कठिन जीवन के सात अचेतन विचार

हम लोगों में से बहुत से जन अपने मन में चल रहे फालतू के या अतार्किक विचारों से परेशान रहते हैं जिसका हमारे दैनिक जीवन और कामकाज पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है. ये विचार सफल व्यक्ति को असफल व्यक्ति से अलग करते हैं. ये प्रेम को नफ़रत से और युद्ध को शांति से पृथक करते हैं… ये विचार सभी क्लेशों और युद्दों की जड़ हैं क्योंकि अचेतन एवं अतार्किक विचारधारा ही सभी युद्धों को जन्म देती है. इस पोस्ट में मैं ऐसे 7 अतार्किक व अचेतन विचारों पर कुछ दृष्टि डालूँगा और आशा करता हूँ कि आपको इस विवेचन से लाभ […]

Read more

नाबालिग एक्‍ट की समीक्षा करेगा सुप्रीम कोर्ट

सुप्रीम कोर्ट ने किशोर न्याय कानून में ‘किशोर’ की परिभाषा की सांविधानिक वैधता के सवाल पर गौर करने का निश्चय किया है। इसमें अपराध की संगीनता के बावजूद 18 साल से चंद सप्ताह कम आयु का होने पर भी ऐसे अपराधी को नाबालिग ही माना गया है।  न्यायमूर्ति केएस राधाकृष्णन और न्यायमूर्ति दीपक मिश्रा की खंडपीठ ने कहा कि हम इस मामले पर गौर करेंगे क्योंकि यह आयु निर्धारण से संबंधित है। न्यायाधीशों ने कहा कि यह कानून का सवाल है और गंभीर अपराध में आरोपी पर बालिग के रूप में मुकदमा चलाने का निर्णय करते समय उसकी आयु के निर्धारण […]

Read more

आकर्षण का केन्द्रः बनी ममता बनर्जी की किताबें-पेंटिंग्‍स

पुस्तक मेले में मुख्यमंत्री ममता बनर्जी द्वारा लिखी गईं किताबें आकर्षण का केंद्र बनी हुई हैं। कविता और निबंध के रूप में लिखी गई उनकी पांच नई किताबों को ब्रिक्री के लिए रखा गया है। किताबों के अतिरिक्त ममता की पेंटिंग्स भी इस मेले का आकर्षण हैं। 1995 से लिखती आ रहीं ममता की अभी तक 40 पुस्‍तक आ चुकी हैं। एक पोलोके एक झोलोक और भाबनार साथी नामक पुस्तक लघु निबंधों और कविताओं के रूप में हैं। एक अन्य किताब शे नेई में उन लोगों को भावभीनी श्रद्धांजलि दी गई है, जिन्हें ममता बनर्जी अपने जीवन में खो चुकी हैं। […]

Read more

जब पत्रकार पर टूटा अखबारों का कहर

वर्ष  2008 । मई का महीना ।‘‘ट्र्नि-ट्र्नि‘‘ । कृष्ण प्रसाद जी बोल रहे हैं ? जी हां ।  दैनिक हिन्दुस्तान, दैनिक जागरण और दैनिक प्रभात खबर में आपके बारे में इन दिनों लगातार खबरें छप रही हैं । क्या सच्चाई है ? क्यों ऐसा हो रहा है ? क्यों सारे अखबार के मालिक और संपादक आपकी जिन्दगी को बर्वाद करने पर आमदा हैं ? आप क्यों नहीं प्रतिवाद कर रहे हैं ? मुंगेर शहर के कासिम बाजार पुलिस स्टेशन में मेरे विरूद्ध अनुसूचित जाति  की एक विवाहिता महिला की ओर से प्राथमिकी दर्ज होने  और वर्णित तीनों हिन्दी अखबारों में लगातार […]

