यहां सीबीआई के पूर्व निदेशक को मिलते हैं ऊंचे ओहदे

सीबीआई जांचों के फेल होने की वजहों का भयानक सच :    -: प्रभात रंजन दीन :- सीबीआई के निदेशक रहे अश्वनी कुमार सीबीआई से रिटायर होने के बाद और नगालैंड के राज्यपाल बनाए जाने के पहले नवीन जिंदल के प्रतिष्ठान में नौकरी कर रहे थे। सीबीआई के कई पूर्व निदेशक व वरिष्ठ नौकरशाह जिंदल संगठन में अभी भी नौकरी कर रहे हैं।  सीबीआई के निदेशकों को रिटायर होते ही जिंदल के यहां नौकरी कैसे मिल जाती है? सत्ता के गलियारे में पैठ रखने वाले वरिष्ठ नौकरशाहों को जिंदल से जुड़े प्रतिष्ठानों में प्रभावशाली ओहदों पर क्यों बिठाया जाता है? ताकतवर नौकरशाह जिंदल के संस्थानों […]

Read more

नहीं पकड़ा गया ‘रागांग्रावियो घोटाले’ का सरगना

 पूर्व मुख्यमंत्री मधु कोड़ा के राज में हुई राजीव गांधी ग्रामीण विद्युतीकरण योजना घोटाला के प्रमुख आरोपी रोहितास कृष्णन का कोई सुराग पाने में सीबीआई अब तक विफल रही है। वहीं इस मामले में सीबीआई द्वारा सुप्रीम कोर्ट के निर्धारित समय सीमा के भीतर चार्ज शीट दाखिल नहीं किया जाना अनेक सबाल खड़ा करते हैं। क्योंकि इस मामले के दो हाईप्रोफाइल आरोपी पूर्व मुख्यमंत्री मधु कोड़ा व उनके कथित मास्टर माइंड सहयोगी विनोद सिन्हा को इस बिना पर करीब 3 वर्ष बाद जमानत दे दी गई है कि उन दोनों के विरुद्ध निर्धारित समय सीमा के भीतर सीबीआइ चार्जशीट दाखिल नहीं […]

Read more

झारखंडः यूं लूट रहा है जनता की गाढ़ी कमाई

झारखंड की अधिकांश आबादी गरीबी रेखा से नीचे बसर करती है, जिनकी सुबह दो वक्त की रोटी के जुगाड़ में शुरू होता है और रात दूसरे दिन की चिंता के साथ खत्म हो जाता है। तब जाकर उनका पेट भरता है। लेकिन इनके बारे में न सोच कर झारखंड की सरकार इन गरीबों का पैसा फ्री में लुटाये जा रही है। जी हां झारखंड सरकार हेलीकॉप्टर को बिना उड़ाये ही प्रतिमाह 31.25 लाख रुपये भाड़ा दे रही है, जो भाड़ा जनवरी महीने से अब तक करोड़ों रूपए का हो चुका है।                              हेलिकॉप्टर से यात्रा न करने के बारे में बताया […]

Read more

सत्ता का इस्तेमाल करने में दैनिक प्रभात खबर का कोई सानी नहीं

वाकई सत्ता का इस्तेमाल अगर कोई करता है, उसमें मीडिया हाउसों का भी कोई सानी है। यदि हम बात करें झारखंड की राजधानी रांची से प्रकाशित हिन्दी दैनिक प्रभात खबर की तो यह अखबार सत्ता का जी भर इस्तेमाल करते आ रहा  है और  जो कोई भी इसके आड़े आता है तो  यह अखबार  उसकी ऐसी की तैसी कर डालती है । इस अखबार का खौफ झारखंड की व्यवस्था के हर क्षेत्र में व्याप्त है। राजधानी रांची के आलावे प्रांत के कई हिस्सों में दैनिक हिन्दुस्तान, दैनिक जागरण, दैनिक भास्कर जैसे राष्ट्रीय अखबारों के पदार्पन के बाद भी दैनिक प्रभात खबर […]

Read more

बुनियादी भ्रष्ट-तंत्र का एक आयना है रमा खलको

राज़नामा.कॉम।  झारखंड की राजधानी रांची के मेयर चुनाव के मतदान के ठीक एक दिन पहले उजागर हुये नोट फॉर वोट मामले से चर्चा में आई रमावति तिग्गा उर्फ रमा खलको अपने पांच सालों के कार्यकाल में करोड़पति बन गई। कभी इंदिरा आवास के इस दावेदार ने बीच रिहाईशी इलाके में बंगला-कोठी बना लिया।  कहा जाता है कि रमा खलको ने एचइसी परिसर के दो कमरे के छोटे से मकान में पली-बढ़ी थी। पति नरायण महतो के बेरोजगार होने के कारण घर की माली हालत भी काफी अच्छी नहीं थी। रमा को जानने वाले बताते हैं कि राजनीति में आने से पहले […]

Read more

मीडिया का मुंह सील गये हैं भाजपा के अर्जुन मुंडा !

भाजपा के श्री अर्जुन मुंडा सीएम की कुर्सी से जाते-जाते सरकारी खजाना उड़ेल कर मीडिया के मुंह सील दिये हैं। यही कारण है कि मीडिया में झारखंड वास्तविक हृदय विदारक तस्वीर दिखाई नहीं दे रहा है। जिस मीडिया हाउस की जितनी बड़ी पहचान, उसे उसी अनुपात में विज्ञापन आवंटित किये गये हैं। कहा जाता है कि श्री मुंडा द्वारा झारखंड सूचना एवं जन संपर्क विभाग के वर्तमान निदेशक आलोक कुमार को सीसीएल से उठा कर मीडिया को विज्ञापन का मनचाहा टुकड़ा फेंक कर पटाने के लिये ही लाया गया है।  श्री कुमार राजधानी रांची के स्थानीय होने के साथ होटल समेत […]

Read more

बड़े मियां क्या,छोटे मियां भी सुभान अल्लाह

बड़े मियां तो बड़े मियां..छोटे मियां भी सुभान अल्लाह। जी हां, झारखंड की मीडिया और सत्ता की सांठ-गांठ उक्त कहावत को खूब चरितार्थ करती है।  भाजपा के अर्जुन मुंडा ने तो सीएम की कुर्सी से जाते-जाते ऐसा कमाल कर गये कि बड़े मीडिया हाउस के समाचार पत्र-पत्रिकायें तो दूर कुकुरमुत्ता छाप उगे प्रायः जेबी समाचार पत्र-पत्रिकायें भी उनकी तरफ अपनी पलक उठाने की नैतिक साहस न कर सके। हालिया मिली जानकारी के अनुसार झारखंड सूचना एवं जनसंपर्क विभाग द्वारा वर्ष 2011-2012 में कुल 141 पत्रिकाओं  को विज्ञापन निर्गत किये गये हैं। वर्ष 2008-2009 में इसकी कुल संख्या 77 थी। वर्ष 2009-2010 […]

Read more

aapkacm.com के नाम पर घोटाला

हालिया सीएम की कुर्सी से हटाये गये भाजपा के अर्जुन मुंडा के कार्यकाल में भी लूट के कई हैरतअंगेज कारनामें हुये हैं। एक ऐसा ही काला कारनामा है खुद उनके द्वारा www.aapkacm.com के नाम पर लाखों की घपलेबाजी। चूकि मुंडा जी के राज में प्रभावी मीडिया हाउसों एवं पत्रकारों की अधिक चांदी रही है, इसलिये वे इस दिशा में अकर्मण्य बने हुये हैं। राज्य में राष्ट्रपति शासन लागु हो जाने के बाद भी उक्त वेबसाइट के नाम पर शून्य उपलब्धि में सरकारी खजाने की लूट बदस्तूर जारी है। सूचना अधिकार अधिनियम-2005 के तहत झारखंड सरकार के सूचना प्रौद्दौगिकी विभाग के अवर सचिव […]

