बिहार सूचना जनसंपर्क विभाग की लूट का नया तरीका

बिहार सरकार सूचना एवं जनसंपर्क विभाग जनता की गाढ़ी कमाई को किस प्रकार लुटा रही है, इसकी एक ताजा वानगी ८ नवम्बर २०१२ को दैनिक हिंदुस्तान के पटना संस्करण के पेज सं-१४ पर बिहार सरकार के शिक्षा बिभाग  के छपे विज्ञापन  से देखा जा  सकता है।                                                                            सूचना  एवं जनसंपर्क  विभाग, पटना के जारी आई  पी आर  डी -९९१५-एस [एजुकेशन] १२-१३ बिहार सरकार के शिक्षा बिभाग के प्रधान  सचिव अमरजीत सिन्हा के विभागीय पत्रांक -१२४७/दिनांक ११-१०-२०१२ द्वारा राज्य सरकार के सभी स्कूलों [निजी स्कूल सहित ]  को साल  में एक दिन ७ नवम्बर [कैंसर जागरूकता दिबस ]को शपथ दिवस मानाने  के सम्बन्ध  […]

Read more

जरा दैनिक भास्कर और रांची एक्सप्रेस की इस खबर पर गौर फरमाईये!

 झारखंडी मीडिया की राजधानी रांची से प्रकाशित समाचार पत्रों में खबरों का प्रकाशन अलग-अलग ढंग से होती है। कभी उसके तथ्यों में आस्मां-जमीं का फर्क होता है तो कभी मोटे-मोटे शीर्षकों में। सामान्य घटना तो दूर, यहां तक की न्यायालय के आदेशों-निर्देशों को भी सब अपने-अपने हिसाब से प्रस्तुत करते हैं। उदाहरण के तौर पर अभी-अभी नेट पर उपलब्ध दैनिक भास्कर और दैनिक रांची एक्सप्रेस की ताजा खबर को देखियेः- दैनिक भास्कर, रांची के नेट संस्करण में  शिबू सोरेन को राहत : नहीं होगी CBI जांच शीर्षक से प्रकाशित समाचार के अनुसारः   “पूर्व मुख्यमंत्री शिबू सोरेन के परिजनों की आय से अधिक […]

Read more

क्या दैनिक जागरण की इस गंदगी पर होगी कार्रवाई

आज कल के समाचार-पत्रों के संपादक-पत्रकारों को खाने-कमाने से इतनी भी फुरसत नहीं है कि कंटेंट पर कोई ध्यान दे। लगता है कि “धंधे ” के इस दौर में सब “गंदे” हो गये हैं। अब देखिये न।  दैनिक जागरण,पटना संस्करण में इतनी अभद्र टिप्पणी अपने संपादक के नाम पत्र स्तंभ में प्रकाशित की है, जिसकी इजाजत नैतिकता की जमीन पर तो दूर पत्रकारिता के धंधे में भी नहीं दिया जा सकता। दैनिक जागरण में प्रकाशित है कि “सोनिया गांधी परिवार को लेकर संपादक के नाम पत्र में बेहद अपमान जनक टिप्पणियां छपी हैं…बेहद ही घटिया…इसमें राहुल को कंस, प्रियंका को सूर्पनाखा और […]

Read more

राजनीति कर रहे हैं काटजू

पटना। प्रेस काउन्सिल ऑफ इंडिया के अध्यक्ष मार्कण्डेय काटजू जब-जब बिहार आते हैं, सूबे के बारे में कोई न कोई नकारात्मक टिप्पणी कर जाते हैं. उन्होंने इस बार तो तमाम हदें पार कर दी हैं और प्रदेश की जनता के द्वारा प्रचंड बहुमत से चुनी गई सरकार की बखिया उधेड़ कर रख दी. उन्होंने सूबे के सर्वप्रिय मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर बुरी तरह कटाक्ष किया. काटजू ने जेपी की दुहाई देते हुए पूछा – आप कैसे शिष्य हैं? कहां है जेपी का जातिविहीन समाज। कहां गलत रास्ते पर चले गए? क्यों आपका इतना विरोध हो रहा है? सवालों की झड़ी लगाते […]

