हड़बड़ी में यूं गड़बड़ा गए बाबा रामदेव, बने ‘मजाक’

Share Button

कभी कभी जल्दबाजी किसी के मजाक का कारण बन जाती है। ऐसा ही कुछ हुआ योग गुरू बाबा राम देव के साथ। हड़बड़ी की वजह से रामदेव खुद मजाक बन गए।

RAMDEVदरअसल योग गुरु बाबा रामदेव का नाम पद्म पुरस्कारों की लिस्ट में कभी शामिल ही नहीं किया गया था।

गृह मंत्रालय ने कहा है कि रामदेव ने मीडिया रिपोर्ट्स के आधार पर गृह मंत्री राजनाथ सिंह को लेटर लिखकर पद्म पुरस्कार लेने से मना कर दिया था।

जबकि सचाई यह है कि उनके नाम पर कभी विचार ही नहीं किया गया। हालांकि रामदेव के एक करीबी ने सरकार की मंशा पर सवाल उठाते हुए कहा कि आखिर केंद्र ने मीडिया में बाबा को पद्म पुरस्कार दिए जाने की खबरों का खंडन क्यों नहीं किया।

मंत्रालय के अधिकारियों ने बताया कि राजनाथ सिंह ने पिछले शुक्रवार और शनिवार को करीब 7-8 लोगों को खुद फोन करके उन्हें पद्म पुरस्कार के बारे में जानकारी दी थी। अधिकारी ने कहा कि रामदेव इस लिस्ट में शामिल नहीं थे।

अधिकारी ने बताया कि पद्म पुरस्कार के लिए कई लोगों के नाम आते है। उन नामों में से जिनके नाम फाइनल होते हैं उन्हें गृह मंत्रालय से फोन करके पूछा जाता कि आपको पद्म पुरस्कार दिया जा रहा है क्या आपको कोई ऐतराज है।

Share Button

Relate Newss:

MP सीएम की गुंडागर्दी, वीडियो ब्लॉगर को बिना FIR रात अंधेरे उठवाया
43 साल से सेक्स-टैक्स ले रही है अमेरिकी सरकार !
JAC अध्यक्ष दुर्गा उरांव ने की राजनामा के संपादक पर फर्जी पुलिस केस की भ्रत्सना, राजगीर मामले को लेक...
चाचा बना दरिंदा, 5 वर्षीया संग दुष्कर्म, सरपंच ने भगाया, पुलिस जांच जारी
शिक्षा मंत्री ने कोडरमा डीडीसी को कहा- ‘बेवकूफ कहीं के...अंदर जाओगे’   
इन बागड़-बिल्लों के खिलाफ झारखंड निगरानी विभाग सुस्त !
'हैदराबाद से जेएनयू तक मोदी सरकार की ग़लतियां'
'दू अरबिया क्लब' में शामिल आमिर की तीसरी फिल्म है 'पीके'
नालंदाः मदरसे में लड़कियों की प्रवेश-पढ़ाई पर तालिबानी रोक !
.....और यूं 4 माह बाद जेल से बाहर निकले पत्रकार वीरेंद्र मंडल व उनके पिता
ग्रेटर नोयडा की शर्मनाक करतूत, दलित दंपति सरेआम नंगा!
कमजोर की बीबी सबकी भौजाई, MDM मामले में जिला प्रशासन ने की उल्टी कार्रवाई
विवाद ‘धर्मनिरपेक्ष’ और ‘समाजवाद’ रहित संविधान के विज्ञापन का
जिओ टीवी के ‘खेल’ के सामने फेल रहे भारतीय सेल्फी रिपोर्टर्स
बढ़ी एफडीआई से प्रिंट मालिक मायूस, वहीं न्‍यूज ब्रॉडकास्‍टर्स गदगद

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
loading...