मंगनीलाल मंडल पर कार्रवाई, रामविलास पर क्यों नही !

Share Button

नाजायज औलाद है सांसद चिराग पासवान !  रामविलास की दूसरी शादी अवैध है ! कब करेगा चुनाव आयोग रामविलास पासवान पर कार्रवाई ?  राजकुमारी देवी और रिना पासवान के पति हैं रामविलास !

जदयू के सांसद मंगनीलाल मंडल की सदस्यता समाप्त हो गई क्योंकि दो पत्नी होते हुये भी उन्होनें अपने शपथ पत्र जो नामांकन पत्र के साथ निर्वाचन के समय दाखिल किया जाता है, उसमें अपनी एक पत्नी का जिक्र नही किया था।

इसी तरह की कहानी है लोजपा के अध्यक्ष रामविलास पासवान की। इनका दल इन्हें मुख्यमंत्री एवं प्रधानमंत्री तक के लिये योग्य व्यक्ति मानता है।

खगडिया जिला के अलौली विधानसभा क्षेत्र की भाग संख्या यानी बुथ संख्या ५ के क्रमांक ६०६ एवं ६०७ पर इनकी पहली पत्नी राजकुमारी देवी और दुसरी पत्नी के रुप में रिना पासवान का नाम मतदाता सूची में दर्ज है।

यह बुथ मध्य विद्यालय शहरबन्नी बेलाहीडीह नें स्थित है और इसमे शामिल मतदाता क्षेत्रों में एक मंत्री जी का टोला नाम का क्षेत्र भी है। रामविलास पासवान का नाम भी उसी मतदान केन्द्र पर क्रमांक ६०५ पर है, पिता का नाम जामुन पासवान है।

paswan-wifeरामविलास की पहली पत्नी राजकुमारी देवी का क्रमांक ६०६ है तथा दुसरी पत्नी रिणा पासवान का ६०७। रामविलास की बेटी निशा पासवान का मतदाता क्रमांक ६०८ एवं फ़िल्मों में किस्मत आजमा रहे बेटे चिराग पासवान का नाम क्रमांक ६०९ पर दर्ज है ।

रामविलास के भाई पशुपति कुमार पारस एवं उनकी पत्नी शोभा देवी का नाम क्रमांक ६१३ एवं ६१४ पर दर्ज है। रामचन्द्र पासवान भी रामविलास के भाई है और उनका तथा उनके परिवार का नाम ६१५ से ६१८ तक पर दर्ज है।

इस तरह मतदाता सूची में दो दो पत्नी के रहते हुये भी रामविलास पासवान ने राज्यसभा के लिए दायर किये गये अपने नामांकन पत्र के साथ दाखिल शपथ पत्र में न तो अपनी पहली पत्नी का नाम और न हीं उनकी संपति का ब्योरा दिया है ।

यहां तक कि लोकसभा के रिकार्ड में भी इनके एक हीं पत्नी का नाम दर्ज है। नियमत: यह जन प्रतिनिधित्व कानून का उल्लंघन है और इसके आधार पर राम विलास के उपर मुकदमा चलाया जा सकता है।

ऐसा नही है कि अन्य दलों को रामविलास की दो पत्नी वाली दास्तां न पता हो। सबको मालूम है, लेकिन यह राजनीति है।  इस हमाम में सब नंगे हैं। अब तक किसी ने भी इस मामले को नही उठाया , आखिर कारण क्या है ?

पहली पत्नी के जिंदा रहते हुये भी उसका नाम शपथ पत्र में न देनें का कारण तो रामविलास पासवान हीं बता सकते हैं। फिलहाल रामविलास पासवान केन्द्र में मंत्री पद हैं।

अब यह चुनाव आयोग हीं बता सकता है कि जब इसी आधार पर मंगनीलाल मंडल की लोकसभा सदस्यता समाप्त हो सकती है तो रामविलास पासवान की क्यों नही ?

madan tiwari

….. गया के वरिष्ठ अधिवक्ता/पत्रकार मदन तिवारी अपने फेसबुक वाल पर

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

Related Post

One comment

  1. अरे रमविलाश तो लालू के अनुसार मौषम विज्ञानी है । अब पुरनकी बीबी से कुछ काम नहीं निकालने लगा होगा तो एक नयिकी खोज लिहिस होई।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading...