‘रघुबर सरकार ने रांची की निर्भया कांड की CBI जांच की अनुशंसा तक नहीं की’

Share Button
Read Time:4 Minute, 21 Second

” केन्द्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने सिल्ली के विधायक अमित कुमार महतो को उनकी शिकायत पत्र की बाबत साफ शब्दों में बताया कि राज्य सरकार की ओर से ऐसी कोई पहल नहीं की गई है। यदि पहल की जाती तो वे ऐसे मामलो में फौरिक कार्रवाई की दिशा में कदम उठाते।”

रांची (मुकेश भारतीय)। आज सिल्ली विधान सभा के झामुमो विधायक अमित कुमार महतो झारखंड प्रदेश की 3 चर्चित बिटिया की संदिग्ध मौतों की साबीआई जांच की मांग को लेकर भारत सरकार के केन्द्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह से मिले।

इस मुलाकात के बाद सबसे सनसनीखेज सूचना यह उभर कर सामने आई है कि बिटिया बचाओ की नारे बुलंद करने वाली रघुवर सरकार ने अपनी घोषणा के अनुरुप आरटीसी इंजीनियरिंग कॉलेज की चर्चित  निर्भया कांड की सीबीआई जांच की अब तक कोई पहल नहीं की है।

केन्द्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने सिल्ली के विधायक अमित कुमार महतो को उनकी शिकायत पत्र की बाबत साफ शब्दों में बताया कि राज्य सरकार की ओर से ऐसी कोई पहल नहीं की गई है। यदि पहल की जाती तो वे ऐसे मामलो में फौरिक कार्रवाई की दिशा में कदम उठाते।

केन्द्रीय गृह मंत्री से मुलाकात करने के बाद श्री महतो ने नई दिल्ली से दूरभाष संपर्क में बताया कि राज्य की पुलिस प्रमुख से लेकर सीएम रघुवर दास ने सार्वजनिक तौर पर कहा था कि आरटीसी इंजीनियरिंग कॉलेज की निर्भया के हत्यारों की पहचान कर ली गई है , वे सफेदपोश हैं और दो दिनों के भीतर वे सफेदपोश सलाखों के पीछे होगें। लेकिन आज तक कुछ नहीं किया गया।

श्री महतो ने कहा कि जब सीएम को सफेदपोश की पहचान ज्ञात थी तो अब तक क्यों नहीं कोई कार्रवाई हुई। अगर वे राज्य पुलिस पर हावी हैं तो सीबीआई जांच की अनुशंसा करने की घोषणा को अमलीजामा क्यों नहीं पहुंचाया गया?

सिल्ली विधायक ने कहा कि इसके पहले भी  वे केन्द्रीय गृह मंत्री से इस सिलसिले में मिले थे। उस वक्त भी यही कहा गया था। उसके बाद उन्होंने कई बार इस बाबत झारखंड के सीएम को पत्र लिखा, लेकिन उसका कितना असर हुआ, वह सब आज राजनाथ सिंह सरीखे गृह मंत्री से मिलने के बाद बखूबी हो गया।

 उन्होंने कहा कि दूसरी घटना  गढ़वा की सोनाली के साथ हुई। उसको लेकर भी राज्य सरकार की ओर से कुछ नहीं कहा गया। इसे लेकर सीएम को कई बार अनुरोध आवेदन दिया।

उन्होनें कहा कि तीसरी घटना गोल इंस्टीयूट की इच्छिता की है। जिसके बारे में सभी जानते हैं कि पीड़ित के अविभावक को कैसे खुद सीएम द्वारा डांट भगाया गया था। इसका वीडियो भी वायरल हो चुका है।

केन्द्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह से पहले भी मिल चूके हैं सिल्ली विधायक अमित महतो

उन्होंने कहा कि इन तीनों मामले की जानकारी केन्द्रीय गृह मंत्री को दी गई है कि कैसे राज्य सरकार बिटियाओं के प्रति असंवेदनशील रवैया अपना रही है और सभी की बिना सीबीआई जांच खुलासा होना मुमकिन नहीं है।

 

0 0
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
Share Button

Relate Newss:

देवी की दिव्य माहवारी, हमारे लिए बीमारी !
प्रखंड कमेटी के गठन के साथ जर्नलिस्ट एसोसिएशन ऑफ झारखंड की बैठक संपन्न
नई दिल्ली के फाइव स्टार होटर में महिला पत्रकार से गैंगरेप !
न्यूज वेब साइट पोर्टल को फर्जी कहने वाले की करें शिकायत, वे सीधे नपेगें
वेशक यह व्यंग्य मात्र नहीं, कतिपय सरकारी स्कूल का आयना है
आखिर रघुवर दास महेन्द्र सिंह धौनी से इतने चिढ़ते क्यों है?
मरांडी ने हार्स ट्रेडिंग को लेकर जारी की ऑडियो-वीडियो, कहा- इस्तीफा दें रघुवर
रांची प्रेस क्लब कोर कमेटी के निर्णयों से पत्रकारों में आक्रोश
भाजपा ने सोशल मीडिया को 'एंटी-सोशल' बनायाः नीतिश
केंद्रीय मंत्री वेंकैया नायडू ने कहा, पत्रकार बिरादरी में भी फैल रहा है भ्रष्टाचार
और भारत में बिल्कुल संस्कारी बना दिया गया जेम्स बॉन्ड
युवा पत्रकार मनोज सिंह ने लिखा- मीडिया में 'तल्लूचट्टू' भी एक बीट है!
आजसू नेत्री हेमलता की मुश्किलें बढ़ी, पटना डीएसपी ने सही ठहराया आरोप
देखिए वीडियोः  शराब व शवाब का कैसा स्टडी करने गए थे बिहार के ये माननीय
मुखिया की गुंडई पर पुलिस की कार्यशैली को लेकर पत्रकारों में उबाल
मीडिया की परेशानी और चुनौतियों को भारत सरकार तक पहुंचाए पीआईबी
पुलिस अकर्मण्यता की हदः वे चाहे जो करें उनकी मर्जी !
यह है पीएम मोदी को 55 करोड़ रिश्वत देने की संपूर्ण कथा !
शहरी 4,400 रु. तो ग्रामीण 2,900 रु. देते हैं हर साल रिश्वत!
मेहमानों को भी बेइज्जत करने से नहीं चूके झारखंडी अफसर
यहां टेंडर मैनेज कराने वाले सीएम क्या रोकेगें भ्रष्टाचार : बाबू लाल मरांडी
कितना जरूरी है सोशल मीडिया पर अंकुश
मिड डे के वरिष्ठ पत्रकार की हत्या की सीबीआई जांच शुरू
आदिवासी इलाकों में पंचायत चुनाव नहीं होने देंगे स्वामी अग्निवेश
मांद में ही मात गये सांसद

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...