मोदी के खिलाफ 77, समझें क्या है खेल ?

Share Button
Read Time:2 Minute, 59 Second

MODI (2)राजनामा.कॉम(सीमा श्रीवास्तव)। वाराणसी से पर्चा दाखिल करने वाले भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी के खिलाफ यहां से रिकॉर्ड संख्या में प्रत्याशी मैदान में हैं।

मोदी यदि प्रधानमंत्री बनने में कामयाब रहे तो वह पहले प्रधानमंत्री होंगे, जिन्होंने चुनावी दौड़ में 77 उम्मीदवारों का सामना किया हो। राजनीति के जानकार मोदी के खिलाफ खड़े 77 उम्मीदवारों की लिस्ट देखकर आकलन कर रहे हैं कि यह विरोधियों द्वारा उनके वोट को काटने के लिए बनाई गई रणनीति का हिस्सा है।

1989 के लोकसभा चुनाव के बाद विश्वनाथ प्रताप सिंह प्रधानमंत्री बने थे। उन्हें चुनाव में 17 प्रत्याशियों से ही मुकाबला करना पड़ा था। उस समय मंडल कमिशन की आंधी चली थी, हालांकि सरकार कार्यकाल पूरा नहीं कर सकी और चंद्रशेखर सिंह ने आगे प्रधानमंत्री की कुर्सी संभाल ली। चंद्रशेखर के खिलाफ बलिया सीट से 13 उम्मीदवारों ने ताल ठोकी थी।

वर्ष 1991 में पी. वी. नरसिम्हा राव भी महज 13 प्रत्याशियों के साथ संघर्ष करते हुए 7 रेस कोर्स रोड पहुंचे थे। इसके बाद साल 1996 में लखनऊ सीट से पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को 58 उम्मीदवारों, वर्ष 1998 में 13 और वर्ष 1999 के चुनाव में 14 राजनीतिक प्रतिद्वंद्वियों का सामना करना पड़ा था।

मोदी को वाराणसी सीट पर न सिर्फ अब तक के सबसे अधिक 77 उम्मीदवारों से जूझना पड़ेगा, बल्कि उन पर सामाजिक-सांस्कृतिक ताने-बाने को भी सहेजने की जिम्मेदारी होगी, जिसे उनके नामांकन के दौरान दिखाने की कोशिश की गई थी। राजनीतिक विश्लेषक और पंडित मदनमोहन मालवीय पत्रकारिता संस्थान के डायरेक्टर प्रफेसर ओमप्रकाश सिंह कहते हैं, ‘चुनाव के अंतिम चरण में विरोधी दलों ने मोदी को घेरने का यह अंतिम प्रयास किया है। बीजेपी और मोदी द्वारा सहेजे गए एक-एक वोट में बिखराव लाने की कोशिश की जा रही है या यूं कहें कि यह विरोधियों के छद्मयुद्घ का एक रूप है। (साई फीचर्स)

0 0
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
Share Button

Relate Newss:

शोभना भरतिया ने हिंदुस्तान टाइम्स को पांच हजार करोड़ में मुकेश अंबानी  को बेचा!
दैनिक प्रभात खबर का अमन तिवारी क्राईम रिपोर्टर है या क्राईम मैनजर !
मैला साफ करने को मजबूर है एएनएम
बिना हेलमेट बाइक चला रहे छायाकार को पुलिस ने धुना, लगी गंभीर चोट
संसद को लेकर आडवाणी व्यथित, बोले- इस्तीफा देने को मन कर रहा है
घोटाला में फंसाने वाले नीतीश-मोदी जल्द जाएंगे जेलः तेजस्वी
बहुत कठिन है सहिष्णु होना श्रीमान
सृजन महाघोटालाः सीबीआई की रडार पर नेताओं,अफसरों के साथ पत्रकार भी
वन्यजीव संरक्षण के दिशा में सराहनीय है मेनका के कदमः जाजू
टीवी टुडे दिल्ली के पत्रकार अक्षय सिंह की संदिग्ध मौत को लेकर सीबीआई के रडार पर आजतक के पत्रकार राहु...
स्वाभिमान रैलीः गांव-गरीब पर लालू की पकड़ बरकरार
एक बेईमान एसडीओ  बना जल संसाधन मंत्री ललन सिंह का आप्त सचिव !
पद्मश्री बलबीर दत के सम्मान में पहुंचे मात्र तीन पत्रकार !
महंगा पड़ा फेसबुक पर शराब की बोतल संग फोटो पोस्ट, 4 समेत पहुंचा जेल
बंद एसी रुम की क्राइम मीटिंग से बाहर निकल AK-47 का धुंआ देखिए सीएम साहब
सीएम ने कहा- ए भागो..मीडिया वाले सब भागो, सब निकल गये, लेकिन दुबके रहे दो बड़े वेशर्म पत्रकार
यहां होगी दो सौतन रानी के बीच चुनावी जंग
दैनिक जागरणः संपादक ने कहा तलवा चाटनेवाला तो रिपोर्टर ने कहा सबूत दिखाइए !
इंटर काउंसिल छात्रों का हंगामा, पुलिस ने चटकाई लाठियां
धनपशुओं की मात्र दुकान बन गई हैं ऐसे न्यूज़ चैनल
या खुदा! इन्हें दोजख भी नसीब न करना
मलमास मेला मोबाइल एप्प से हटाई गई भू-माफियाओं से जुड़ी सूचनाएं
10 जनवरी 2017 तक बिहार में अधिकारियों के तबादले रोक
खोखला है मोदी का 56 ईंच का सीनाः सोनिया
कोयला घोटाला और भारतीय मीडिया घरानों का काला सच

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...