सुदेश महतो को उप मूर्खमंत्री बनाने के बाद शिबू सोरेन को उप मुख्यमंत्री बनाया

सन्मार्ग के २४ जुलाई २०१२ के अंक में झारखण्ड सरकार के तीन विज्ञापन छपे हैं उनमें एक में सुदेश महतो को उप मुख्यमंत्री से प्रमोट कर मुख्यमंत्री बना दिया गया है. शिबू सोरेन को डिमोट कर उपमुख्यमंत्री बना दिया गया जबकि, वे वर्तमान में राज्य समन्वय समिति के अध्यक्ष हैं।  विदित हो कि  आईपीआरडी के विज्ञापन विभाग से ही डिजाइन कर मीडिया को जारी किये जाते हैं। लगता है उसे और बेहतर बनाने के लिए यह कलाकारी की गयी है।  दूसरे अख़बारों में ये विज्ञापन सही छपे हैं। उनहोंने किसी को प्रमोट या डिमोट नहीं किया है। सन्मार्ग में एक बार […]

Read more

अखबारों को पाठक नहीं,सिर्फ ग्राहक चाहिये

क्या देश के तमाम राष्ट्रीय अख़बारों को अब पाठकों की जरुरत नहीं रह गई है और क्या वे ग्राहकों को ही पाठक मानने लगे हैं? क्या अब समाचार पत्र वाकई मिशन को भूलकर मुनाफे को मूलमंत्र मान बैठे हैं? क्या पाठकों की प्रतिक्रियाएं या फीडबैक अब अख़बारों के लिए कोई मायने नहीं रखता? कम से कम मौजूदा दौर के अधिकतर समाचार पत्रों की स्थिति देखकर तो यही लगता है. इन दिनों समाचार पत्रों में पाठकों की भागीदारी धीरे-धीरे न केवल कम हो रही है बल्कि कई अख़बारों में तो सिमटने की कगार पर है. यहाँ बात समाचार पत्रों में प्रकाशित संपादक […]

Read more

दैनिक हिन्दुस्तान ने अपनाया बीच का रास्ता

पत्रकारिता में जब सच और झूठ जब आमने-सामने हो तो रांची से प्रकाशित दैनिक हिन्दुस्तान द्वारा बीच का रास्ता अपनाने की कला का कोई सानी नहीं है। अगर हम राजनामा डॉट कॉम के संचालक-संपादक मुकेश भारतीय की  एक षडयंत्र के तहत हुई जबरिया पुलिस गिरफ्तारी के मामले में भी यही देखने को मिलता है। हां इतना अवश्य कहा जा सकता है कि इस समाचार पत्र ने मामले को उलटने के बजाय उसमें रोचकता लाकर बीच बाजार में छोड़ दिया ।

Read more

बिल्डर की दंबगई पर दैनिक भास्कर का “खेला”

राजनामा डॉट कॉम ने यदि शुरु से ही मीडिया चाहे वह प्रिंट मीडिया हो या इलेक्ट्रॉनिक मीडिया, उस पर भी सीधी नजर रखने की नीति अपनाई है तो इसका एक बड़ा कारण है कि प्रायः बड़े मीडिया हाउस से जुड़े पत्रकार अपने स्वार्थ में आकर किसी भी मामले को समाजिक स्तर पर प्रभावित कर डालते हैं। न्यायालय के फैसले से पहले ही उसे दोषी करार दे डालते हैं। कुछ इस तरह के रियूमर उड़ाते हैं कि मामले की पुलिस जांच यूं ही प्रभावित हो जाये।  आईये नजर डालते हैं राजनामा डॉट कॉम के संचालक-संपादक मुकेश भारतीय की एक उच्चस्तरीय षडयंत्र के […]

