शाहरुख खान विज्ञापन वाली फेयर हैंडसम क्रीम कंपनी पर 15 लाख का जुर्माना

Share Button

चार हफ्तों में मर्दों को गोरा बनाने का दावा करने वाली एक नामी फेयरनेस क्रीम कंपनी कानूनी पचड़ो में फंस गई है। फेयरनेस क्रीम बनाने वाली इमामी कंपनी पर दिल्ली की जिला उपभोक्ता अदालत ने पर 15 लाख रुपए का जुर्माना लगाया है। कोर्ट ने यह फैसला 26 साल के एग्जि‍क्युटिव निखिल जैन की याचिका पर सुनाया है।

shahrukh khan_adतीन साल पहले दायर अर्जी में निखिल ने आरोप लगाया था कि इमामी ने प्रचार में जो दावा किया था, क्रीम के इस्तेमाल से सच में वैसा कोई नतीजा नहीं आया।

कंपनी का विज्ञापन देखने के बाद निखिल ने क्रीम खरीदी, लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ। तब वे 23 साल के थे। उन्होंने कानून के छात्र अपने छोटे भाई पारस की मदद से उपभोक्ता न्यायालय में केस किया।

मुंबई में रह रहे निखिल ने बताया, ‘मैंने एक महीने तक क्रीम का इस्तेमाल किया, लेकिन कुछ नहीं हुआ। मुझे बड़ी हैरानी हुई। मैंने सोचा कि ऐसे ही करोड़ों लोग इसका इस्तेमाल कर रहे होंगे और उन्हें कोई फायदा भी नहीं हो रहा होगा। इसे लेकर कोई कोर्ट जाने की भी नहीं सोचता। मैंने और पारस ने कोर्ट जाने का फैसला किया, ताकि दूसरे लोग हमारी तरह खामियाजा भुगतने से बच जाएं।’

कोर्ट में कंपनी ने कहा कि उसका प्रॉडक्ट त्वचा की सेहत और गुणवत्ता सुधारने के लिए है। इस पर कोर्ट ने विज्ञापन को भ्रामक बताया। कोर्ट ने कहा, ‘पहली बात तो विज्ञापन में गोरापन शब्द का प्रयोग किया गया है, जिसका मतलब है त्वचा का रंग साफ करना। दूसरी बात, इसमें वादा किया गया है कि चार हफ्ते के इस्ते‍माल के बाद गोरी त्वचा मिलेगी।’

फैसले के मुताबिक, इमामी को अपना वह विज्ञापन भी वापस लेना होगा, जिसमें पुरुषों की त्वचा को चार हफ्तों में गोरा बनाने का झूठा दावा किया गया है। शाहरुख खान को लेकर यह विज्ञापन बनाया गया है।

निखिल ने कंपनी से किसी मुआवजे की मांग नहीं की। उन्होंने सिर्फ कानूनी कार्रवाई में खर्च हुई राशि की मांग की। कंपनी अब उन्हें इसके एवज में 10,000 रुपए देगी। 15 लाख रुपए की राशि दिल्ली के उपभोक्ता कल्याण निधि में जाएगी।

Share Button

Relate Newss:

....और इस मनगढ़ंत बड़ी खबर से पटना की मीडिया की विश्वसनीयता हो गई तार-तार
भस्मासूर बने मांझी, मिली पार्टी से निष्कासन की चेतावनी
जी न्यूज और न्यूज नेशन के खिलाफ हाईकोर्ट पहुंचे धोनी
शॉटगन का विजयवर्गीय पर पलटवार-  'हाथी चले बिहार.....भौंके हजार'
भारत सरकार की नई विज्ञापन नीतिः पारदर्शिता और विश्वसनीयता पर जोर
मीडिया को अपने चश्मे का रंग बदलना होगा
देखिए वीडियोः किस शर्मनाक करतूत के कारण हटाया गया राष्ट्रीय सहारा का विज्ञापन मैनेजर
पुरातत्व विभाग उदासीनता से मायूस हैं चंडी के लोग
पीएम मोदी को पीछे छोड़ बिगबी बने ट्वीटर के बादशाह
ताजा टीवी रिपोर्टर इंद्रदेव यादव हत्याकांडः कौन है बिरेन्द्र ?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading...