वरिष्ठ पत्रकार रजनीश कुमार झा संग एक ‘गुंडा छाप’ ने की गाली-गलौज, दी सरेआम जान मारने की धमकी

Share Button

राज़नामा न्यूज। आज मीडिया में लुच्चे-लंफगों-गुंडे-मवालियों की फौज बढ़ती जा रही है। ऐसे लोगों को पत्रकारिता से कोई सीधा सरोकार नहीं नहीं है। नीचे स्तर पर तो स्थिति और भी गंभीर नजर आती है।

देश के जाने माने निर्भिक पत्रकारों में शुमार श्री रजनीश कुमार झा का अपना अलग व्यक्तित्व है। उनके साथ मधुबनी के एक कथित गुंडा छाप मीडिया कर्मी ने जो गुंडई की है, उसकी जितनी भी निंदा की जाये, वह कम है।

प्रसिद्ध न्यूज वेब पोर्टल लाइव आर्यावर्त के सम्पादक रजनीश कुमार झा

खबर है कि मधुबनी जिला IFWJ (इन्डियन वर्किंग फेडरेशन जर्नलिस्ट असोसिएशन) के जिला अध्यक्ष ने प्रसिद्ध न्यूज वेब पोर्टल लाइव आर्यावर्त के सम्पादक  रजनीश कुमार झा के साथ सिर्फ गाली-गलौज ही नहीं की अपितु, जान से मारने की धमकी भी दी है।

मामला संगठन के अध्यक्ष के एक्यूपंचर सर्टिफेकेट का है। जिसे उक्त तथाकथित संगठन अध्यक्ष ने अपने फेसबुक वाल पर शेयर करते हुए लोगों को कहा था कि “मैं अब MD बन गया हूँ, अब मैं ड़ोक्टरेट लगा सकता हूँ अर्थात अब मैं डॉ हेमंत सिंह हूँ, आप मुझे बधाई दीजिये।“

इस पर पोर्टल सम्पादक रजनीश कुमार झा ने जब हेमंत सिंह के वाल पर टिपण्णी की की सरसरी तौर पर आपका ये डिप्लोमा फर्जी लग रहा है। साथ ही डिप्लोमा वाले ड़ोक्टरेट नहीं लगा सकते हैं।

फिर क्या था। हेमंत सिंह नामक कथित संगठन अध्यक्ष ने पहले तो वाल पर ही गाली गलौज की। फिर प्रतिक्रिया ना आये, इस लिए रजनीश कुमार झा सरीखे वरिष्ठ पत्रकार को ब्लाक कर दिया।

मधुबनी जिला IFWJ (इन्डियन वर्किंग फेडरेशन जर्नलिस्ट असोसिएशन) के जिला अध्यक्ष की डिग्री….

कहा जाता है कि आज दिन शनिवार को मधुबनी जिले के पत्रकारों की एक खेल कूद से सम्बंधित बैठक थी, जहाँ अचानक से हेमंत सिंह आया और श्री झा के साथ गाली गलौज (मा*, फा**) करते हुए उन्हें जान से मारने की धमकी दी।

 हालाँकि इस पर कानूनी प्रक्रिया की राय ली जा रही है। आप तस्वीरों को देखिये जो संदिग्ध सर्टिफेकेट को दर्शाता है और संस्थान भी जो फर्जी प्रमाण पात्र बांटता है।

आई कार्ड पर वैलिड 2019 लिखा है, जबकि प्रमाण पत्र (जो की फोटो सहित है, शायद पहला फोटो प्रमाण पत्र होगा) पर जारी तारीख  2017 है। अब ये कमाल कैसे संभव है कि सत्र से पहले ही प्रमाण पत्र बाँट दिया गया हो।

मधुबनी जिला IFWJ (इन्डियन वर्किंग फेडरेशन जर्नलिस्ट असोसिएशन) के जिला अध्यक्ष की आई कार्ड….

इस बाबत आर्यावर्त के संपादक रजनीश कुमार झा अपने फेसबुक वाल पर अपनी पीड़ा उकेरी है और मधुबनी की मीडिया बिरादरी पर तीखे सबाल उठाये हैं।

श्री झा लिखते हैं कि “क्या मधुबनी मीडिया परिवार गुंडों के साथ खड़ा होता है ? गुंडे और आपराधिक प्रवृत्ति के लोगों को मौन सहमति देता है ? दुखद है जब पच्चीसो पत्रकारों के बीच हेमंत सिंह मुझ से गाली गलौज करता है, मुझ पर हमला करने आता है तो मधुबनी पत्रकारिता के महामहीम धृतराष्ट्र की तरह आंखें मूंद आपराधिक प्रवृत्ति को बढ़ावा देते हैं।“ 

श्री झा के इस फेसबुक पोस्ट पर लोगों ने कड़ी टिप्पणी की है। लोगों ने लिखा है….

Pankaj Chaturvedi बेहद शर्मनाक

Rajiv Ranjan दुखद। 
शर्मसार करने वाली घटना।

Nunu Jha Maithil मधुबनी क्या समूचा मिथिला की मिडीया पेसै के लिए कुछ भी कर सकता है

Ishnath Jha मधुबनी में मीडिया नहीं मिड्लमैन है सब , बीच वाला !

Videsh Chaudhary Aapas me shanti banaye rakhe !Nahi to janta aaplog ke vishay me kya sochegi kya bolegi…….?

Prahlad Purbey Dablu आप अपना पक्ष रखने के लिए स्वतंत्र हैं बन्धु ,लोकतंत्र में आपको या पूरे भारतीयों को यह हक़ है।

Rajneesh K Jha आलोचक से आपका क्या तात्पर्य है प्रह्लाद जी ? जहां की गलती दिखेगी पत्रकार आलोचक बन जाएगा और जिसमे आलोचना की हिम्मत नही है वो कभी एक प्रखर पत्रकार नही हो पाएगा । पत्रकारिता का मतलब सिर्फ खबर छापना नही होता है । आप एक जातिगत संस्था के अच्छे संचालक हो सकते हैं पर जरूरी नही की आप एक अच्छे विचारक हैं । धन्यवाद ।

Prahlad Purbey Dablu इसमें भी कॉपी पेस्ट

Rajneesh K Jha आपने तथ्य को नहीं देखा ——- आपको स्पष्ट करना चाहिए बंधू !!!

Prahlad Purbey Dablu मुझे आप सही न समझे , ये आपका हक़ है।

Rajneesh K Jha Prahlad Purbey Dablu क्या आप चाहते हैं मधुबनी पत्रकारिता आलोचना ना करे — जो आलोचना करे वो पत्रकार नहीं, जो सवाल उठाये वो पत्रकार नहीं — आपने आलोचना शब्द को स्पष्ट नहीं किया है !!

Brajendra Nath Jha आप किस मीडिया की बात करते हैं रजनीश जी….जहां की मीडिया एक किलो तेल पर किसी की खबर छाप दे…जहां का रिपोर्टर निगोसिएशन करने बैंक और बनियों के यहां बैठे…तो आप समझ सकते हैं पत्रकारिता….

Brajendra Nath Jha ये मैने यूं ही नहीं कह दिया…मैने एक रिपोर्टर को रंगे हाथों पकड़ा भी…

 Rajneesh K Jha लम्पट सब है —– सुनियेगा तो लगेगा सब रवीश, पुन्य, और सुधीर चौधरी के साथ साथ प्रभाष जोशी ही है — हद है !!!!

Dhrub Narayan Karn दुखद घटना।

Durganath Jha दुःखद । शर्मनाक ।

Share Button

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.