भोजपूरिया बिहारी का चंपारण कोलाज

Share Button

तस्वीरों का मजेदार कोलाज है यह। सत्याग्रह के शताब्दी वर्ष में चंपारण की धरती पर विनय बिहारी जो गांधीवाद के नाम पर कर रहे हैं, उसी को दरसा रहा है। पैजामा-कुरता छोड़कर आजकल खाकी हाफपैंट में घूम रहे हैं।

विनय बिहारी के बारे में तो जानते ही होंगे। भोजपुरी के मशहूर गीतकार रहे हैं। ऐसे मशहूर गीतकार कि अश्लील गीत रचने के मामले में मुकदमा हुआ। गैर जमानती वारंट जारी हुआ था तो मंत्री रहते फरार हो गये थे।

bjp-mla-vinay-bihariयह भी जानते ही होंगे कि निर्दल विधायक बने थे। नीतीश कुमार के यहां रगड़ मारकर मंत्री बने।  इच्छा थी कि नीतीश अपने दल में शामिल कर लें। नहीं किये तो जब मांझी सीएम बने तो मांझी के साथ नीतीश के खिलाफ आग उगलने लगे थे और जब विधानसभा चुनाव की बारी आयी तो मांझी को बोले कि रहेंगे आप ही की पार्टी में लेकिन सिंबॉल भाजपा का दिलवाइये करार कर के।

पार्टी विद डिफरेंस ने सिंबॉल दे दिया था और इस तरह फिर से विधायक बन गये और भाजपाई विधायक कहलाते हैं। विकास के लिए खाकी हाफ पैंट पहनकर घूम रह हैं।

जो चंपारणवाले हैं वे तो जानते ही होंगे कि विधायक और मंत्री रहते चार साल पहले इन्हें लोग अपने इलाके में घूसने नहीं देते थे, क्योंकि भाई साहब ने एक भी काम नहीं किया था। अपने इलाके में और सदन में कभी बोलते भी नहीं थे बल्कि सभी नेताओं को लेकर भोजपुरी सिनेमा बनाने में व्यस्त रहते थे। (साभारः बिदेसिया रंग फेसबुक वाल)

Share Button

Relate Newss:

व्यवस्था देने में फेल रहे केजरीवाल
खूब वायरल हो रही है CM साहेब की यह पैर धुलाई की रस्म
यशवंत ने अपनाया केजरीवाल स्टाइल, गये जेल
नालंदाः पूजा से पहले मिट्टी में दफन हो गई चार घरों की लक्ष्मी
'एक्सपर्ट मीडिया न्यूज' से बोले नालंदा एसपी- अब यूं जारी नही होगी प्रेस विज्ञप्ति
सीएम रघुबर सा वेदर्द हाकिम हो तो पत्रकार क्या करे ?
नोटबंदी से जन्मा देश में अपूर्व भ्रष्टाचार
इन भ्रष्ट IAS अफसरों पर कार्रवाई की फाइल विभाग से गायब !
बड़कागांव में रैयत-पुलिस भिड़ंत में 3 की मौत, दर्जनों घायलः परंपरागत हथियार ले सड़क पर उतरे लोग
अंततः कोर्ट के आदेश से दर्ज हुआ इंजीनियरों पर गबन का FIR
भाजपानीत मोदी सरकार के लिये धारा-370 एक बड़ी चुनौती
सीएम और उनके सलाहकारों को सदबुद्धि दें भगवन
ग्रेटर नोयडा की शर्मनाक करतूत, दलित दंपति सरेआम नंगा!
12 को उद्घाटित होगा ‘खबर मंथन’, विनायक विजेता होंगे प्रधान संपादक
डॉ. नीलम महेंद्र को मिला अटल पत्रकारिता सम्मान

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
loading...