मध्य प्रदेश में प्रेस का बुरा हाल

Share Button
Read Time:4 Minute, 59 Second

pressयह महज संयोग नहीं है कि जब भारतीय प्रेस परिषद के अध्यक्ष जस्टिस मार्कण्डेय काटजू राज्य सरकारों द्वारा प्रेस के साथ किये जा रहे दोहरे व्यवहार की बात करते हैं, उनकी सूची में भाजपा अथवा भाजपा के सहयोगी दलों द्वारा शासित राज्य ही सबसे ऊपर होते हैं। अब चाहे अरुण जेटली या भाजपा के अन्य नेता समेत केन्द्र की राजनीति में विपक्षी दलों की भूमिका अदा कर रहे तमाम राजनीतिक दल भले ही उन्हें कोसने लगे, लेकिन उनकी विद्वता पर किसी प्रकार का कोई ऐतराज नहीं किया जा सकता और यह संदेह जायज भी नहीं है।

संभवत: गुजरात और बिहार की पत्रकारिता कम से कम मध्य प्रदेश की तुलना में ज्यादा निर्भीक और जुझारू है, जिसकी बात पत्रकारिता और पत्रकारों के हितों की लड़ाई का झंडा उठाए व्यक्ति तक पहुंच तो रही है। मगर भाजपा शासित मध्य प्रदेश का क्या जहां भाजपा के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष और अपने आप को पत्रकार कहने में गर्व महसूस करने वाले प्रभात झा को अपनी ही पार्टी के वरिष्ठ नेता अरुण जेटली को लेकर न्यायमूर्ति काटजू के खिलाफ राष्ट्रपति को पत्र लिखना तो याद रहता है, मगर राज्य सरकार के चंद लाड़ले अधिकारियों द्वारा लागू की जा रही अघोषित सेंसरशिप नजर नहीं आती। उन्हें नजर नहीं आता कि प्रदेश में लागू अघोषित सेंसरशिप का दंश कुछ निर्भीक पत्रकार झेल रहे हैं।

इसकी एक बानगी राज्य विधान सभा के बजट सत्र के लिए पत्रकारों को जारी किए गये प्रवेश पत्रों की सूची से मिल जाती है, जिसमें छांट-छांट कर सत्ता प्रतिष्ठान और सरकार के चहेतों के खिलाफ लिखने वाले समाचार पत्रों और उनके प्रतिनिधियों को अलग कर दिया गया है। पराकाष्ठा यह कि असल पत्रकारों के पास काटकर कुछ ऐसे लोगों को पत्रकार दीर्घा के पास जारी कर दिये गये हैं, जिनका कोई कवरेज किसी अखबार में छपता ही नहीं।

लेकिन बात यह नहीं कि इन्हें क्यों पास दिये गये, भाड़ में जाएं ऐसे अधिकारी जिन्हें ये पत्रकार नजर आते हैं। सरकार के फंड का अहम हिस्सा ऐसे लोगों के हाथों रेवडिय़ों की तरह बंट रहा है, जो नाम मात्र का प्रकाशन करते हैं और पार्ट टाइम पत्रकार हैं। इस तालमेल की जानकारी हमने स्वयं मुख्यमंत्री सहित, वरिष्ठ अधिकारियों को दी है। इंडिया अगेंस्ट करप्शन ने भी इस संबंध में प्रमुख सचिव को पत्र लिखा है, पत्रकारों का आंदोलन भी हो चुका पर अधिकारियों का अभी तक कोई बाल भी बांका नहीं कर सका है।
   
