सुदर्शन न्यूज चैनल के मालिक सुरेश चव्हाणके पर यौन शोषण का आरोप

Share Button

चैनल में लंबे समय से कार्य कर रही पीड़िता ने नोएडा पुलिस को दी लिखित कंप्लेन लेकिन, कई दिन बीत जाने के बाद भी पुलिस ने दर्ज नहीं किया एफआईआर।

खुद को प्रखर राष्ट्रवादी बताने वाले न्यूज चैनल ‘सुदर्शन न्यूज’ चैनल में काम करने वाली एक महिला मीडियाकर्मी ने चैनल के मालिक सुरेश चह्वाणके पर यौन शोषण का आरोप लगाया है. महिला मीडियाकर्मी ने नोएडा के सेक्टर छह थाने में लिखित तहरीर दी है लेकिन नोएडा पुलिस न जाने किस दबाव में न तो एफआईआर दर्ज कर रही है और न ही आरोपी चैनल मालिक को गिरफ्तार कर रही है.

sureshचैनल से जुड़े सूत्रों ने बताया कि चैनल के सीएमडी सुरेश चव्हाणके की छह साल तक परसनल सेक्रेट्री रही महिला ने चैनल मालिक की धोखाधड़ी, उत्पीड़न, शोषण और प्रताड़ना से तंग आकर पुलिस में कंप्लेन दी है. महिला ने अपने फेसबुक पेज पर सुरेश चव्हाणके की हकीकत भी बताई है, जो इस प्रकार है-

”सुदर्शन न्यूज़ में किया जाता है महिलाओं का शारीरिक शोषण चेयरमैन सुरेश चव्हाणके द्वारा, धर्म के नाम पर चलाई जा रही है दुकान. आप सबसे न्याय की प्राथना कर रही हूं. कब तक ऐसे ढोंगी लोग समाज में यह घिनौने अपराध करते रहेंगे.”

सूत्रों का कहना है कि पीड़िता के पास चैनल मालिक के कारनामों का कच्चा चिट्ठा है, जिसका खुलासा जल्द ही प्रेस कांफ्रेंस करके किया जा सकता है. चूंकि मामला एक न्यूज चैनल के मालिक का है, इसलिए पुलिस प्रशासन बेहद नकारात्मक भूमिका निभा रहा है.

पीड़िता का दावा है कि अगर सुदर्शन चैनल के मालिक की निष्पक्ष जांच कर दी जाए तो कई पीड़िता सामने आ सकती हैं और कई किस्म के घपले घोटालों का पर्दाफाश हो सकता है.

पीड़िता ने चैनल मालिक सुरेश चह्वाणके पर आरोप लगाया कि उसने बहला फुसला कर उससे लाखों रुपये और गहने भी ऐंठ लिए हैं.   (साभारः भड़ास)

Share Button

Relate Newss:

प्रेस फ्रीडम पर ऑनर फ्रीडम हावीः अरुण कुमार
सरेआम क्लीनिक खोल कर यूं शोषण कर रहे हैं झोलाछाप
ड्रग माफिया के खिलाफ आवाज उठाई तो हाथ-पैर काट डाले !
भोपाल मुठभेड़ की जांच से शिवराज सरकार का साफ इन्कार
शिक्षा मंत्री ने कोडरमा डीडीसी को कहा- ‘बेवकूफ कहीं के...अंदर जाओगे’   
JUJ ने राजभवन का घेराव कर दिया एकदिवसीय धरना
मुंगेर के 'जांबाजों' और 'हिन्दुस्तान' की अब लड़ाई दिल्ली में, आपके सहयोग की आस
गिरिडीह में मार कर यूं टांग दिया गया एक साप्ताहिक अखबार का रिपोर्टर
पाटलिपुत्रः भाजपा के लिये मुसाबत बने लालू के 'हनुमान'
अब किस मुंह से फैसले सुनाओगे रजत शर्मा ?
1857 की महागाथा को सेल्यूलाईड पर्दे पर उतारने में जुटे तनवीर
पता नहीं कब हम अर्थ और व्यर्थ का अर्थ समझ पायेंगे!
‘अपराधियों के बाद अब पुलिस-प्रशासन के निशाने पर पत्रकार’
इन तीन बड़े मीडिया संगठनों से यूं नाराज है सुप्रीम कोर्ट
बात का बतंगड़ बना गई ‘आप’ की राखी बिडलान !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
loading...