समाज सेवा पेशा से जुड़े हरिनारायण सिंह बन गये कथित द रांची प्रेस क्लब के उपाध्यक्ष !

राजनामा.कॉम। तथाकथित द रांची प्रेस क्लब के निबंधन में भारी गड़बड़ियां बरती गई है। जहां एक तरफ निबंधन कार्यालय ने उन गड़बड़ियों को नजरअंदाज किया है वहीं, इस कथित क्लब के रहनुमाओं ने अपनी ही नियमावली को ताक पर रख दिया है। राजनामा.कॉम के पास उपलब्ध दस्तावेज के अनुसार कथित द रांची प्रेस क्लब संस्था की सदस्यता की मूल शर्त है कि जो पत्रकारिता से जुड़ा है। कार्यकारिणी समिति का गठन में साफ उल्लेख है कि संस्था की कार्यकारिणी समिति में पदाधिकारियों सहित कुल सात सदस्य होगें, जिनका कार्यकाल 2 वर्ष का होगा। सदस्यों की संख्या असीमित बताई गई है और […]

Read more

रांची के ऐसे पत्रकार संगठन के अध्यक्ष और अखबार के संपादक पर मुझे शर्म है

-: मुकेश भारतीय :- बनिया सिर्फ बनिया होता है। वह सब कुछ अपनी नफा-नुकसान के तराजू पर तौलता है। यदि हम रांची के पत्रकारों की बात करें तो प्रायः वे ऐसे ही बनिया नजर आते हैं। बात जब किसी संपादक-प्रकाशक-पत्रकार की हो तो उनकी बनियागिरी काफी स्पष्ट हो जाती है। आगे लिखने से पहले स्पष्ट कर दूं कि बनिया शब्द का आशय किसी जाति विशेष से नहीं है। बल्कि मूल सांकेतिक डंडीमार धंधे से है। जिसकी व्यापक पैमाने पर व्याख्या करने के साथ आत्म चिंतन-मंथन होनी चाहिये। बीते कल एक पत्रकार संगठन के अध्यक्ष और एक दैनिक अखबार के संपादक से मुलाकात-बात […]

Read more

सिर्फ प्रेस क्लब भवन कब्जाने के लिये चंद मठाधीश लोग चाहते हैं फर्जी संस्था का अवैध चुनाव !

राजनामा.कॉम। रांची प्रेस क्लब है या द रांची प्रेस क्लब ? इसमें वैध कौन है और अवैध कौन?  रांची की मीडिया और व्यवस्था के सामने एक बड़ा सबाल उभर कर सामने आया है। तेतरटोली, बरियातु निवासी इन्द्र देव लाल द्वारा मांगी गई आरटीआई पर अवर सचिव सह जन सूचना पदाधिकारी, निबंधन प्रभाग, रांची (झारखंड) की स्तर से जो दस्तावेज उपलब्ध कराये गये हैं, उससे साफ स्पष्ट होता है कि न तो रांची प्रेस क्लब वैध है और न ही द रांची प्रेस क्लब। क्योंकि दोनों में कहीं कोई विभेद नजर नहीं आता जबकि फर्जी तरीके से समान प्रक्रिया अपनाई गई है। […]

Read more

एक बड़े फर्जीबाड़े की उपज है रांची प्रेस क्लब या द रांची प्रेस क्लब !

राजनामा.कॉम। रांची प्रेस क्लब या द रांची प्रेस क्लब? दोनों में से कोई भी हो। इसमें बहुत ही गड़बड़झाला है। उक्त कथित संस्था के निबंधन के समय से लेकर आज तक यही हो रहा है। जो कि एक पद्मश्री अवार्ड से सम्मानित बलबीर दत्त सरीखे संपादक से लेकर कथित संस्था से जुड़े अन्य सभी पत्रकार सदस्यों  के साथ बड़ी मुसीबत खड़ी कर सकती है। एक आरटीआई के जरिये राजनामा.कॉम के पास जो अधिकारिक कागजात उपलब्ध कराये गये हैं, उसके मुताबिक संस्था के रहनुमाओं और निबंधक की मिलीभगत से एक बड़ा फर्जीबाड़ा किया गया है। संस्था निबंधन के प्रक्रियाओं का प्रावधानानुसार कहीं […]

