सीएम अर्जुन मुंडा के प्रेस कॉन्फ्रेस में हावी रहे झारखंड के चिरकुट पत्रकार

Share Button
आज झारखंड के सीएम अर्जुन मुंडा की प्रेस कॉन्फ्रेंस था। उसे देखकर यह दावे के साथ कहा जा सकता है कि यहां के पत्रकारों में जनमुद्दों पर सवाल खड़े करने की इच्छाशक्ति ही नहीं बची है

वेशक यह एक सरकारी आयोजन था, जिसे हर मोर्चे पर विफल सीएम ने अपनी कामयाबी का ढिंढोरा पीटने के लिए आयोजित किया गया था। इस प्रेस कॉन्फ्रेस में पत्रकारों एक बड़ा समुह लीक से हटकर सवाल कर रहे थे। उससे साफ जाहिर होता है कि यहां के पत्रकार कितने बड़े चिरकुट हैं।
बात यही खत्म नही होती। सत्ता पक्ष से जुड़े़ एक खास वर्ग के पत्रकार सरकारी भोजन-पानी पर झपट रहे थे। मुख्यमंत्री को जमीन से जुड़े सबालों का सामना करना न पड़े, इसलिए वे माइक की छीना-झपटी की रेस में भी हावी रहे।
निःसंदेह कल के सारे अखबारों में खाउ-पकाऊ की नीति के बल घिसट-घिसट कर चल रही इस निकम्मी मुंडा सरकार के गुणगाण देखने को मिलेंगें। सबसे बड़ी बात यह है कि सीएम ने यह प्रेस कॉन्फ्रेस कल से बोकारो में होने बाली भाजपा कार्यकारिणी की महत्ती बैठक के मद्देनजर की गई थी, ताकि विक्षुब्धों के सामने मीडिया के मार्फत गुणगान किया जा सके।
Share Button

Relate Newss:

सन्मार्ग से बैजनाथ मिश्र की छुट्टी! रजत गुप्ता की वापसी!
मौजूदा पत्रकारिता के दौर में खोजी खबरों का खेल
रांची के दैनिक जागरण की आत्मा यूं मर गई इस वरिष्ठ पत्रकार पर FIR को लेकर
63 साल में नहीं हुआ, मोदी जी ने 2 साल में कर दिखाया : नरेन्द्र सिंह तोमर
कानून यशवंत सिन्हा की रखैल नहीं है आडवाणी जी
टोल गेट पुंदाग (ओरमांझी) का तमाशा: ठेकेदार का है रोना, यहां होता है भारी नुकसान
रुला जाती है इस रिकार्डधारी राजेन्द्र कुमार साहु की संघर्ष कहानी
अनेक चर्चाओं-आशंकाओं के बीच यूं बोले ‘द रांची प्रेस क्लब’ के नव निर्वाचित सचिव शंभुनाथ चौधरी
इनके सामने गिरगिट, वेश्या या फिर कपड़े बदलने के जुमले नाकाफी है हुजूर !
EX MLA ने कोल्हान DIG को सौंपी मुखिया-पत्रकार मामले  की CD
रिपोर्टर ने पुलिस से मांगी ‘परबी’ तो उलझ पड़े अखबार के मालिक और संपादक!
रांची सांसद ने रघु'राज में जारी ट्रांसफर-पोस्टिंग कारोबार पर उठाए सवाल
पीएलआईफ नक्सलियों के "बिहार बंद" के पर्चे से सनसनी
दैनिक भास्कर के बोकारो ब्यूरो चीफ की निर्मम पिटाई के मामले में तीन दारोगा निलंबित
हजारीबाग कोर्ट में गैंगवार, झारखंड में जंगल राज !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
loading...