Read more

बिना ऑपरेशन ट्यूमर खत्म करती है साइबरनाइफ तकनीक

कैंसर के मरीजों के लिए साइबरनाइफ  रोबोटिक रेडियो सर्जरी  तकनीक उपयोगी साबित हो  रही है  क्योंकि  इस  तकनीक  में  न  तो कैंसर  का  ट्यूमर निकालने के लिए कोई ऑपरेशन करना  पड़ता है और न ही परंपरागत थरेपी  की  तरह  इसमें लंबा  समय  लगता है। मेदांता मेडिसिटी अस्पताल में  रेडियेशन  ऑन्कोलॉजी विभाग के अध्यक्ष डॉ  तेजिन्दर  कटारिया ने  बताया  कि  कैंसर  के  मामले लगातार बढ़ रहे हैं। ज्यादातर मामलों में जबतक इस बीमारी का पता चलता है, तब तक यह बहुत बढ़ चुकी होती है। समय रहते पता चलने पर कैंसर का इलाज आसानी से हो सकता है।लेकिन इस बीमारी का नाम सुन कर हीमरीज  बहुत घबरा जाते हैं। उन्होंने कहा कि साइबरनाइफ रोबोटिक रेडियो सर्जरी एक अत्याधुनिक तकनीक है जो कैंसर के मरीजों के लिए उपयोगी साबित हो रही है। उन्होंने  बताया कि साइबर नाइफ तकनीक से इलाज में कोई चीरा नहीं लगाया जाता। इसमें ‘नॉन इन्वेसिव’  तरीके  से ट्यूमर हटाया जाता है। यह उन मरीजों के लिए अत्यंत लाभदायक है जिनका कैंसर वाला ट्यूमर  ऑपरेशन से नहीं निकाला जा सकता। बीएलके अस्पताल में रेडियेशन ऑन्कोलॉजी विभाग के प्रमुख और एसोसिएशन ऑफ रेडियेशन  ऑन्कोलॉजिस्ट ऑफ इंडिया के पूर्व अध्यक्ष डॉ एस हुक्कू ने कहा ‘इस तकनीक  से  इलाज  के दौरान मरीज के शरीर में लक्षित  ट्यूमर पर  एक सत्र में  30 मिनट से 90 मिनट तक रेडियेशन  बीम डाली जाती है और इस दौरान मरीज पूरी तरह होश में रहता है।’  डॉ हुक्कू  के अनुसार,  साइबरनाइफ  तकनीक से इलाज  में एक से पांच सत्र  लगते हैं जबकि पारंपरिक  थरेपी के लिए  25 से 40 सत्रों की जरूरत होती है।  […]

Read more

लोहिया समता न्यास में धूल फांक रही हैं हुसैन की 250 पेटिंग्स

 हिन्दू देवी देवताओं की पेटिंग्स बनाकर विवादों में आए चित्रकार मकबूल पिदा हुसैन की रामायण पर आधारित करीब 250 पेंटिंग्स हैदराबाद स्थित लोहिया समता न्यास में धूल फांक रही हैं। आधुनिक चित्रकला के कुशल चितेरे हुसैन को हिन्दू देवी देवताओं के चित्र बनाने के कारण देश में कापी विरोध भेलना पड़ा था। इस विरोध और मुस्लिम संगठनों के पतवों के कारण उन्हें देश से बाहर दुबई में निर्वासित जीवन गुजारना पड़ा। हुसैन की मृत्यु भी दुबई में ही हुयी। हुसैन ने राम मनोहर लोहिया और बद्री विशाल पित्ती के आग्रह पर कई साल तक मेहनत कर रामायण पर आधारित करीब 250 पेंटिंग […]

Read more

‘स्पेशल 26’ देखेंगे सीबीआई के अधिकारी

अक्षय कुमार अभिनीत फिल्म ‘स्पेशल 26’ के निर्माता ने केन्द्रीय जांच ब्यूरो सीबाआई के अधिकारियों और अन्य कर्मचारियों के लिए फर्जी सीबीआई अधिकारियों वाले एक गिरोह पर आधारित इस फिल्म की विशेष स्क्रीनिंग का आयोजन किया है।  यह फिल्म एक असल जिंदगी के एक मामले की तरह है जिसमें कुछ बदमाशों ने खुद को सीबीआई अधिकारी बताकर चर्चित हस्तियों से जबरन वसूली की थी।  यह फिल्म आठ फरवरी को रिलीज होनी है और सात फरवरी को इसके विशेष प्रदर्शन का आयोजन किया जाएगा।