Read more

कहां है द रांची प्रेस क्लब भवन? डाकघर से यूं लौटी लीगल नोटिश

राजनामा.कॉम। आखिरकार ठीक वैसा ही हुआ, जैसा कि पहले से अंदेशा था। द रांची प्रेस क्लब के सचिव और  अध्यक्ष के नाम राजनामा.कॉम के प्रधान संपादक मुकेश भारतीय के अधिकृत झारखण्ड उच्च न्यायालय के अधिवक्ता बी.एन.झा की ओर से भेजी गई लीगल नोटिश वैरंग वापस लौट आई। वरिष्ठ अधिवक्ता श्री झा द्वारा रांची प्रेस क्लब की अधिकृत वेबसाइट और संस्था निबंधन कार्यालय में दर्ज समान पता पर 28 नवंबर,2017 को प्रेसीडेंड, द रांची प्रेस क्लब, रजि. ऑफिसः करमटोली चौक, बूटी रोड, रांची-834008 के पते पर नोटिश भेजी थी। इसी पते पर सेक्रेटरी के नाम भी नोटिश भेजे गये थे। भारतीय डाक विभाग की […]

Read more

गोड्डा के पत्रकार नागमणि को मारपीट कर किया गंभीर रुप से घायल

रांची। मीडिया से जुड़ी एक बुरी खबर गोड्डा से आई है। वहां के जाने-माने पत्रकार नागमणि कुमार उर्फ मणि भाई के साथ मारपीट कर गंभीर रुप से घायल कर दिया गया है। यह घटना गोड्डा सदर अस्पताल परिसर में घटी है। नागमणि समाचार संकलन करने हेतु वहां पहुंचे थे कि सरकारी अस्पताल परिसर में अड्डा जमाये एक प्रायवेट एंबुलेस का चालक अचानक उनका मोबाइल छीन कर भागने लगा। नागमणि जब शोर मचाते हुये उक्त अपराधी एंबुलेस चालक का पीछा करने की कोशिश की तो पास खड़े दूसरे प्रयवेट एंबुलेस चालक उनके साथ मार-पीट करने लगा। इस क्रम में वे गंभीर रुप […]

Read more

आपकी आंखों के सामने की ऐसी तस्वीर झकझोरती है रघुबर साहब

“ झारखंड (मुकेश भारतीय)। कुछ तस्वीरें मानवता को शर्मशार कर देती है तो कुछ तस्वीरें मन-मस्तिष्क को झकझोर डालती है। आये दिन इस तरह की तस्वीरें उजागर होती रहती है। लेकिन किसी राज्य के मुखिया यानि सीएम की आंखों के सामने की ऐसी तस्वीर देखने को मिले तो दिमागी झन्नाहट को बखूबी समझा जा सकता है।”  राजधानी रांची से प्रकाशित हिन्दी दैनिक भास्कर में एक फ्रंट ली़ड फोटो प्रकाशित हुई है। इस तस्वीर के साथ अखबार ने भी बड़ी दिलचस्प तरीके से लिखा है कि “मुख्यमंत्री रघुवर दास 62 साल के हैं। मगर लगातार दौरे कर रहे हैं। बजट पूर्व संगोष्ठी और बैठकों में व्यस्त […]

Read more

इस अनुठी पहल के साथ पत्रकारिता का मिसाल बन गया प्रभात रंजन

राजनामा.कॉम (मुकेश भारतीय)। “शिद्दते गम को तबस्सुम से छिपाने वाले, दिल का हर राज़ नजरें बयां करती है।“  कभी यह शायरी मैंने ही मजाक-मजाक में स्कूल की किताब में लिखी थी। लेकिन क्या मालूम कि पत्रकारिता के ढलते पड़ाव में एक दिन यही सच्चाई के तौर पर उभर कर सामने आयेगी। आज राज्य के एक टीवी नेटवर्क के पत्रकार दिवाकर श्रीवास्तव के साथ जिंदगी और मौत से जूझ रहे पत्रकार प्रभात रंजन से व्यवहारिक भेंट करने राजधानी रांची के गुरुनानक अस्पताल पहुंचे। मन में दिन भर की बड़ी निराशा थी। आज मैं दिन भर उपापोह में था कि आखिर मीडिया लाइन […]

