लेता है। राष्ट्रपति इमरजेंसी की घोषणा करते हैं। लेकिन ऐसा कुछ नहीं हुआ है। केंद्र सरकार ने सेना की जीप तैनात करने से पहले राज्य को अपने विश्वास में नहीं लिया है।

कोलकाता पुलिस का कहना है कि उसने सेना के इस अभ्यास पर सुरक्षा कारणों और यातायात समस्या की वजह से आपत्ति जताई थी। सेना के पूर्वी कमान ने ट्वीट करके बताया कि उत्तर-पूर्व के सभी राज्यों में सेना टोल नाकों पर गाड़ियों की पूछताछ की रूटीन कार्रवाई कर रही है।

ट्वीट में आगे लिखा गया है कि असम में 18 जगहों पर, अरुणाचल में 13, पश्चिम बंगाल में 19, मणिपुर में 6, मेघालय में 5 और त्रिपुरा और मिजोरम में एक-एक जगहों पर सेना गाड़ियों की जांच कर रही है। सेना के इस दावे को खारिज करते हुए ममता ने कहा कि प्रदेश सरकार की अनुमति लिए बगैर राज्य के ज्यादातर इलाकों में सेना तैनात की गई है।

उन्होंने फिर ट्वीट किया है कि ईस्टर्न कमांड ने पूरी तरह गलत और ध्यान बंटाने वाले तथ्य दिए हैं। हम आपका पूरा सम्मान करते हैं। लेकिन कृपया लोगों को गुमराह न करें। उन्होंने कहा कि पश्चिम बंगाल के जलपाईगुड़ी, अलीपुरद्वार, दार्जीलिंग, बैरकपुर, उत्तरी 24 परगना, हावड़ा, हुगली, मुर्शिदाबाद और बर्दवान जिलों में भी सेना तैनात की गई है।

Share Button

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.