बिल्डर की दंबगई पर दैनिक भास्कर का “खेला”

Share Button

राजनामा डॉट कॉम ने यदि शुरु से ही मीडिया चाहे वह प्रिंट मीडिया हो या इलेक्ट्रॉनिक मीडिया, उस पर भी सीधी नजर रखने की नीति अपनाई है तो इसका एक बड़ा कारण है कि प्रायः बड़े मीडिया हाउस से जुड़े पत्रकार अपने स्वार्थ में आकर किसी भी मामले को समाजिक स्तर पर प्रभावित कर डालते हैं। न्यायालय के फैसले से पहले ही उसे दोषी करार दे डालते हैं। कुछ इस तरह के रियूमर उड़ाते हैं कि मामले की पुलिस जांच यूं ही प्रभावित हो जाये। 

आईये नजर डालते हैं राजनामा डॉट कॉम के संचालक-संपादक मुकेश भारतीय की एक उच्चस्तरीय षडयंत्र के तहत हुई पुलिसिया गिरफ्तारी के संबंध में रांची से प्रकाशित दैनिक भास्कर के दिनांकः2जून,2012 के अंक में पृष्ठ संख्या-3 पर ” 15 लाख रुपये की रंगदारी मांगने का आरोपी गिरफ्तार ” शीर्षक से प्रकाशित खबर पर। इस समाचार में वादी अखबार मालिक को सीधे बिल्डर बताते हुये  राजनामा डॉट कॉम के संचालक-संपादक मुकेश भारतीय को रंगदार बता दिया गया है। समाचार में उल्लेख है कि मुकेश बार-बार बिल्डर पवन बजाज को धमकी दे  रहा था कि अगर 15 लाख रुपये नहीं मिला तो बहुचर्चित राजू धानुका हत्या कांड में फंसा दिया जायेगा। 

इस खबर से साफ स्पष्ट होता है कि संबंधित मामले से जुड़े समाचार को जिस संवाददाता ने लिखा है और जिस संपादक ने संपादित किया है, उसने घोर लापरवाही बरती है या मामले के साथ एक अलग “खेला” खेलने  की जुगत भिड़ाई है। 

Share Button

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading...