मोदी जी, सीएम रघुबर दास के बेटा-भाई पर भी नजर डालिए!

Share Button

राजनामा.कॉम। हाल ही में मोदी सरकार के एक साल पूरा होने पर पीएम मोदी ने मथुरा में कहा था कि उनकी सरकार के एक साल के कार्यकाल में किसी मंत्री, मुख्यमंत्री या नेता के बेटे-भाई से जुड़ा कोई विवाद सामने नहीं आया है। लेकिन लगता है कि झारखंड के सीएम रघुबर दास जैसों से जुड़ी सूचनाएं पीएम मोदी के कानों तक नहीं पहुंच रही है।

cm_rghubar_brotherपिछले दिन जमशेदपुर में एक असहाय बृद्धा की जमीन हड़प विवाद से जुड़ी वीडियो में साफ दिख रहा है कि जब पत्रकार सीएम रघुवर दास के भाई मूलचंद दास से सवाल कर रहे थे तो वह लगातार कैमरे पर हाथ मार रहे थे। पत्रकारों को दुत्कार रहे थे। एक ओर राज्य के मुख्यमंत्री रघुवर दास राज्य मे छवि बनाने मे लगे हुए हैं, वहीं उनके भाई उनकी छवि को धूमिल करने में कोई कसर नहीं छोड़ रहे।

पूरा मामला एक महिला की जमीन के कब्जे से जुड़ा है। महिला ने आरोप लगाया है कि सीएम के भाई ने शंकोसाई में उसकी जमीन को घेर रखा है, जिसकी शिकायत उसने उपायुक्त कार्यालय में की। महिला के साथ कांग्रेस कार्यकर्ता भी मौजूद थे।

जैसे ही मुख्यमंत्री के भाई को सूचना मिली कि उनके खिलाफ कोई वृद्ध महिला शिकायत लेकर पहुंची है, तो वे तुरंत उपायुक्त कार्यालय पहुंचे और उस महिला के बारे में पता लगाने लगे। इसी दौरान जब पत्रकारों ने उनसे सवाल किया तो वह बदसलूकी पर उतर आए।

इसके पूर्व रघुवर दास के सीएम बनते ही उनके पुत्र ललित दास की कई सेक्स ऑडियो क्लीप सामने आये। उस सेक्स ऑडियो क्लीप में ललित दास एक महिला से काम करवाने की एवज में सेक्स की मांग करते नजर आये। पीड़ित महिला ने इसकी शिकायत लेकर पुलिस-प्रशासन के पास गई। पुलिस-प्रशासन ने कोई कार्रवाई नहीं की।

इस सेक्स ऑडियो प्रक्ररण की गूंज झारखंड हाई कोर्ट परिसर में सुनाई दी। मामले की उच्चस्तरीय जांच को लेकर एक जनहित याचिका दायर के समाचार सामने आए। यह दीगर बात है कि इस मामले को मीडिया ने कोई जगह नहीं दी। कहते हैं कि फिलहाल उच्चस्तरीय दबाव में सब कुछ शंट है।

सीएम रघुवर दास के भाई की जमीन हड़प अभियान का मामला भी दब जाता लेकिन विरोधी कांग्रेस दल की पीड़िता के पक्ष में सक्रियता और मूलचंद दास की मीडिया के प्रति उदंडता ने सब कुछ सामने ला दिया। (राजनामा डेस्क)

Share Button

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading...