भारत में कुछ नहीं कर सकता लोकपाल

लोहे को लोहा से या उससे ज्यादा प्रभावी चीज से काटा जा सकता है।  लकडी से काटने की बात करने वाला मुर्ख माना जायेगा। इसीलिये मैं चुन चुन कर छटे हुये शब्दो का इसतेमाल खुजलीवाल और उसके पेड चमचो के लिये करता हूं। मैं शुरुआत से हीं किसी भी प्रकार के लोकपाल के खिलाफ़ था। लोकपाल जिसे अंगेजी में ombudsman कहते हैं, वह दुनिया के पचासो छोटे छोटे मुल्क मे है। भारत मे भी विभिन्न विभागों में विभागीय लोकपाल है , कोई बदलाव नही दिखता । भारत जैसे बड़े मुल्क में लोकपाल कुछ नही कर सकता , कितने लोकपाल नियुक्त करोगे […]

Read more

केजरीवाल की ‘राज’ पर कांग्रेस की ‘नीति’

AAP से भिड़ने को कांग्रेस ने बनाई रणनीतिः दिल्ली की गद्दी पर 49 दिन विराजमान रहने के बाद अरविंद केजरीवाल ने जन लोकपाल बिल के मुद्दे पर इस्तीफा दिया, तो कयास लगाए जाने लगे कि यह कदम लोकसभा चुनावों से पहले हाथ खाली करने के लिए उठाया गया है, ताकि खुद को पूरी तरह प्रचार में झोंका जा सके। जाहिर है, अगर आम आदमी पार्टी ने अपनी रणनीति चमकानी शुरू कर दी है, तो दिल्ली के सीएम पद से केजरीवाल के इस्तीफा देते ही कांग्रेस भी अपने तरकश के तीर को धार देने लगी है, जिसे दिल्ली में AAP की वजह […]

Read more

अब त्रिकोनात्मक होगा लोकसभा चुनाव

केजरीवाल ने दिल्ली के मुख्यमंत्री पद से बेशक इस्तीफा दे दिया है। परन्तु यह मानना जल्दबाजी होगी कि अरविंद केजरीवाल चुक गये हैं। अल्पमत की सरकार होने के वावजूद इतने कम दिनों में एफडीआई पर केंद्र सरकार के निर्णय को पलट देना, कॉमन वेल्थ घोटाले कि फ़ाइल फिर से खोलना और शीला दीक्षित समेत ४ अन्य आरोपियों पर एफआईआर दर्ज करने का आदेश देना। और सबसे अहम अपने प्रमुख मुद्दे “जन लोकपाल” पर अड़कर “आप” की सरकार कुर्बान करना केजरीवाल की आगे कि राजनीति का हिस्सा है। “जन लोकपाल” के मुद्दे पर तो उन्हें अन्ना का साथ मिलने कि पूरी उम्मीद […]

Read more

आज छद्म के रूप में अवशेष है मीडिया

कुर्सी चाहें सम्पादक की हो या फिर चाहें मीडिया जगत के धुरन्धरों की, इन कुर्सियों पर बैठे महानुभाव भले ही बेहतर अग्रलेख लिखने की योग्यता न रखते हों लेकिन जिलों और तहसीलों के संवाददाताओं से वसूली में उन्हें महारत हासिल है।  यही नहीं बेरोजगारों, दहेज़ प्रताड़ितों तक की न्यूज ये लोग पैसा लेकर प्रकाशित व प्रसारित करते हैं और इसी बजह से स्थानीय पत्रकारों की इमेज न के बराबर रह गयी है । हां मैं मानती हूँ कि हर व्यक्ति को अपने जीवन स्तर के उत्थान की दौड़ में शामिल होने का हक है,लेकिन अपने वजूद को बेचकर नहीं । अब […]

Read more

ऐसा फेसबुकिया भक्त, जिसने किया मोदी की नाक में दम !

मोदी का मजाक बनाने वाला इंटरव्यू! सोशल मीडिया पर नरेंद्र मोदी का जितना प्रचार-प्रसार हो रहा है, उतने ही तंज कसे जा रहे हैं। फेसबुक पर मोदी के एक तथाकथित भक्त का ऐसा इंटरव्यू वायरल हो रहा है, जिसे पढ़कर आप हंसते रह जाएंगे। इन दिनों सोशल नेटवर्किंग साइट पर राहुल गांधी, नरेंद्र मोदी और अरविंद केजरीवाल के पक्ष और विपक्ष में खूब बातें कही-सुनी जा रही हैं। लेकिन यह इंटरव्यू काफी खास है, जिसमें मोदी की तारीफ के बहाने उन्हीं पर हमला किया गया है। संभावना है कि सोशल मीडिया की लहर पर सवार यह इंटरव्यू किसी न किसी तरह […]

Read more

आखिर शाहिद अली खां से कौन सी दुश्मनी चुकाई गई ?