Read more

राष्ट्रमंडल घोटाला : अदालत ने सुरेश कलमाड़ी व अन्य 9 के खिलाफ आरोप तय

दिल्ली की एक अदालत ने राष्ट्रमंडल खेलों से जुड़े भ्रष्टाचार के मामले में सरकारी खजाने को 90 करोड़ रूपये से अधिक का नुकसान पहुंचाने को लेकर राष्ट्रमंडल खेल आयोजन समिति के बख्रास्त अध्यक्ष सुरेश कलमाड़ी तथा नौ अन्य के खिलाफ आज आरोप तय किए ।  इन सभी लोगों पर कथित रूप से धोखाधड़ी, साजिश तथा सरकारी खजाने को नुकसान पहुंचाने को लेकर आरोप तय किए गए ।

Read more

कैसे तुम्हें रुकने कहें कमल हासन

कमल हासन को ही नहीं,किसी को भी आश्चर्य हो सकता है कि कैसे कोई एक फिल्म देश की एकता और अखंडता के लिए खतरा बन सकती है। लेकिन जब सुदूर किसी देश के किसी अखबार में छपे छोटे से कार्टून से देश की एकता डगमगाने लगती है तो फिल्म तो वाकई एक बडी चीज है।सच यही है कि जब हम खुद डगमगाने को तैयार होते हैं,तभी बहाने की तलाश होती है।किसी फिल्म,किसी पेंटिंग या किसी किताब को खतरा मानना वास्तव में सिर्फ बहाने होते हैं।क्योंकि हिन्दुस्तान में इन कला माध्यमों की पहुंच किसी से छिपी हुई नहीं है। शेष विधाओं को तो […]

Read more

प्रतिभा की भीड़ में दिखी झारखंड की असली बेटी

तंगहाली के दौर से लड़ते हुए अपनी मुकाम को हाशिल करने का जज्बा गिने चुने लोगों को नशीब होता है। क्यूंकि मुश्किल दौर में अक्सर हिम्मत जवाब दे देता है और उम्मीदे दम तोड़ देती है। लेकिन जो विपरीत परिस्थिति में भी खुद को संभाल लेता है और तमाम रुकावटों को दरकिनार कर आगे बढ़ता है वही मुक्कदर का सिकंदर कहलाता है। रांची विश्वविध्यालय के चकाचौंध भरे 27 वें दीक्षांत समारोह में वैसे तो 38 मेहनतकश छात्र छात्राओं के गले में सोने का मेडल टंगा और उनका चेहरा पुलकित हुआ लेकिन इस भीड़ में एक ऐसी लड़की दिखी जिसकी आँखें मेडल […]

Read more

स्वायतत्ता की बात करने वाले शायद अपरिपक्व हैं !

भारत में किसी भी निकाय को स्वायतता या स्वतन्त्रता की कोई आवश्यकता नहीं है क्योंकि भारत में स्वायतता का कोई अभिप्राय: ही नहीं है| जो निकाय पहले से ही स्वतंत्र है उनकी स्थिति भी संतोषजनक नहीं है| न्यायपलिका जिसे स्वायतता और स्वतन्त्रता प्राप्त है वह जनता की अपेक्षाओं पर कितना खरी उतर रही है| एक नागरिक को गवाह के तौर पर आमंत्रित करने के लिए पहली बार में ही वारंट जरी कर मजिस्ट्रेट खुश होते हैं वहीं पुलिस वाले उनके बीसों आदेशों के बावजूद भी गवाही देने नहीं आते और मजिस्ट्रेट थकहार कर आखिर जिला पुलिस अधीक्षक को डी ओ लेटर […]

Read more

`विश्‍वरुपम` को सराह रहे हैं यूपी के लोग

अभिनेता कमल हासन की फिल्‍म `विश्‍वरुपम` का हिंदी संस्करण ‘विश्वरूप’ आज दिल्‍ली, लखनऊ, नॉएडा समेत उत्‍तर भारत के सभी शहरों में रिलीज हो गई। फिल्म देखने के बाद सभी लोगों ने कलम हासन के साहस की तारीफ़ की है।   आज थोड़े अफरा तफरी के माहौल के बाद यूपी में भी फिल्म रिलीज हो गई। हालांकि सिनेमाघरों तक प्रिंट के समय पर न पहुंचने की वजह से लखनऊ में सुबह के शो कैंसिल कर दिए गए, लेकिन इसमें प्रतिबन्ध जैसी कोई बात नहीं थी। उधर नॉएडा के सिनेमाघरों में आज सुबह से ही काफी चहल पहल दर्ज की गई।    लोगों […]

Read more
1 175 176 177 178 179 199