‘मुजफ्फरपुर महापाप’ का मछली नहीं, मगरमच्छ है इंसासधारी संजय सिंह उर्फ झूलन

Share Button
  • ब्रजेश ठाकुर से भी बड़ी मछली है संजय उर्फ झूलन

  • पीआरडी में रखता था प्रधान सचिव से भी ज्यादा रुतबा

  • सीबीआई को अब झूलन के साथ सुमन शाही की भी तलाश

  • ब्रजेश की संपत्ति की खरीद-बिक्री का हिसाब सुमन के पास

पटना/ मुजफ्फरपुर (विनायक विजेता)। मुजफ्फरपुर अल्पावास गृह और इस कांड में गिरफ्तार ब्रजेश ठाकुर एंड कंपनी के बारे में नित्य नए-नए खुलासे हो रहे हैं।

प्राप्त अद्यतन जानकार और नए खुलासे के अनुसार मुजफ्फरपुर के चर्चित कांड का मास्टरमाइंड ब्रजेश ठाकुर की तरह ही इस कांड का एक और मास्टरमाइंड संजय कुमार सिंह उर्फ झूलन है।

इंसास जैसे प्रतिबंधित हथियार को अपने कंधे पर टांग बिना किसी भय के उसका तस्वीर सार्वजनिक करने वाला झूलन उस शख्स का नाम है, जो ब्रजेश से भी बड़ी मछली ही नहीं बल्कि पूरा का पूरा मगरमच्छ है।

उसने पीआरडी में अपने दोनों हाथो से ही नहीं बल्कि पैरो से भी विज्ञापन व रुपये बटोरे। झूलन ब्रजेश ठाकुर के पटना कार्यालय का ब्यूरो इंचार्ज तो था ही, विज्ञापन सहित अन्य नैतिक-अनैतिक कार्य वह ही देखा करता था

प्रात: कमल के पटना स्थित कार्यालय में बने ‘ऐशगाह’ जहां से सीबीआई को छापेमारी के दौरान कंडोम से भरे कार्टन, शक्तिवधर्क दवाईयां और कई आपत्तिजनक सामान मिले थे, में कब किसको रात्री विश्राम कराना है और विश्राम के क्रम में गुप्त कैमरे से किसकी वीडियो क्लीपिंग बनानी है, यह सब झूलन ही तय करता था।

झूलन का बिहार सरकार के सूचना एवं जनसंपर्क विभाग में प्रधान सचिव से भी ज्यादा रुतबा था। वह सिर्फ ब्रजेश ठाकुर के अखबार ‘प्रात: कमल’ और ‘नेक्सट न्यूज’ के लिए ही विज्ञापन नहीं जुटाता था बल्कि, पीआरडी में उसी के इशारे पर यह तय होता था कि बिहार के किस अखबार को विज्ञापन देना है किसे नहीं।

यही कारण था कि बिहार के कई बड़े हाऊस और बड़े पत्रकार भी ‘झूलन परिक्रमा’ करते दिखाई देते थे। कल तक यह चर्चा थी कि झूलन ब्रजेश ठाकुर का चचेरा भाई है। रविवार को महत्वपूर्ण जानकारी मिली कि झूलन ब्रजेश का चचेरा भाई नहीं बल्कि मूल रुप से मधुबनी जिले का रहने वाला है।

उसके पिता रमाशंकर सिंह प्रात: कमल के संस्थापक-संपादक व ब्रजेश ठाकुर के पिता राधामोहन ठाकुर के काफी विश्वस्त थे। रमाशंकर सिंह ही प्रात: कमल के वित्तीय प्रभारी थे। संजय उर्फ झूलन ने यह गुर बचपन से ही राधामोहन ठाकुर व अपने पिता से सीखा था

किसी जमाने में राधामोहन ठाकुर के दरवाजे पर बडे़-बड़े मीडिया हाऊस के पदाधिकारियों का न्यूज प्रिंट का कागज ब्लैक में खरीदने के लिए लाइन लगी रहती थी। तब के जमाने में प्रात: कमल का प्रसार काफी कम था, जबकि सरकारी कोटे से उसे अथाह न्यूज प्रिंट मिलते थे।

सीबीआई को इस मामले में ब्रजेश ठाकुर के एक अन्य राजदार मुजफ्फरपुर निवासी सुमन शाही की तलाश है। सूत्र बताते हैं कि सुमन शाही के पास ब्रजेश ठाकुर एंड कंपनी द्वारा खरीद-बिक्री किए गए संपत्ति का पूरा ब्योरा है। सुमन शाही ही ब्रजेश को यह सलाह देता था कि कहां संपत्ति खरीदनी है और कहां बेचनी है।

सूत्र बताते हैं कि ब्रजेश ने मुजफ्फरपुर के सिकन्दरपुर में भी बीते वर्ष काफी बेशकिमती जमीन सुमन शाही की मदद से खरीदी है, पर वह जमीन कहां है, इसका राज सुमन शाही के सीने में ही दफन है।

Share Button

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...