सजायाफ्ता के हाथ खुले और विचाराधीन के हाथों हथकड़ी !

Share Button
Read Time:4 Minute, 37 Second

sahabuddinपटना (विनायक विजेता)।  नीचे डाले गए दोनों तस्वीरों को जरा ध्यान से देखें। बिना हथकड़ी वाली पहली तस्वीर है भागलपुर जेल में बंद व हत्या मामले में सजायाफ्ता पूर्व सासंद मो. शहाबुद्दीन की है। हथकड़ी में जकड़ी दूसरी तस्वीर है नाबालिग छात्रा से रेप के मामले में आरोपित नवादा के विधायक राजबल्लभ प्रसाद की शनिवार को बिहार शरीफ में कोर्ट में पेशी के समय की। कानून कहीं भी किसी विचाराधीन बंदी को पेशी वक्त हथकड़ी लगाने की इजाजत नहीं देता बल्कि हथकड़ी लगाना पुलिस के विवेकाधिकार पर है।

पुलिस को अगर यह शक या शंका हो कि विचाराधीन बंदी हथकड़ी नहीं लगाने पर पुलिस अभिरक्षा से फरार हो सकता है, तभी वह हथकड़ी लगा सकती है।

rajballabh yadavराजबल्लभ प्रसाद पर यकीनन गंभीर आरोप हैं पर वह एक विधायक व जनप्रतिनिधि भी हैं। उनका पूर्व का कोई गंभीर आपराधिक इतिहास भी नहीं है जबकि अपहरण, हत्या, देशद्रोह सहित कई मामलों में आरोपित पूर्व सांसद हत्या के मामले में सजायाफ्ता भी हैं और आतंकी संगठनों से साठगांठ के आरोपी भी।

पिछले 13 मई को सिवान में पत्रकार राजदेव रंजन की हत्या की शक की शुई शहाबुद्दीन पर जाने के बाद उनका स्थानांतरण सिवान से भागलपुर केन्द्रीय कारा में कर दिया गया। कमर की दर्द की शिकायत के बाद चार दिनों पूर्व उन्हें डिब्रूगढ़-नई दिल्ली राजधानी एक्सप्रेस से इलाजे के लिए दिल्ली ले जाया गया।

शहाबुद्दीन के साथ दो जेलर सहित 24 सुरक्षाकर्मियों का एक अमला भी दिल्ली गया पर भागलपुर जेल से दिल्ली एम्स तक पहुंचन वाले शहाबुद्दीन के हाथों में कहीं भी हथकड़ियां लगी नहीं दिखीं। शहाबुद्दीन वर्तमान में जिस पार्टी के महासचिव हैं, राजबल्लभ प्रसाद उस पार्टी के विधायक। तो फिर इस तरह की दोरंगी नीती का मतलब क्या। क्या सरकार या कानून ने शहाबुद्दीन को हथकड़ी न लगाने और राजबल्लभ को हथकड़ी लगाकर अदालत में पेश करने का निर्देश दिया था या फिर शहाबुद्दीन के साथ गए पुलिस अधिकारियों, जेलर या पुलिसकर्मियों में शहाबुद्दीन के हाथों में हथकड़ी लगाने की हिम्मत नहीं जुटी।

aaropiएक विधायक को फरार होने की आशंका से अगर उनके हाथों में हथकड़ी लगायी जा सकती है तो एक सजायाफ्ता और देशद्रोह के मामले में अंतराष्ट्रीय स्तर पर चर्चित कुख्यात बाहुबली शहाबुद्दीन के हाथों में क्यों नहीं। बिहार सरकार ने क्या दोनों के लिए क्या अलग-अलग कानून बना रखे हैं।

ऐसा नजारा देश के किसी राज्य की अदालतों में नहीं देखा जाता, जहां सामान्य और विचाराधीन जनप्रतिनिधियों के हाथों में हथकड़िया लगाई जाती हों देश की राजधानी दिल्ली जहां सुप्रीम कोर्ट, हाइकोर्ट,तीसहजारी, पटियाला हाऊस व कड़कड़डुमा जैसे पांच शीर्षस्थ या महत्वपूर्ण अदालते हैं, वहां भी पेशी के वक्त किसी विचाराधीन बंदी को कानून के बंदिश के कारण हथकड़ी नहीं लगाया जाता बल्कि पुलिसवाले बंदी का एक हथेली अपनी हथेली में जकड़ उसे अदालत में पेश करते हैं।

यहां तक कि दो वर्ष पूर्व दिल्ली में हुए बहुचर्चित निर्भया रेप मामले के आरोपितों में से एक शिवकुमार यादव (तस्वीर में देखें) को भी कोर्ट में पेशी के वक्त हथकड़ी नहीं लगाया गया।  (साभारः फेसबुक)

0 0
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
Share Button

Relate Newss:

खुदकुशी नहीं, मीडिया और राजनीति का भद्दा मजाक !
बिहार तुझे सलाम !
यूपी में कानून व्यवस्थाः दो हफ्ते में फूंक दिए गए चार थाने!
केन्द्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा- jnu मामले को लश्कर आतंकी हाफिज सईद का समर्थन
राहुल गांधी ने टटोली झारखंड में राजनीति की नब्ज
Ex. BJP MLA अलोक रंजन पर पत्रकार ने दर्ज कराई मारपीट की FIR
प्रेस क्लब रांची चुनावः कमजोर नींव पर बुलंद ईमारत बनाने के जुमले फेंकने लगे प्रत्याशी
अगवा डॉक्टर की हत्या, SP ने दी थी फिरौती देने की सलाह !
जज को घूस की पेशकश में फंसे श्वेताभ सुमन
यहां आंचलिक पत्रकारिता और चुनौतियां विषयक कार्यशाला में उभरे ये सच
मैं ही सबका पूर्वज हूं, मैं आदिवासी हूं।
स्वाभिमान रैलीः गांव-गरीब पर लालू की पकड़ बरकरार
श्रीकांत प्रत्युष ने जी न्यूज़ से इस्तीफा दिया
पाकिस्तानी मीडिया की लीड खबर रही बिहार में नीतिश के हाथों मोदी की हार
शिव सेना का पोस्टर अटैक, मोदी को बताया ढोंगी
एक वेश्यालय संचालक है गया नगर निगम का उप मेयर !
सोनिया ने मोदी से पूछा, क्या हुआ तेरा वादा
आंखों देखी फांसीः एक रिपोर्टर के रोमांचक अनुभव का दस्तावेज
वैध नहीं है हिंदू महिला और ईसाई पुरुष के बीच शादी :हाईकोर्ट
नरेंद्र मोदी के नाम खुला खत
मीसा भारती को महंगा पड़ा हार्वर्ड का 'फेक लेक्चर' बनना
पत्रकारिता का यह कैसा वीभत्स चेहरा !
The Telegraph ने राष्ट्रपति-प्रधानमंत्री-गृहमंत्री की तस्वीर लगा यूं छापी लीडः We the idiots
चुनाव हारने के बाद रोते हुए फर्श पर गिर पड़े थे केजरीवाल !
बाबूलाल मरांडी  ने खुद खोल ली अपनी राजनीति की कलई !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...