क्यों अखबारों में अक्सर पहले पेज पर सरकार की नीतियों की समीक्षा नहीं होती, क्यों भ्रष्टाचार की खबरों की गहराई अधिकारियों से कहीं गहरे उतरे उनके आकाओं तक नहीं पहुंच रहीं, क्यों सत्तारूढ़ दल के अलावा अन्य दलों की गतिविधियाँ पहले पेज पर स्थान नहीं पातीं…. क्योंकि कलम को पेट से बाँध दिया गया है और पेट पालना पहली प्राथमिकता है। और यह भी कि जमीनी हकीकत ऊपर पहुंचना नहीं चाहिये, पहुँचे तो सिर्फ तारीफ ही तारीफ, जिससे फीलगुड में सरकार रहे मदमस्त और अफसर उड़ाये मजे। सरकार बदलने पर भी अफसरों की पालिसी कुछ ऐसी ही रहती है।

अटलजी का इंडिया शाइनिंग याद आता है। केवल इतना ही नहीं प्रदेश के जनसंपर्क विभाग ने ऐसे अधिकारी को विज्ञापन का काम सौंपा गया है जो पहचान-पहचान कर विज्ञापन दे रहा है और ऐसे अखबारों को निपटा रहा है, जो सरकार की विरूदावलि नहीं गाते। अनेक वेबसाइटों और चैनलों पर योजनाओं की जानकारी से ज्यादा सरकार की गान गाथा सरकारी खर्च पर गाई जा रही है। अब इसे क्या समझें?

……….आदित्य नारायण उपाध्याय

0 0
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
Share Button

Relate Newss:

दैनिक जागरण ने भी करोड़ों का सरकारी विज्ञापन लूटा
प्रेम-प्रसंग में हुई भीलवाड़ा के पत्रकार की हत्या, प्रेमिका धराई 
मैग्सेस पुरस्कार पाने वाले 11वें भारतीय हैं रवीश कुमार
श्रीकृष्ण प्रसाद को मातृशोकः नहीं रहीं मुंगेर की 81वर्षीय महिला पत्रकार सावित्री देवी
..और अब यूं वेब न्यूज पोर्टल चलाएंगे वरिष्ठ पत्रकार आशुतोष
शहाबुद्दीन से पूछा सबाल तो भड़के समर्थक ने मीडियाकर्मी को पीटा
हसीन वादियों का लुफ्त उठाते बिहार के CM और उनके पिछे भागती-गिरती मीडिया
WhatsApp, Facebook और Instagram सर्वर डाउन, फोटो-वीडियो नहीं हो रहे डाउनलोड
25 दिसबंर से बंद होगी रांची के बिल्डरिया खबर मंत्र का प्रकाशन !
कौन है रांची के इस चैनल का मालिक! कौन चला रहा है इसे!
बीफ विवाद के बीच हरियाणा के सरकारी पत्रिका का संपादक बर्खास्त
पत्रकारों के लिये सबक प्रतीत है दिवंगत रिपोर्टर हरिप्रकाश का मामला
रिपोर्टर आरजू बख्स को इजलास नोटिश से नालंदा पुलिस का उभरा विकृत चेहरा
गुमला की मीडिया में सड़ांध पैदा कर रखा है ईटीवी का रिपोर्टर!
वरिष्ठ पत्रकार डॉ. वैदिक ने पीएम मोदी को दी हार की बधाई
इस न्यूज़ चैनल का यह कैसा एक्सक्लुसिव
जमशेदपुर प्रेस क्लब दो फाड़, पत्रकारों के बीच अस्तित्व की जंग शुरु
नारायण..नारायण, फेसबुक पर आये हरिनारायण
अपनी बात पहुंचाने का एक प्रयास है किसान चैनल  :पीएम
प्रेस क्लब रांची के नवांतुकों पर अतीत से सीख भविष्य संवारने की बड़ी जिम्मेवारी
प्रिंट मीडिया मालिकों के लिए फिर यूं खास रही पंजाब
नीतिश सरकारः मीडिया में महज चेहरा चमकाने पर फूंक डाले 500 करोड़
विनायक विजेता ने दैनिक भास्‍कर,पटना ज्वाइन किया
सिर्फ गुटबाजी के बल प्रेस क्लब रांची को कब्जाने की होड़ में मीडिया मठाधीश
श्रम विभाग का आदेश मानने को बाध्य नहीं है रांची एक्सप्रेस प्रबंधन !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...