Read more

पटना हाई कोर्ट ने वकील की लापरवाही को गंभीरता से लिया

 पटना। पटना उच्च न्यायालय की न्यायमूतिर्त अंजना प्रकाश ने 200 करोड़ के सनसनीखेज दैनिक हिन्दुस्तान विज्ञापन घोटाले की सुनवार्इ में सरकारी अधिवक्ता की लापरवाही से जुड़े मुंगेर के वरीय अधिवक्ता और पत्रकार काशी प्रसाद के आवेदन को बार काउनिसल के चेयरमैन के पास उचित कार्रवार्इ हेतु भेजने का आदेश अपने 08 अक्तूर,12 के आदेश में दिया है । देश में संभवत: यह पहली घटना है जिसमें उच्च न्यायालय ने विश्व व्यापी भ्रष्टचार के मामले में सरकारी अधिवक्ता की लापरवाही की शिकायत को काफी गंभीरतापूर्वक लिया है और समुचित काररवार्इ के लिए बार काउनिसल के चेयरमैन के पास आवेदन को भेज दिया […]

Read more

दैनिक जागरण ने भी करोड़ों का सरकारी विज्ञापन लूटा

मुजफफरपुर। दैनिक हिन्दुस्तान के लगभग 200 करोड़के सरकारी विज्ञापन घोटाले की  आग  अभी देश में बुझी भी नहीं थीं कि अब दैनिक जागरण  के सरकारी विज्ञापन फर्जीवाड़ा ने पूरी दुनिया में कारपोरेट प्रिंट मीडिया के असली चेहरा को नंगा कर दिया है ।सरकारी विज्ञापन घोटालों के उजागर होने से  दैनिक हिन्दुस्तान और दैनिक जागरण के प्रबंधन की नींद उड़गर्इ हैं।प्रबंधन ने पूरे देश मेंअपने संस्थान के  आर्थिक अपराध को उजागर करनेवाले देश के आर0ट0आर्इ0 के क्रांतिकारियोंको सफाया करनेकी धमकी दे दी है ।मुजफफरपुर और मुंगेर के गवाहों को दोनों अखबारों से जुड़े व्यकितयों की ओर से लगातार जान मारने की धमकियांमिल […]

Read more

झारखंड सूचना जन संपर्क विभाग में लूट का नया खेल

उर्दु अखबार के पहले अंक में ही दिया 15 अगस्त का एक फूल पेज विज्ञापनः इन दिनों झारखंड सरकार के सूचना एवं जन-संपर्क विभाग में लूट का आलम बढ़ गया है। एक लंबे समय तक पद खाली रहने के बाद जब एक सीसीएलकर्मी  को निदेशक बनाया गया तो उम्मीद बनी थी कि इस विभाग के दिन बहुरेगें और सरकारी विज्ञापनादि में जो गोरखधंधा चल रहे हैं,वे बंद भले ही न हो, उसमें कमी जरुर आयेगी। दुर्भाग्य कि फिलहाल यहां ऐसा कुछ नजर नहीं आ रहा है और भ्रष्टाचार का पानी सिर से उपर बहने लगा है। कहने को तो इस विभाग […]