Read more

अब प्रेस रजिस्ट्रार कार्यालय के खिलाफ पुलिसिया जांच

बिहार में  दैनिक हिन्दुस्तान द्वारा करीब 200 करोड़ के विज्ञापन घोटाले में चल रहे अनुसंधान में उस समय नया मोड़ आ गया, जब पुलिस अधीक्षक पी. कन्नन के निर्देश पर पुलिस उपाधीक्षक ए.के. पंचालर ने इस आर्थिक अपराध के बड़े मामले में भारत सरकार के सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय के प्रेस रजिस्ट्रार कार्यालय।नई दिल्ली। को भी जांच के दायरे में शामिल कर लिया है । संभवतः यह पहली घटना है जब किसी अखबार के आर्थिक अपराध के बड़े मामले में प्रेस रजिस्ट्रार  कार्यालय को भी जांच के दायरे में शामिल किया गया हो । उच्च पदस्थ पुलिस सूत्रों ने आज बताया कि […]

Read more

बिना निबंधन निकल रहा सरकार का ‘झारखंड बढ़ते कदम’

झारखंड सरकार के सूचना एंव जन संपर्क विभाग की मासिक पत्रिका ” झारखंड बढ़ते कदम…. ” वर्ष 2004 से  बिना निबंधन के निकल रहा है। उसके हालिया अंक के अनुसार इस नियमित पत्रिका के संरक्षकः अर्जुन मुंडा, मुख्यमंत्री झारखंड). प्रधान संपादकः डी.के.तिवारी (भा.प्र.से.), प्रधान सचिव, सूचना एवं जन संपर्क विभाग. संपादकः शालिनी वर्मा, उप निदेशक, मुख्यमंत्री सचिवालय, जन संपर्क ईकाई. प्रकाशकः सूचना एवं जन संपर्क विभाग, मुख्यमंत्री सचिवालय, जन संपर्क ईकाई. परिकल्पना, अलंकरण एवं मुद्रणः सेतु प्रिंटर, न्यू एरिया, मोरहाबादी, रांची, झारखंड हैं। सेतु प्रिंटर के प्रोपराइटर के अनुसार बर्ष 2004 से प्रकाशित इस अनिबंधित मासिक पत्र की अभी 8,000 प्रतियां […]

Read more

कहां बिकता है अंग्रेजी दैनिक पायनियर की 52,661 प्रतियां ?

एक बात समझ में नहीं आती है कि कभी दैनिक जागरण, तो कभी दैनिक हिन्दुस्तान  तो कभी दैनिक संन्मार्ग तो अब प्रभात खबर के प्रेस से  छप कर अंग्रेजी दैनिक पायनियर  की 52 हजार 6 सौ 61 प्रतियां कहां बिकता है।  सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय ,भारत सरकार के डीएवीपी की वेबसाइट पर दर्ज आकड़ों के अनुसार रांची से प्रकाशित इस अंग्रेजी दैनिक की प्रसार संख्या 52,661 प्रतियां ( दिनांकः 01-12-2011) है। यह आकड़ा किसी चार्टेट एकांउटेट की रिपोर्ट पर दर्ज की गई है। विश्वस्त सूत्रों के अनुसार फिलहाल यह  अखबार किसी भी प्रेस से  कभी 10 हजार से अधिक प्रतियां  नहीं छपा है। वेशक यह […]

Read more

दैनिक हिन्दुस्तान पर डीएसपी ने ठोका मानहानि का मुकदमा

मुगेर जिले के हवेलीखड़गपुर अनुमंडल के आरक्षी उपाधीक्षक कृष्ण चन्द्र ने मुंगेर के मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी मनोज कुमार सिन्हा के न्यायालय में दैनिक ‘हिन्दुस्तान‘ के प्रधान संपादक शशिशेखर, भागलपुर संस्करण के स्थानीय संपादक विश्वेश्वर कुमार, संवाददाता आदित्यनाथ झा (भागलपुर कार्यालय), मुंगेर कार्यालय के व्यूरो चीफ मोहन कुमार मंगलम, वरियारपुर के संवाददाता संजय कुमार और मेसर्स जीवन टाइम्स प्रा.लिमिटेड,नाथनगर,भागलपुर के विरूद्ध भारतीय दंड संहिता की धाराएं 469-प्रतिष्ठा हननके उद्देश्य से जालसाजी,499-मानहानि,500-मानहानि के लिए सजा,504-शांति भंग करनेके इरादे से प्रयास और 505-सार्वजनिक बदसलूकी के तहत एक परिवाद-पत्र  दायर किया है । मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी मनोज कुमार सिन्हा ने परिवाद-पत्र को दंड प्रक्रिया संहिता […]

