राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने की मीडिया की जमकर प्रशंसा

Share Button

नीजि आजादी को बनाए रखने के काम में मीडिया की भूमिका की बात करते हुए राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने मीडिया की जमकर तारीफ की।pranab da

राष्ट्रपति भवन में आयोजित मलयालम मनोरमा ग्रुप के पूर्व चीफ एडिटर स्व. के.एम. मैथ्यू की ऑटोबायोग्राफी की लॉन्चिंग कार्यक्रम में बोलते हुए उन्होंने ये तारीफ की। इस ऑटोबायोग्राफी का नाम है ‘द एठ्थ रिंग’ (‘The Eighth Ring)।

इसका विमोचन करते हुए प्रणव मुखर्जी ने कहा वैयक्तिक आजादी और किसी के बोलने के अधिकार को बरकरार रखने में मीडिया का अहम रोल रहा है, मीडिया ने इस पर कभी कम्प्रोमाइज नहीं किया।

आजादी से पहले से ही मीडिया महत्वपूर्ण भूमिका निभाता आया है। राष्ट्रपति मुखर्जी ने के.एम.मैथ्यू से दशकों पुराने रिश्तों की भी यादें ताजा कीं।

उन्होंने मलयालम मनोरमा समूह के विस्तार में उनकी भूमिका को रेखांकित किया। उन्होंने कहा, `मैं के.एम.मैथ्यू को अपने जीवन के शुरुआती दिनों से जानता था।’

राष्ट्रपति ने मीडिया के फील्ड में टेक्नोलॉजी के बढ़ते रोल पर भी अपनी राय रखी, उनके मुताबिक इससे चुनौतियां बढ़ी हैं, पुराने फैशन वाले इससे डर सकते हैं लेकिन मुझे आज के दौर के जर्नलिस्ट्स और एडिटर्स पर भरोसा है कि वो इसे हैंडल कर लेंगे।

हालांकि उन्होंने यह भी कहा कि टेक्नोलॉजी और इंटरनेट के चलते दुनियां एक ग्लोबल विलेज में भी बदल गई है।

राष्ट्रपति भवन में आयोजित इस कार्यक्रम में मलयाला मनोरमा के मुख्य संपादक मेमन मैथ्यू ने राष्ट्रपति को ‘द एठ्थ रिंग’ की पहली प्रति भेंट की। मैथ्यू ने पुस्तक के बारे में संक्षिप्त जानकारी दी।

उन्होंने कहा कि के एम. मैथ्यू चाहते थे कि अंग्रेजी एडिशन उनके जीवन में ही जारी हो लेकिन ऐसा नहीं हो सका क्योंकि अगस्त 2010 में उनका निधन हो गया।

समारोह में विभिन्न क्षेत्रों की कई हस्तियों ने शिरकत की, जिनमें एनडीटीवी के अध्यक्ष प्रणॉय राय भी शामिल थे।

प्रणॉय राय ने के.एम.मैथ्यू को पत्रकारिता में `बड़ी हस्ती’ बताया जिन्होंने अपनी जिंदगी की सभी लड़ाइयां जीतीं।

के.सी. मेमन के आठवें पुत्र के.एम. मैथ्यू 1973 में मलयाला मनोरमा के चीफ एडिटर बने और 2010 में अपने निधन तक मीडिया हाउस का नेतृत्व किया।

के.एम. मैथ्यू के नेतृत्व में ही मलयाला मनोरमा ने अंग्रेजी वीकली मैगजीन ‘द वीक’ सहित कई प्रकाशनों का शुभारंभ किया। उन्हें 1998 में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था।

Share Button

Relate Newss:

गुमला में माफियाओं को मिला सोने का खजाना!
फेसबुक पर भास्कर समूह के मालिक की शादी(?) का वायरल !
.....और यूं 4 माह बाद जेल से बाहर निकले पत्रकार वीरेंद्र मंडल व उनके पिता
जब पत्रकार पर टूटा अखबारों का कहर
राजनीतिक प्रदूषण के बावजूद कांग्रेस और भाजपा में ही टक्कर
गलत रस्सी खींच गई महबूबा, श्रीनगर में फहराने से पहले नीचे गिर गया तिरंगा!
रांची प्रेस क्लब का सदस्यता अभियान में दारु बना यूं ब्रांड एंबेसडर
बिहार में एक बार फिर, नीतिश सरकार :पोल ऑफ एक्जिट पोल्स
दैनिक भास्कर ने छापी फिर बकवास, लोग सड़क पर उतरे
चीफ जस्टिस के पत्र से शर्मशार हुई सरकार
समाज के लिए खतरा है ऐसे वेबसाइट-पत्रकार
'द इकोनॉमिस्ट' ने लिखा- 'वन मैन बैंड' हैं मोदी !
आपके बोल से चिढ़ हो रही है सुशासन बाबू !
सड़क हादसे में दैनिक हिन्दुस्तान के उप संपादक की मौत
नालंदाः पूजा से पहले मिट्टी में दफन हो गई चार घरों की लक्ष्मी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
loading...