खनन माफियाओं के खिलाफ कोई नहीं सुनता

आज कल गीता कोड़ा जी काफी गुस्से में दिखती हैं। वह गुस्सा इस बात को लेकर नहीं है कि उनके पति यानि पूर्व मुख्यमंत्री एवं सासंद मधु कोड़ा आर्थिक अपराध के आरोप में करीब 3 सालों से केन्द्रीय बिरसा कारागार में बंद हैं। बल्कि वह कुपित इस बात को लेकर हैं कि खनन माफियाओं के खिलाफ कहीं कोई सुनने वाला नहीं है। जगन्नाथपुर के विधायक गीता कोड़ा कहती हैं कि ….  “सरकारी अफसरों और माफियाओँ की गठजोड़ के बल लौहांचल में लौह अयस्क की तस्करी निरंतर जारी है,  जिससे राज्य को आर्थिक व सामाजिक नुकसान हो रहा है।  बकौल गीता कोड़ा, […]

Read more

झारखंड सरकार के संरक्षण में अमेरिका से चल रही है फर्जी ‘आपका सीएम.कॉम’ वेबसाइट

झारखंड में कायदा-कानून नाम की कोई चीज नहीं बची है। हालत यह है कि सत्ताशीर्ष पर बैठे लोग ही इसकी धज्जियां उड़ा रहे हैं। जहां एक ओर भाजपानीत अर्जुन मुंडा सरकार के संचालन समिति के अध्यक्ष एवं झामुमो सुप्रीमों शिबू सोरेन नगड़ी में रांची हाई कोर्ट के फैसले के विरुद्ध जाकर अधिग्रहित जमीन पर ग्रामीणों से हल चलाने का फरमान जारी कर डालते हैं , वहीं करोड़ों रुपये के सरकारी खर्च व दुरुपयोग के साथ ही सरकारी संरक्षण में श्री अर्जुन मुंडा का www.aapkacm.com  का फर्जी संचालन जारी है। इस मुद्दे को राजनामा.कॉम ने सप्रमाण करीब चार माह पहले ही “ अर्जुन मुंडा सरकारी […]

Read more

अविश्वास और उत्पीड़न का पर्याय है झारखंड पुलिस

जब किसी भी सिस्टम का फिल्टर खराब हो जाये, तब अविश्वास और उत्पीड़न जन्म लेता है। आज हम बात करते हैं पुलिस फिल्टर सिस्टम की। इसमें कोई शक नहीं कि पुलिस नेताओं खास कर सत्ता पर कुंडली मार कर बैठे व्यूरोकेट्स के इशारे पर नाचती है। एक आम आदमी के दुःख-दर्द और उसकी सच्चाई कोई मायने नहीं रखती। एक चौकीदार-कांस्टेवल से लेकर पुलिस सिस्टम का हर महकमा अधिक से अधिक काली कमाई करने पर उतारु है। हम यह नहीं कहते कि इस सिस्टम से जुड़े हर लोग निकम्मे और भ्रष्ट हैं। लेकिन इतना तो सत्य है कि इस सिस्टम में अगर […]

Read more

कहां बिकता है अंग्रेजी दैनिक पायनियर की 52,661 प्रतियां ?

एक बात समझ में नहीं आती है कि कभी दैनिक जागरण, तो कभी दैनिक हिन्दुस्तान  तो कभी दैनिक संन्मार्ग तो अब प्रभात खबर के प्रेस से  छप कर अंग्रेजी दैनिक पायनियर  की 52 हजार 6 सौ 61 प्रतियां कहां बिकता है।  सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय ,भारत सरकार के डीएवीपी की वेबसाइट पर दर्ज आकड़ों के अनुसार रांची से प्रकाशित इस अंग्रेजी दैनिक की प्रसार संख्या 52,661 प्रतियां ( दिनांकः 01-12-2011) है। यह आकड़ा किसी चार्टेट एकांउटेट की रिपोर्ट पर दर्ज की गई है। विश्वस्त सूत्रों के अनुसार फिलहाल यह  अखबार किसी भी प्रेस से  कभी 10 हजार से अधिक प्रतियां  नहीं छपा है। वेशक यह […]

Read more

झारखंड सूचना आयोग के आयुक्तः अयोग्य या निकम्मे ?

झारखंड में सूचना अधिकार की भारी दुर्गति है। यहां जिस तरह से सरकारे डावांडोल रही है, ठीक उसी तरह से उसकी सूचना व्यवस्था। राज्य के विभिन्न हिस्सों से जिस तरह की खबरें आ रही है, उसे देख कर यही लगता है कि राज्य सूचना आयोग मात्र सफेद हाथी और आयुक्त उसकी पीठ पर बैठी मक्खी से अधिक कुछ नहीं है। अगर ऐसा नहीं है तो फिर अदद गांव स्तर से लेकर राज्य स्तर पर अधिकारी लोग सूचना अधिकार अधिनियम की धज्जियां क्यों उड़ा रहे हैं? वे जन हित में आवश्यक-सही सूचना देने के बजाय बहानेबाजी और अनाप-शनाप प्रक्रिया क्यों अपना रहे हैं […]

Read more

न्यूज़11 चैनल की कलंक कहानीः एक भुक्तभोगी की जुबानी

राज़नामा.कॉम ( मुकेश भारतीय)। एक पुरानी कहावत है कि घर का भेदिया लंका ढाहे। अगर विभीषण न होता तो सोने की लंका न जलता और रावण न मरता। आज मित्र ने कुछ ऐसे ही सूचना दी। फेसबुक पर अपने एकांउट में फिलहाल साधना न्यूज चैनल में कार्यरत कुंदन कृतज्ञ ने रांची के ही न्यूज़11 चैनल के बारे में जिस तरह की पोल खोल रहे हैं, उसे राजनामा.कॉम उनकी ही शब्दों में हु-ब-हु सामने रख रहा है। इसमें कितनी सच्चाई है, राम जाने। हो सकता है कि किसी दुर्भावनावश इसे एक पक्षीय स्वरुप में ढाला गया हो।  लेकिन इससे इतना तो तय […]

Read more

किसका मोहरा है दुर्गा मुंडा उर्फ दुर्गा उरांव ?