Read more

उगाही और जमीन दलाली में लगी है झारखंड पुलिस महकमा

आज झारखंड की राजधानी रांची अपराधियों के हवाले है। यहां पुलिस में नीचे से उपर स्तर तक प्रायः संगीन मामलों की जांच  में कोई गंभीरता नहीं बरती जाती है। इसका एक बड़ा कारण झारखंड विधानसभा अध्यक्ष एवं रांची विधायक सीपी सिंह के उस बयान को माना जा सकता है, जिसमें उन्होंने साफ तौर पर कहा था कि   समूचा पुलिस महकमा सिर्फ उगाही और जमीन दलाली में लगा है। स्थिति कितनी गंभीर है, इसका अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि विधानसभा अध्यक्ष को मोबाइल पर मिली धमकी को भी उनके आवास के ठीक  20-25 मीटर सामने स्थित गोंदा थाना […]

Read more

झारखंड जल संसाधन विभाग का जालसाज

किसी भी व्यक्ति का नाम, पिता का नाम एवं जन्मतिथि में अंतिम दो चीजें पिता का नाम और जन्म तिथि हमेशा के लिये अपरिवर्तनीय है और यही उस व्यक्ति की मूल पहचान होती है। योग्यतायें , पदनाम आदि अतिरिक्त पहचान की श्रेणी में आती है। लेकिन झारखंड जल संसाधन विभाग में विधि समन्वयक (यांत्रिक अभियंता) मुचि राम कोयरी उर्फ मुनि राम कोइरी उर्फ मुनिराम प्रसाद की जालसाजी के आगे कोई मायने नहीं रखती। पिछले 30 वर्षों के ( कु)सेवा काल में इस शख्स ने खुद को जिस तरह से प्रस्तुत किया है, वह किसी नटवरलाल के कारनामे से कम नहीं है […]

Read more

बिजली के इस बड़े चोर के खिलाफ क्या हुई ठोस कार्रवाई

झारखंड राज्य बिजली बोर्ड की सबसे बड़ी समस्या बड़े चोरों की है। यहां कई बड़े-बड़े उद्योगपति व्यापक पैमाने पर बिजली चोरी करते आ रहे हैं। ऐसी बात नहीं है कि बिजली विभाग के अधिकारी-कर्मचारी गंभीर नहीं होते। वे यदा-कदा गंभीर होते भी हैं तो उन पर सरकार स्तर पर भी कोई कार्रवाई नहीं हो पाती है और येन-केन-प्रक्ररेण मामले को दबा दी जाती है। यदि घोर बदहाली झेल रहे झारखंड के उपर से मलवे हटाये जाये तो बिजली के कई बड़े चोर यू हीं बेनकाब हो जायेगें।  फिलहाल, झारखंड में ऐसे ही बिजली के एक बड़े चोर कंपनी का नाम उभर […]

Read more

मरांडी जी ने किया था 50 करोड़ रु. माफ

उषा मार्टिन ग्रुप का झारखंड की सत्ता पर पकड़ काफी मजबूत रही है। अलग राज्य के बाद तो इस कंपनी की तूती बोलने लगी। यहां शायद ही कोई ऐसा नेता चाहे वह पक्ष हो या विपक्ष, इसके लूट के खिलाफ एक शब्द भी बोलने की हिमाकत करे। अगर किसी ने उसके खिलाफ जाने की जरा सा भी जुर्रत किया तो इस कंपनी ने उसकी ऐसी की तैसी कर डालने में कोई कोर कसर नहीं छोड़ी है। क्योंकि इस कंपनी के हाथ में है झारखंड, पश्चिम बंगाल और बिहार का एक मीडिया हाउस। कहा जा सकता है कि मूलतः खनिज संपदा की […]

Read more
1 5 6 7 8