ABC ने समाचार पत्र-पत्रिकाओं भेजे ये कड़े निर्देश

Share Button
Read Time:2 Minute, 18 Second

ऑडिट ब्‍यूरो ऑफ सर्कुलेशन (The Audit Bureau of Circulations) ने अपने प्रकाशन सदस्यों को जनवरी से जून 2017 तक ऑडिट किए हुए सर्कुलेशन आंकड़ों को इलेक्ट्रॉनिक तरीके से जमा कराने के निर्देश दिए हैं। इसके लिए उसने अपने सदस्यों को 6 सफ्ताह का समय भी दिया है।

एबीसी के महासचिव एच.बी. मसानी की ओर से अपने प्रकाशन सदस्यों को 3 जुलाई को भेजे गए पत्र में कहा, ‘ऑडिट किए गए सर्कुलेशन के आंकड़ों के साथ ऑडिटर की रिपोर्ट भी होनी चाहिए, जोकि 16 अगस्त या इससे पहले सर्कुलेशन सर्टिफिकेशन बॉडी तक पहुंच जाना चाहिए।’ पत्र में इस बात पर जोर दिया गया कि इस कार्य के लिए 6 सप्ताह पर्याप्त समय है इसलिए आगे और समय नहीं दिया जाएगा।

वहीं इस पत्र में आगे कहा गया है कि प्रकाशन सदस्यों को एबीसी के साथ अपने सर्कुलेशन के आंकड़ें जमा कराने को लेकर मौजूदा मानदंडों का पालन करना अनिवार्य है और यदि कोई प्रकाशन 6 महीने के ऑडिट समय का एक भी ऑडिट सर्कुलेशन की जानकारी नहीं देता है तो इसके बाद मूल्यांकन के दौरान उसके सर्टिफिकेशन को लेकर विचार नहीं किया जाएगा।  

मसानी ने लिखा, ‘वे प्रकाशक सदस्य, जिन्होंने पिछले ऑडिट की समयावधि के दौरान (जुलाई-दिसंबर 2016) अपने ऑडिट किए हुए सर्कुलेशन के आंकड़े प्रस्तुत नहीं किए हैं, उन्हें विशेषकर फिर से याद दिलाया जा रहा है।’

गौरतलब है कि ऑडिट ब्‍यूरो ऑफ सर्कुलेशन यानी ABC प्रकाशकों, विज्ञापनदाताओं, मीडिया और विज्ञापन एजेंसियों का एक स्वैच्छिक निकाय है, जिसके 967 प्रकाशन सदस्य हैं। इनमें 910 समाचार पत्र हैं, जबकि 57 पत्रिकाएं हैं।

0 0
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
Share Button

Relate Newss:

शिवराज सरकार ने 300 पत्रकारों के मुंह में डाला जमीन का टुकड़ा
आपकी आवाज दबाने वाले लोग हैं असली देशद्रोही :राहुल गांधी
मोदी सरकार ने नीतिश को नेपाल जाने से रोका !
सड़क पूरा हुआ नहीं, और वसूला जा रहा है भारी भरकम टोल टैक्स
दिल्ली में गड़बड़ा गए हैं भाजपाई !
साधना न्यूज़ के बंद ऑफिस में मिली सगे भाई की लाश, बकाया राशि मांगने पर हत्या की आशंका
नहीं रहे वरिष्ठ पत्रकार दिलीप पडगांवकर
यूपी के बाद बिहार में भी 'पीके' हुआ टैक्स फ्री !
मद्रास हाई कोर्ट के जज ने कहा- मुझे भारत में पैदा होने पर आती है शर्म !
समलैंगिकों के अड्डे बन गए हैं मदरसे !
कहां है द रांची प्रेस क्लब भवन? डाकघर से यूं लौटी लीगल नोटिश
ड्रग माफिया के खिलाफ आवाज उठाई तो हाथ-पैर काट डाले !
नफे-नुकसान के बीच राजद-जदयू विलय की बात बेमानी!
साथी पत्रकारों की मदद आ रही काम, उपेंद्रनाथ मालाकार के स्वास्थ्य में सुधार
गुजरात में पाटीदारों की चित्कारः खूंखार अपराधी को चुन लो, पर मत दो भाजपा को वोट
दैनिक लोकसत्य को जरूरत है मीडियाकर्मियों की
‘दुर्ग’ को जमानत, लेकिन ST-SC कोर्ट में यूं दिखा सुशासन का दोहरा चरित्र
इस लॉटरी अर्थव्यवस्था का माई बाप कौन? PayTMPM या FMCorporate ?
आंचलिक पत्रकार संघ और शासन की दाल में फिर दिखा भयादोहन का तड़का
चुनाव आयोग की रडार पर आए राहुल , लालू और अमित
वरिष्ठ पत्रकार अरुण साथी सड़क हादसे में गंभीर रूप से जख्मी
MP सीएम की गुंडागर्दी, वीडियो ब्लॉगर को बिना FIR रात अंधेरे उठवाया
मांझी ने बनाया हम, नीतिश को बताया दुश्मन नं.1
बंदर गुलाटी मारना नहीं छोड़ता
पत्रकारों के लिये सबक प्रतीत है दिवंगत रिपोर्टर हरिप्रकाश का मामला

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...