 गौर से देखिये इस शख्स को। इसका नाम है दुर्गा मुंडा उर्फ दुर्गा उरांव। राजकीय व्यवस्था के अभिलेखों में यह दुर्गा मुंडा है तो न्यायालय को सौंपे दस्तावेजों में दुर्गा उरांव। यह शख्स अब आम नहीं,काफी खास हो गया है। बिल्कुल अनपढ़ और गवंई दिखने वाला यह शख्स आज जिस रुप में उभर कर सामने आया है,उसमें छुपे राज़ काफी चौंकाने वाले हैं। झारखंड हाई कोर्ट में इसी शख्स एक पीआईएल दर्ज किया था। न्यायालय ने जिस पर सुनवाई की और  जब मामला आगे बढ़ा तो पूर्व मुख्यमंत्री मधु कोड़ा समेत कई लोग जेल पहुंच गये। शायद भारत जैसे विश्व के […]

Read more

वन्यप्राणी सप्ताह-2011 चित्रांकण प्रतियोगिता में माउंट कार्मेंल की छात्रा निधि रानी को प्रथम स्थान

राजनामा.कॉम। रांची के भगवान बिरसा जैविक उद्यान में वन्यप्राणी सप्ताह-2011 चित्रांकण प्रतियोगिता में माउंट कार्मेंल की छात्रा निधि रानी ने प्रथम स्थान प्राप्त किया है। इस प्रतियोगिता में प्रांत के कुल 51 विद्यालयों के सैकड़ों छात्र-छात्राओं ने भाग लिया और सर्वश्रेष्ठ चित्रांकण प्रतियोगी का चयन दूरदर्शन, रांची की टीम ने की।

Read more

रांची भू-अर्जन कार्यालयः दलाल-बाबूओं का रामराज

यह नजारा है राजधानी रांची स्थित जिला भू-अर्जन कार्यालय की। यहां बड़े मियां तो बड़े मियां सुभान अल्लाह वाली कहावत चरितार्थ है। किसी भी टेबुल पर आप खड़े-खड़े उब जायेगें,लेकिन सामने किसी बाबू साहेब के गनीमत से भी दर्शन न हो पायेगें। यहां हर तरफ सिर्फ मनमानी ही मनमानी का नजारा दिखेगा।जिला भू-अर्जन पदाधिकारी से बात कीजिए। इनका कहना है कि यहां के नजारे से विचलित न हों,समूचे झारखंड का यही हाल है।हर जगह ऐसे ही काम चलता है। ऐसे में कोई काम होने की कल्पना आप समझ सकते हैं। एन.एच-33 के फोरलेनिंग, रिंग रोड आदि जैसे परियोजनाओं के लिये व्यापक […]

Read more

सन्मार्ग से बैजनाथ मिश्र की छुट्टी! रजत गुप्ता की वापसी!

रांची से प्रकाशित हिंदी दैनिक सन्मार्ग से वरिष्ठ पत्रकार श्री बैजनाथ मिश्र (हाल ही में राज्य सूचना आयुक्त के पद से सेवानिवृत हुए) की विदाई हो गई है। वे पिछले पखवारे ही इस अखबार के पीआरबी अधिनियम के तहत समाचारों के लिए जिम्मेवार(!) प्रधान संपादक बनाये गए थे। श्री मिश्र के सन्मार्ग जैसै छोटे अखबार से इतनी जल्दी विदाई की किसी ने कल्पना भी न की होगी। अखबार के आज 15 अगस्त के प्रिंट लाइन के अनुसार रजत कुमार गुप्ता संपादक पद पर वापस लौट आए हैं और अखबार के मुद्रक-प्रकाशक प्रेम ने भी संपादक पद छोड़ दिया है। हिंदी दैनिक […]

Read more

सीएम अर्जुन मुंडा के प्रेस कॉन्फ्रेस में हावी रहे झारखंड के चिरकुट पत्रकार

आज झारखंड के सीएम अर्जुन मुंडा की प्रेस कॉन्फ्रेंस था। उसे देखकर यह दावे के साथ कहा जा सकता है कि यहां के पत्रकारों में जनमुद्दों पर सवाल खड़े करने की इच्छाशक्ति ही नहीं बची है । वेशक यह एक सरकारी आयोजन था, जिसे हर मोर्चे पर विफल सीएम ने अपनी कामयाबी का ढिंढोरा पीटने के लिए आयोजित किया गया था। इस प्रेस कॉन्फ्रेस में पत्रकारों एक बड़ा समुह लीक से हटकर सवाल कर रहे थे। उससे साफ जाहिर होता है कि यहां के पत्रकार कितने बड़े चिरकुट हैं। बात यही खत्म नही होती। सत्ता पक्ष से जुड़े़ एक खास वर्ग […]

Read more
1 38 39 40