बिहार सरकार ने अपने अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री शाहिद अली खां को क्यों अपमानित होने दिया ? 8 जनवरी को पूरे दिन समाचार चैनलों पर उनपर आतंकियों से सम्बन्ध होने के आरोप लगते रहे , शाहिद अकेले उस आरोप से जूझते रहे, न मुख्यमंत्री न कोई मंत्रिमंडलीय सहयोगी उनके बचाव में आगे आया। आरोप भी निराधार नहीं था। केंद्र सरकार की एक सुरक्षा एजेंसी के पत्र में उनपर सिमी और आईएसआई के आतंकियों के साथ सम्बन्ध रखने का संदेह व्यक्त किया गया था। इस पत्र के आधार पर ही समाचार चैनलों पर खबर चल रही थी। हैरानी की बात यह है कि […]

Read more

आआपा में शामिल होते ही धुल गये परवीण के पाप !

एक भ्रष्ट और आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं से मासिक वसूली करने वाली।  सीडीपीओ और आंगनबाड़ी सुपरवाईजरों की भर्ती में खुले रूप से पैसों का लेन-देन कराने वाली।  बेटी के नाम पर बियाडा से गलत तरीके से जमीन आवंटित कराने वाली। फारबिसगंज गोलीकांड का जिम्मेवार।  जिसमें सात अल्पसंख्यक मारे गये थे।   अनंत सिंह से एक जमीन पर कब्जे को लेकर विवादित बिहार के पूर्व समाज एवं परिवार कल्याण मंत्री परवीन अमानउल्लाह के सारे दाग धूल गये। क्योंकि अब वो आआपा में शामिल हो गई है।  …… फेसबुक पर राजेश रंजन की पोस्ट और उस पर क्रिया-प्रतिक्रियाः Ranjan Kumar and 27 others like this. 7 shares Anurag […]

Read more

मान्यवर खुजलीवाल के नाम खुला पत्र

मान्यवर, सबसे पहले तो आपको बधाई देता हूं आक्रोषित आवाम को उल्लू बनाकर उनके आक्रोष की आग से भ्रष्टो एवं पूंजीवादियो को बचाने के लिये गहरी साजिश रचकर गलत दिशा मे मोडने एवं उसकी लहर पर सवार हो कर सता मे काबिज होने के लिये। ईतिहास न तुम्हे ब्रूटस मानेगा न जय चंद । गुलाम मानसिकता की शिकार जनता को रटू तोते जो आईएएस बन जाते है , विद्वान दिखने लगते है इन विद्वानो का कथन शाश्वत सत्य एवं स्वार्थ का कार्य त्याग दिखता है। तुम यह दिखावा बंद कर दो कि तुमने कोई त्याग किया है । तुमने नौकरी गांधी का […]

Read more

मोदी नहीं, मुबारक का भाषण सुन रहे हैं ओबामा

मोदी-ओबामा की तस्वीर ने मचाया बवाल  गुजरात के मुख्यमंत्री और भाजपा के पीएम पद के दावेदार नरेंद्र मोदी इन दिनों आक्रामक मुद्रा में नजर आ रहे हैं। यह और बात है कि गरीबी के जिस मुद्दे को लेकर उन्होंने केंद्र सरकार पर हमला बोला था, उनके अपने राज्य में मंत्री वही गलती दोहरा रहे हैं और वो चुप्‍पी साधे हैं। लेकिन भाजपा को इन दिनों मोदी के अलावा कुछ नहीं दिख रहा। उनके नाम पर वह आगामी चुनावों में जीत दर्ज करने के लिए हर कोशिश करने को तैयार है और इसका एक असर सोशल मीडिया पर भी दिख रहा है।  […]

Read more

चोरनी अब खुद को पाक-साफ़ होने का कर रही है दावा

बिहार के भ्रष्टतम मंत्रियो मे से एक परवीन अमानुल्लाह ने इस्तीफ़ा दे दिया। यह समाज कल्याण विभाग की मंत्री थी और इसके अपने दलाल थे, जिनके माध्यम से पैसे की वसुली करती थी। उन दलालो मे एक है विरेन्द्र सिंह इंजीनियर , जो इसके विभाग के किसी पद पर नही है परन्तु आंगनवाडी केन्द्रो पर जाकर के वसुली करता था।  जो पैसा नही देता था उसको हटाने की अनुशंसा कर देता था।  मंत्रालय से सीधे फ़ोन आता था कि इंजीनियर विरेन्द्र सिंह को निरीक्षण करने दिया जाय । इसकी अनुशंसा को जिला कलक्टर भी मानता था । एक अनधिकृत व्यक्ति द्वारा निरीक्षण और […]

Read more
1 21 22 23 24 25 29