Read more

देखिये, शाहनवाज जैसे फ्रॉड का डंसा मौत से कैसे जुझ रहा एक पत्रकार

“जेजेए यानि झारखंड जर्नलिस्ट एशोसिएशन और उसके स्वंयभू अध्यक्ष यानि शाहनवाज हुसैन। एक ऐसा संगठन और एक ऐसा शख्स, जिसके बारे में समूचे झारखंड से मिल रही सूचनाएं काफी व्यथित करने वाली है।” राजनामा.कॉम (मुकेश भारतीय)। किसी भी संगठन या उसके स्वंयभूओं को जबरिया  मनमानी, शोषण और दमन करने की छूट नहीं दी जा सकती। खास कर उन्हें जो तत्थों से परे सिर्फ दुष्प्रचार के बल अपना स्वार्थ साधने वालों को तो बिल्कुल नहीं। शहनवाज के कहने पर कथित जेजेए संगठन के लोगों ने शोसल साइट के कई ग्रुपों पर राजनामा.कॉम और उसके संचालक को लेकर कई तरह की उटपुटांग बातें […]

Read more

रांची प्रेस क्लब का सदस्यता अभियान में दारु बना यूं ब्रांड एंबेसडर

राज़नामा न्यूज (मुकेश भारतीय)। इसमें कोई शक नहीं कि रघुबर सरकार की ओर से पत्रकारों को राजधानी रांची में एक बढ़िया सुसज्जित आलीशान प्रेस क्लब भवन का तोहफा मिला है। लेकिन शुरुआती दौर से ही इस भवन को लेकर कई गणमान्य संपादक-पत्रकार लोग खूब चर्चित होते रहे हैं।  बात चाहे पद्मश्री बलवीर दत जी का हो या उनकी अगुआई में सामने आये कई अन्य लोग। हाल ही में एक स्थानीय दैनिक के स्थानीय संपादक ने एक ऐसी तुगलकी फरमान जारी कर दिया कि प्रायः पत्रकार बमक उठे। उक्त संपादक द्वारा जारी सूचना के आधार पर अखबारों में प्रमुखता से यह खबर […]

Read more

बिहार-झारखंड, यहां जदयू-भाजपा सरकार की आत्मा जिंदा कहां है ?

“सदियों से चली आ रही मनुवाद की जमीं पर आज की जातीवादी राजनीति ने समाज में एक ऐसे जहरीले कीड़े को बल दिया है, जिसके शिकार इन्सान न मर सकता है और न जिंदा ही रह सकता है। सबाल सिर्फ मानवता की नहीं है, सीधा सबाल शासन-प्रशासन की भी है। “ -: मुकेश भारतीय :- बिहार और झारखंड में एक साथ दो घटनाएं घटी है। ये दोनों घटनाएं मानवता को शर्मसार करती है। ऐसी विषजात समस्याओं का मूल समाधान क्या है? इसका सीधा जबाव ढूंढा जाना चाहिये। विगत 18 अक्टूबर को बिहार के सीएम नीतीश कुमार के गृह जिले नालंदा के […]

Read more

सीएम रघुबर दास की इस हरकत पर कानून के साथ मीडिया भी नंगी

रांची (मुकेश भारतीय)। साहब सीएम हैं। रघुबर दास हैं। उन पर कोई कानून लागु नहीं होता। हालांकि उन्होंने सड़क सुरक्षा सप्ताह समारोह में ट्रैफिक वालों को स्वंय कहा था, ‘बिना हेलमेट वालों से सख्ती से निपटें। चाहे कोई भी हो, उसे किसी कीमत पर न छोड़े। अगर खुद सीएम भी ऐसा करें तो उन्हें भी न वख्शें।’ लेकिन खुद सीएम रघुवर दास ने कानून तोड़ा है। बिना हेलमेट पहने आम सड़कों पर बिचरते रहे। इस दौरान कहीं भी ट्रैफिक वालों ने कोई रोक-टोक नहीं की। सिपाही की क्या औकात ट्रैफिक एसपी तक सलामी ठोकते नजर आये। सीएम की इस हरकत को […]

Read more
1 2 3 4 5