मनीषा दयाल की कार्यों की तरह उसके पजेरो में भी है काफी झोल-झाल !

Share Button
  • अनाधिकारिक कागज में हुआ बीआर-30ई-0001 का रजिस्टे्रशन

  • परिवहन विभाग या किसी ऐप पर नहीं है इस गाड़ी का डिटेल उपलब्ध

  • संदिग्ध निबंधन-पत्र में विधायक के भाई उदय प्रताप ही मालिक

पटना (विनायक विजेता)। बिहार की राजधानी पटना के राजीव नगर में स्थित ‘आश्रय शेल्टर होम’ की संचालिका व हाई प्रोफाइल महिला मनीषा दयाल जहां गिरफतारी के बाद चर्चा में है, वहीं मनीषा की गाड़ी पजेरो के बारे में भी नए खुलासे हो रहे हैं।

सोमवार को दोपहर यह खुलासा हुआ था कि मनीषा दयाल बीआर-30ई-0001 नंबर की जिस पजेरो का उपयोग कर रही थी उस गाड़ी के वास्तविक मालिक सीतामढ़ी जिले के रीगा विधानसभा क्षेत्र के कांग्रेस विधायक अमित कुमार टुन्ना के भाई उदय प्रताप सिंह हैं और यह गाड़ी उन्हीं के नाम से निबंधित है।

हालांकि विधायक ने को यह सफाई दी थी कि उनके भाई  ने यह गाड़ी पूर्व में बेच दी है पर एनओसी नहीं मिलने के कारण उस गाड़ी का ट्रांसफर अभी नहीं हो सका। अब हम आपको इस गाड़ी की सत्यता की ओर ले चलते हैं।

रविवार को मनीषा को इस गाड़ी के साथ जैसे ही थाने ले जाया जाने लगा, उस गाड़ी पर अंकित वीवीआईपी नंबर बीआर-30ई-0001 चौंकाने वाली थी। ऐसे नंबर को लेने के लिए सरकारी दर के अनुसार ही काफी रुपये परिवहन विभाग को देने पड़ते हैं।

इस वाहन नंबर को सारे ऐप्स और परिवहन विभाग के उस नंबर पर जिस पर गाड़ी का नंबर भेजे जाने पर उसके मालिक के नाम और पते के बारे में मैसेज द्वारा पता चलता है,  उसपर भी घंटो इसके मालिक के बारे में पता करने का प्रयास किया पर हर तरफ से यही जवाब मिला कि गाड़ी का रजिस्ट्रेशन नंबर सही नहीं है।

सोमवार को जब सीतामढ़ी स्थित परिवहन कार्यालय से संदर्भ में जानकारी प्राप्त की गई तो यह पता तो चला कि संभवत: यह नंबर उदय प्रताप सिंह के नाम पर है, पर उसके कागजात कार्यालय के सरकारी रिकार्ड में दर्ज नहीं हैं।

इसी बीच सोमवार को देर शाम बरामद पजेरो और इसके रजिस्ट्रेशन से संबंधित एक कागजात मिला, जिसमें एक अनाधिकारिक रुलदार रजिस्टर के पन्नों पर वर्ष 2010 में इस गाड़ी का रजिस्ट्रेशन उदय प्रताप सिंह के नाम पर रहने की कथित पुष्टि की गई, जिस पेपर पर परिवहन पदाधिकारी के 27 दिसम्बर 2010 की तिथि में बिना मुहर के हस्ताक्षर बनाए गए हैं।

इस कथित निबंधन प्रमाण-पत्र पर गाड़ी के पूरे डिटेल भी हैं जिसमें यह भी वर्णित है कि यह गाड़ी ‘’मैग्मा फायनांस’ से फायनांस करायी गई है।

बहरहाल यह कथित ‘ऑनर बुक’ या ‘वाहन निबंधन प्रमाण पत्र’ की सत्यता क्या है यह तो जांच का विषय है, पर गाड़ी रीगा के कांग्रेस विधायक अमति कुमार के भाई उदय प्रताप के नाम रजिस्टर्ड है, इसे खुद विधायक भी स्वीकार कर चुके हैं।

इस ‘वाहन निबंधन प्रमाण पत्र’ ने कई सवाल खड़े कर दिए हैं। मसलन इस कम्प्यूटराइज्ड युग में भी इस वाहन के बारे में परिवहन विभाग या गुगल के किसी ऐप या साइट पर कोई जानकारी उपलब्ध क्यूं नहीं है!

ऐसे अनाधिकारिक रुलदार पन्नों पर मिले इस कथित ‘वाहन निबंधन प्रमाण पत्र’ की सत्यता क्या है! इन सारे मामलों पर गहनता से जांच आवश्यक है। कहीं ऐसे मामलों में समाज कल्याण विभाग के साथ परिवहन विभाग की भी तो संलिप्तता नहीं रही है।

गौरतलब है कि इसके पूर्व मुजफ्फरपुर अल्पावास गृह कांड मामले में जेल भेजे गए ब्रजेश ठाकुर की भी सभी गाड़ियों के नंबर वीआईपी नंबर ही पाए गए थे। अब इस गाड़ी मामले को लेकर भी कुछ सनसनीखेज रहस्योद्घाटन की संभावना है।

Share Button

Relate Newss:

झारखंड में अब भाजपा का रघुवर'राज
शहाबुद्दीन से पूछा सबाल तो भड़के समर्थक ने मीडियाकर्मी को पीटा
बचिये ऐसे विज्ञापनों से, हमें मूर्ख बना रहे हैं ये
भस्मासुर बन गये रामकृपाल यादवः लालू प्रसाद
सीएम-स्पीकर के हाथ में जेपीआरडी की महालूट की बानगी
नीतीश कुमार को बिहार विधानसभा में विश्वास मत हासिल
"पायनियर" चला रहे हैं झारखंड पीआरडीए के अधिकारी ?
जारी है झारखंड सूचना एवं जनसंपर्क विभाग में लूट का खेल
हर हथकंडे अपना रहे हैं यौन शोषण का आरोपी सुदर्शन न्यूज के सुरेश चह्वाणके
इस तरह बनाए जा रहे हैं रिपोर्टर- पत्रकार
राजग को 300 सीटें आ भी जाएं तो कैसे आईं, यह कौन बताएगा?
कहां बिकता है अंग्रेजी दैनिक पायनियर की 52,661 प्रतियां ?
इन जंगलियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई क्यों नहीं ?
सिल्ली MLA अमित महतो के इस 'बुजुर्ग मां' जज्बे को सलाम
हमारे पत्रकार संगठन का हर विवाद अंदरुनी मामलाः IFWJ अध्यक्ष

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
loading...