अब नोटों के लिए जिस्म बेचने को विवश हैं ये विदेशी एक्ट्रेस

Share Button

मुंबई। मोदी सरकार के नोट बदलने के फरमान का असर अब बॉलीवुड पर सीधा पड़ा है। इसकी चपेट में सबसे ज्यादा वो कलाकार (खासकर एक्ट्रेसेस) आ रहे है, जो विदेशों से भारत में कमाई करने आते हैं। इन विदेशी कलाकारों की हालत इतनी खराब है कि वो पैसों की भरपाई के लिए किसी तरह का भी समझौता कर रहे हैं। अपने घर के किराए और खर्च के लिए नई करेंसी के बदले किसी के साथ सौने तक को तैयार हैं, ताकि वो जीवनयापन कर सकें और कर्ज चुका सकें।

कौन हैं ये ‘एक्ट्रेसेस’…

आपने कई बड़े सितारों की फिल्मों के सॉन्ग्स में बैकग्राउंड में कई विदेशी कलाकारों को डांस करते देखा होगा। इन कलाकारों पर मुंबई की चकाचौंध ने इस कदर असर डाला है कि ये लोग हजारों किलोमीटर दूर से यहां रोजी रोटी की तलाश में चले आते हैं। यहां उन्हें काम के बदले हजारों लाखों रुपए मिलते हैं, लेकिन आज इन कलाकारों को रहने खाने के लाले पड़ गए हैं। उन्हें भूखा सोना पड़ रहा है और अब तो सर से छत तक छिन जाने की स्थिति हो गई है। समझ नहीं आ रहा है कि अब क्या करें।

टूरिस्ट वीजा पर आती हैं मुंबई और पॉश इलाके में रहती हैं

रूस, उजबेकिस्तान, फिलीपींस और कोरिया जैसे देशों से ये कलाकार टूरिस्ट वीज़ा पर मुंबई आते है। कुछ महीने काम करते हैं और वापस अपने देश चले जाते हैं। चूंकि ज्यादातर फिल्मी ऑफिस उपनगरीय इलाके में है तो ये कलाकार भी मुंबई में लोखंडवाला, गोरेगांव के साथ दक्षिण मुंबई जैसे कई पॉश इलाकों में रहना पसंद करते हैं।

एक ही अपार्टमेंट में 20 से 40 हजार के बीच का फ्लैट लेती हैं और हर फ्लैट में 4 से 6 लड़कियां रहती है ताकि इनके पैसे भी बचे, काम के लिए ज्यादा भागदौड़ न पड़े और सुरक्षित घर पहुंच सकें लेकिन सरकार के नोटबंदी के फैसले ने इन्हें हिलाकर रख दिया है। बॉलीवुड से भी इन्हें कोई मदद नहीं मिल रही है। प्रोड्यूसर और इन्हें मैनेज करने वाली कंपनियों ने भी हाथ खड़े कर दिए है। ऐसे में वो जाएं तो जाएं कहां।

विदेशी होने कारण नहीं खुलवा सकतीं बैंक अकाउंट

बॉलीवुड की इन खूबसूरत हसीनाओं की मानें तो विदेशी होने की वजह से ये इंडिया में बैंक अकाउंट नहीं खुलवा सकतीं। काम के बदले इन्हें पैसे भी कैश में मिलते हैं। अब नए कानून के बाद इनके पास जीवन यापन के लिए कोई चारा नहीं बचा है। किराया भरने के लिए पैसे तक नहीं है। फ्लैट मालिक और एजेंट्स लगातार इन्हें परेशान कर रहे हैं।

अब सिवाय घर वापस जाने के अलावा कुछ नहीं कर सकतीं। लेकिन यह भी तब मुमकिन होगा, जब इनके पास नए 2 हजार और 500 के नोट होंगे। ऐसे में इन लड़कियों ने इस मुसीबत से निकलने के लिए खुद को बेचने का फैसला लिया है।

Share Button

Relate Newss:

चक्रधरपुर पवन चौक पर पत्रकार पवन शर्मा की मूर्ति का अनावरण
1857 की महागाथा को सेल्यूलाईड पर्दे पर उतारने में जुटे तनवीर
बड़कागांव में रैयत-पुलिस भिड़ंत में 3 की मौत, दर्जनों घायलः परंपरागत हथियार ले सड़क पर उतरे लोग
 जिन्दगी झण्ड बा....फिर भी घमण्ड बा....
नवीन जिंदल का निर्वाचन आयोग में जी न्यूज की शिकायत
ST-MT की गला दबाकर हत्या करने जैसी है CNT-CPT में संशोधन: नीतीश
13 अक्टूबर को रजत जयंती समारोह मनाएगा पटना दूरदर्शन केन्द्र
अश्लीलता का अड्डा बन गया है रांची का नक्षत्र वन
दस सालों तक सरकारी फाइलो में दबा रहा नालंदा का चंडी रेफरल अस्पताल
हिंदी पत्रकारिता दिवस: बिहार में साहित्यिक पत्रकारिता का विकास
अप्रसांगिक कानून विधेयक लोक सभा में पेश
बिहार में निष्पक्ष और निर्भीक पत्रकारिता की आवश्यकता : मंत्री प्रेम कुमार
पत्रकारों के लिए पाक-अफगानिस्तान से भी खतरनाक है भारत देश
प्रमंडलीय आयुक्त आनंद किशोर का राजगीर मलमास मेला सैरात भूमि को लेकर ऐतिहासिक आदेश
नीतीश कुमार को बिहार विधानसभा में विश्वास मत हासिल

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
loading...