Read more

दैनिक सन्मार्ग की आंखों पर काला चश्मा

विश्व पर्यटन दिवस है या विश्व पर्यावरण दिवस?: झारखंड की रांची से प्रकाशित हिन्दी दैनिक सन्मार्ग को लेकर राजनामा.कॉम की “पत्रकारों के शोषण का अड्डा बना सन्मार्ग मीडिया हाउस”   ( लिंकः   http://raznama.com/%e0%a4%aa%e0%a4%a4%e0%a5%8d%e0%a4%b0%e0%a4%95%e0%a4%be%e0%a4%b0%e0%a5%8b%e0%a4%82-%e0%a4%95%e0%a5%87-%e0%a4%b6%e0%a5%8b%e0%a4%b7%e0%a4%a3-%e0%a4%95%e0%a4%be-%e0%a4%85%e0%a4%a1%e0%a5%8d%e0%a4%a1/) शीर्षक से प्रसारित एक खबर पर अपना विचार प्रकट करते हुये संजय सिंह नामक एक सुधी पाठक ने आरोप लगाया है कि यह न्यूज वेब चैनल कोई पुरानी खुन्नस निकाल रहा है।  आगे सन्मार्ग की एक और दिलचस्प खबर के पहले स्पष्ट करना जरुरी है कि हमारा किसी भी मीडिया हाउस से कोई खुन्नस नहीं है। जिस एक अंग्रेजी दैनिक के फ्रेंचाइजी ने  पुलिस द्वारा जबरिया रंगदार बनवा […]

Read more

मुंगेर की घटना वनाम बिहारी मीडिया

खुद इस घटना की जांच-पड़ताल-आत्म मंथन करे दैनिक जागरणः बिहार के मुंगेर से एक बड़े मीडिया हाउस की रीढ़ जला देने वाली खबर आई है। ऐसे सरेआम सड़क पर अब तक किसी राजनीतिक दलों या समाजिक संगठनों द्वारा अखबार जलाने की सूचनायें मिलती है। शायद देश में एक बार फिर तेजी से उभर रहे बिहार की यह पहली घटना है कि गांव वालों ने अपनी समस्याओं को लेकर किसी बड़े समाचार पत्र ग्रुप के कार्यालय के सामने अखबार की सैकड़ों प्रतियां जलाई हो।  गांव वालों का कहना है कि एक सिगरेट कंपनी के प्रदुषण से वे नाना प्रकार के समस्याओं से […]

Read more

दैनिक जागरण की प्रतियां जलाई

अब गांव वाले नहीं पढ़ेगें दैनिक जागरण अखबारः सिगरेट बनानेवाली देश की प्रमुख कंपनी आई.टी.सी. लिमिटेड के कारण आसपास के गांवों में विद्यमान जल -प्रदूषण और ध्वनि प्रदूषण से परेशान नया गांव के ग्रामीणों के प्रदर्शन की खबर नहीं छापने पर आज क्रोधित ग्रामीणों ने मुंगेर शहर के गुलजार पोखर मोहल्ला स्थित दैनिक जागरण कार्यालय के समक्ष जोरदार प्रदर्शन किया और दैनिक अखबार के पक्षपातपूर्ण रवैया की भत्सना की । ग्रामीणों ने दैनिक जागरण कार्यालय के समक्ष दैनिक जागरण अखबार की सैकड़ों प्रतियों को सरेआम विरोध स्वरूप जला दिया । अखबार जलाने के बाद कोतवाली पुलिस भी घटनास्थल पर पहुंचकर जांच […]

Read more

वर्ष 2006 में ही पकड़ाया था हिन्दुस्तान विज्ञापन घोटाला

नेताओं-अफसरों-संपादकों की तिकड़ी ने वर्ष-2006 में ही दबा दी थी दैनिक हिन्दुस्तान के काले कारनामे की फाइल दैनिक हिन्दुस्तान के लगभग दो सौ करोड़ के सरकारी विज्ञापन घोटाले के बारे में नित नई जानकारियां सामने आ रही हैं. बिहार सरकार के वित्त अंकेक्षण विभाग ने वित्तीय वर्ष 2005-06 में ही बिहार में सूचना एवं जनसम्पर्क विभाग, पटना की मिलीभगत से दैनिक हिन्दुस्तान द्वारा किए जा रहे सरकारी विज्ञापन के फर्जीवाड़े को उजागर किया था. यही नहीं, दैनिक हिन्दुस्तान से अवैध ढंग से सरकारी विज्ञापन के प्रकाशन के मद से लगभग एक करोड़, पन्द्रह हजार नौ सौ पचपन रुपए की वसूली की […]

Read more
1 11 12 13 14 15