Read more

भास्कर के ‘पेड न्यूज़’ को लेकर झाविमो हुआ तल्ख

राजनामा.कॉम।  झारखंड की राजधानी रांची से प्रकाशित दैनिक भास्कर के पेड न्यूज को लेकर सांसद बाबूलाल मरांडी की पार्टी झाविमो के तेवर काफी तल्ख हो गये हैं। इस संदर्भ में झाविमो ने एक पत्र भेज कर भारतीय निर्वाचन आयोग से दैनिक भास्कर के खिलाफ पेड न्यूज़ और चुनाव कवरेज पर रोक लगाने की मांग की है। पत्र के अनुसार हटिया विधान सभा उप चुनाव को लेकर विरोधी दल द्वारा तथयहीन, भ्रामक और निराधार खबर प्रकाशित कराई जा रही है। उल्लेखनीय है कि विगत 9 मई को मुख्यतः रांची से प्रकाशित दैनिक भास्कर में बड़े नेताओं तक पहुंची सीबीआई  ,  झाविमो के लिये […]

Read more

बिहार में जालसाजों का जालसाज निकला दैनिक हिन्दुस्तान

राजनामा.कॉम (श्रीकृष्ण प्रसाद)। बिहार में करीब 200 करोड़ रूपये के दैनिक हिन्दुस्तान के विज्ञापन घोटाले में पुलिस अधीक्षक पी. कन्ननके निर्देशन में समर्पित आरक्षी उपाधीक्षक अरूण कुमार पंचालर की पर्यवेक्षण रिपोर्ट में नामजद अभियुक्त मेसर्स हिन्दुस्तान मीडिया वेन्चर्स लिमिटेड की अध्यक्ष और ऐडिटोरियल डायरेक्टर शोभना भरतीया, मुद्रक एवं प्रकाशक अमित चोपड़ा, प्रधान संपादक शशि शेखर, कार्यकारी संपादक अकु श्रीवास्तव और स्थानीय संपादक बिनोद बंधु के विरूद्ध भारतीय दंड संहिता की धाराएं 420।471 ।476 और प्रेस एण्ड रजिस्ट्रेशन आफ बुक्स एक्ट, 1867 की धाराएं 8।बी0।,14 और 15 के तहत लगाए गए सभी अभियोगों को प्रथम दृष्टया सत्य पाए जाने की घटना में […]

Read more

काटजू जी, देखिये झारखंडी मीडिया की चाल-चरित्र

राजनामा.कॉम (मुकेश भारतीय) ।  झारखंडी मीडिया का एक विशेष गुण। जो जितना बड़ा चोर-उतना ही जोर से मचाता है शोर। बात चाहे प्रिंट मीडिया की हो या इलेक्ट्रॉनिक मीडिया की। हमाम में  सब नंगे। इसी संदर्भ में एक नई कड़ी जुट गई है कि यहां आम जनता के अरबो-खरबों रुपये की गाढ़ी कमाई को बिल्डर-माफियओं की फौज ने लूट लिया। आज वे ही समाचार-पत्रिकायें व न्यूज़ चैनलें सुर्खियां बना रही है,जिनकी परोक्ष-अपरोक्ष तौर पर मिलीभगत रही है।  आज-कल रांची से प्रकाशित दैनिक हिन्दुस्तान ने बाजाप्ता बिल्डरों के कारनामों को कलंक कथा नाम से भुना रहा है। वह जिस प्रकार की सूचनायें […]

Read more
1 11 12 13