वेशक चार आने की धनिया है “एशिया” के ये लफंगे पत्रकार

Share Button

reporter_saraikela1reporter_saraikela3राजनामा.कॉम। जमशेदपुर-सरायकेला हलके से आदित्यपुर स्माल इंडस्ट्री एसोसिएशन (एशिया) के पदाधिकारियों और पत्रकारों से जुड़ी एक सनसनीखेज जानकारी उपलब्ध हुई है, जो कि वहां के पत्रकारिता की गिरते स्तर को रेखांकित करती है। हालांकि, कमोवेश ऐसी स्थिति हर जगह देखने को मिलती रहती है।

reporter_saraikela2कहते हैं कि एशिया के पदाधिकारियों ने चुनिंदा बड़े मीडिया हाउस के पत्रकारों को अपने खर्चे से एक ऐय्यासी यात्रा करवाई है।

उन सबों की इस यात्रा की धमक पश्चिम बंगाल के झारग्राम स्थित एमपीएस रिसोर्ट में भी खूब हुई है। यह रिसोर्ट बहुचर्चित चिंट-फंड कंपनी सारदा घोटाले के एक आरोपी की है।

reporter_saraikela4बताते हैं कि एशिया के अधिकारियों के साथ सरायकेला-जमशेदपुर के दस चुनिंदा पत्रकार एमपीएस रिसोर्ट की मजा लुटने गए थे।  

reporter_saraikela5बहरहाल, सबाल उठना लाजमि है कि आखिर एशिया के पैसे पर ऐय्यासी करने वाले ऐसे पत्रकार उनके अधिकारियों के लिए कौन सा काम करते हैं कि उन्हें तन-मन की सुख-भोग प्रदान किया गया।

ऐसे में किसी ने ठीक ही कहा है कि…..

पत्रकार नहीं बनि‍या हैं

चार आने की धनि‍या हैं।

खबर लाएं बाजार से

करैं वसूली प्यार से

लौंडा नाच नचनि‍या हैं

पत्रकार नहीं, ये बनि‍या हैं।

चार आने की धनि‍या हैं।

करैं दलाली भरकर जेब

जेब में इनकी सारे ऐब

दफ्तर पहुंचके पकड़ैं पैर

जय हो सुनके होवैं शेर

नेता की रखैल रनि‍या हैं,

पत्रकार नहीं ये बनि‍या हैं,

चार आने की धनि‍या हैं।

Share Button

Relate Newss:

सीबीआई की रेड में अय्याशी का अड्डा निकला ‘प्रातः कमल’ अखबार का पटना दफ्तर
कशिश से यूं हटाये गये गंगेश गुंजन
रांची पुलिस की पेट्रोलिंग पार्टी ने ही लूट लिये 70 लाख, 6 सस्पेंड, गये जेल
मोदी-चीन डील में अडानी और भारती समूह की बल्ले-बल्ले
आमिर खान को 818 रुपये की लगान वसुली का नोटिस
इनके सामने गिरगिट, वेश्या या फिर कपड़े बदलने के जुमले नाकाफी है हुजूर !
खोखला है मोदी का 56 ईंच का सीनाः सोनिया
खरसांवा में सीएम रघुबर दास पर आदिवासियों का बड़ा विरोध, फेंके जूत्ते-चप्पल
सुनीति रंजन दास: रामबिलास पासवान संपोषित एक गुंडा !
रेप के आरोपी RJD विधायक को पटना हाइकोर्ट से मिली जमानत
एआर रहमान बोले- आमिर खान जैसे हालात का उन्हें भी करना पड़ा था सामना
बिहारः बारह टकिया 'लाइनर' और 'स्ट्रिंजर' कहलाते हैं पत्रकार !
पत्रकार को सिर्फ पत्रकार होना जरूरी नही !
पहले 'जय जवान,जय किसान' और अब 'मर जवान,मर किसान'
अनारकली बनीं स्वरा जगा रही उम्मीदें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
loading...