भारतीय मंदिर, जो कभी दिखता है तो कभी गायब हो जाता है

Share Button
Read Time:7 Minute, 11 Second

यह बताने की जरूरत नहीं है कि भारत एक प्राचीनतम सभ्यता वाला सांस्कृतिक देश हैं. यह विश्व के उन गिने-चुने देशों में से एक है जहां हर वर्ग और समुदाय के लोग शांतिपूर्वक रहते हैं.

यहां की भगौलिक स्थिति, जलवायु और विविध संस्कृति को देखने के लिए ही विश्व के कोने-कोने से पर्यटक पहुंचते हैं. वैसे अपनी भारत यात्रा के दौरान पर्यटकों को जो चीज सबसे ज्यादा पसंद आती है तो वह हैं भारत की प्राचीनतम मंदिर. मंदिरों की बनावट, विशेषता, महत्व और इतिहास आदि जानने के लिए ही पर्यटक बार-बार भारत की ओर रुख करते हैं.

इनमें से कई मंदिर तो ऐसे भी हैं जो कई हजारों साल पुराने हैं और जिनके बारे में जानना पर्यटकों के लिए कौतुहल का विषय है. आइए ऐसे ही मंदिरों पर प्रकाश ड़ालते हैं:

ब्रह्मा मंदिर (पुष्कर, राजस्थान)
ब्रह्मा मंदिर (पुष्कर, राजस्थान)

यह भगवान ब्रह्मा का एकमात्र ऐसा मंदिर है जिसे पूरे विश्व में जाना जाता है. कहा जाता है कि मुगल शासक औरंगजेब के शासन काल में मंदिरों को नष्ट करने के आदेश के बाद जो एकमात्र मंदिर बचा था वह यही है.

इस मंदिर का निर्माण 14वीं शताब्दी में किया गया था. इसके निर्माण को लेकर कई रोचक कथाएं कही जाती हैं.

मंदिर के बगल में ही एक मनोहर झील है जिसे पुष्कर झील के नाम से जाना जाता है. पुष्कर झील हिन्दुओं के एक पवित्र स्थान के रूप में जानी जाती है.

चाइनीज काली मंदिर (कोलकाता)
चाइनीज काली मंदिर (कोलकाता)

 कोलकाता के टांगरा में एक 60 साल पुराना चाइनीज काली मंदिर है. इस जगह को चाइनाटाउन भी कहते हैं.

इस मंदिर में स्थानीय चीनी लोग पूजा करते हैं. यहीं नहीं दुर्गा पूजा के दौरान प्रवासी चीनी लोग भी इस मंदिर में दर्शन करने आते हैं.

यहां आने वालों में ज्यादातर लोग या तो बौद्ध हैं या फिर ईसाई.

इस मंदिर की खास बात यह है कि यहां आने वाले लोगों को प्रसाद में नूडल्स, चावल और सब्जियों से बनी करी परोसी जाती है.

स्तंभेश्वर महादेव मंदिर (कावी, गुजरात)
स्तंभेश्वर महादेव मंदिर (कावी, गुजरात)

 आप यह कल्पना नहीं कर सकते लेकिन यह बात सच है कि यह मंदिर पल भर के लिए ओझल हो जाता है और फिर थोड़ी देर बाद अपने उसी जगह वापिस भी जाता है.

यह मंदिर अरब सागर के बिल्कुल सामने है और वडोदरा से 40 मील की दूरी पर है.

खास बात यह है कि आप इस मंदिर की यात्रा तभी कर सकते हैं जब समुद्र में ज्वार कम हो. ज्वार के समय शिवलिंग पूरी तरह से जलमग्न हो जाता है.

ओम बन्ना मंदिर (जोधपुर, राजस्थान )
ओम बन्ना मंदिर (जोधपुर, राजस्थान )

जोधपुर में ओम बन्ना का मंदिर अन्य सभी मंदिरों से बिल्कुल् ही अलग है.

ओम बन्ना मंदिर की विशेषता है कि इसमें पूजा की जाने वाले भगवान की मूर्ति नहीं है बल्कि एक मोटरसाइकिल और उसके साथ ही ओम सिंह राठौर की फोटो रखी हुई है, लोग उन्हीं की पूजा करते हैं.

इस मोटरसाइकिल के बारे में कहा जाता है कि इसी मोटरसाइकिल से 1991 में ओम सिंह का एक्सिडेंट हो गया था. एक्सिडेंट में ओम सिंह की तत्काल मौत हो गई.

लोकल पुलिस मोटरसाइकिल को पुलिस थाने लेकर चली गई लेकिन दूसरे दिन मोटरसाइकिल वापस एक्सिडेंट वाली जगह पर पहुंच गई.

 करनी माता का मंदिर (राजस्थान): बिकानेर से 30 किलोमीटर की दूरी पर स्थित देशनोक शहर में करनी माता का मंदिर है. यहां पहुंचने पर आपको इंसानों से ज्यादा शायद आपको चूहे नजर आएंगे.

मान्यता है कि ये चूहे मंदिर में स्थित करनी माता की संतानें और वंशज हैं. कथाओं के अनुसार करनी माता, देवी दुर्गा की अवतार मानी जाती हैं जो बचपन से ही लोक कल्याण करने लगी थीं इसलिए उनका नाम करनी माता पड़ गया.

ऐसी मान्यता है कि करनी माता के सौतेले बेटे की मृत्यु हो जाने पर माता ने यमराज को उनके बेटे को जीवित करने का आदेश दिया. माता के आदेशानुसार उनका बेटा जीवित तो हो गया लेकिन वह चूहा बन गया.

माता ने जिस जगह अपना देह त्याग किया वहीं आज करनी माता का मंदिर बना है और मंदिर में हजारों चूहे खुलेआम घूमते नजर आते हैं.

हडिंबा देवी मंदिर (हिमाचल प्रदेश)
हडिंबा देवी मंदिर (हिमाचल प्रदेश)

मनाली में हडिंबा देवी मंदिर, भारत के प्रसिद्ध मंदिरों में से एक है.

इस मंदिर का आकर्षण इसकी संरचना है जिसे जापान की एक शैली ‘पगोडा’ से लिया गया है.

यह पूरा मंदिर लकड़ी से बनाया गया है.

पुरातत्वविदों की मानें तो इस मंदिर का निर्माण 1553 में किया था.

शिव मंदिर (वाराणसी, उत्तर प्रदेश)
शिव मंदिर (वाराणसी, उत्तर प्रदेश)

आपको जानकार हैरानी होगी कि इस मंदिर का निर्माण किसी पहाड़ या समतल जगह पर नहीं किया गया है बल्कि यह मंदिर पानी पर बना है.

कहने का अर्थ है कि यह शिव मंदिर आंशिक रूप से नदी के जल में डूबा हुआ है. बगल में ही सिंधिया घाट ,  जिसे शिन्दे घाट भी कहते हैं, इस मंदिर की शोभा बढ़ाता है.

इस मंदिर में आध्यात्मिक कार्य नहीं होते और यह फिलहाल बंद है.

इस मंदिर के बारे में जानने के लिए आज भी लोग जिज्ञासा रखते हैं.   

0 0
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
Share Button

Relate Newss:

गाय के कारोबार में शामिल 80 फीसदी लोग हिंदू :गोविंदाचार्य
पिटाई से नहीं, व्यवस्था की नालायकी से हुई तबरेज की मौत
दैनिक जागरण क मालिक संजय गुप्ता ने पेड न्यूज कुबूल किया : ओम थानवी
जांच कमिटि की रिपोर्ट में खुलासा, पूर्व प्रबंधक की सांठगांठ से हुआ लाखों का खेला
जी न्‍यूज पर चली झूठी खबर को सच बनाने में सारे चैनल टूट पड़े
संभव है सीताफल के बीज से कैंसर से बचाव 
बीमार पत्रकार की सुध लेने पहुंचे अर्जुन मुंडा, दिया हरसंभव भरोसा
.....और यह है बिहार में नीतीश सरकार नया शराब बंदी कानून
नियुक्ति के बाद से FTII ऑफिस नहीं गए गजेंद्र चौहान
अफीम पर रोक को लेकर मध्य प्रदेश हाई कोर्ट में पीआईएल करेगी पंजाब सरकार !
टीवी जर्नलिस्ट अनूप सोनू ने यूं निभाया मानवता का धर्म
" झारखण्डी नृत्य की विविधता , उराँव जनजाति की महत्ता के साथ "
देश में बढ़ती असहिष्णुता के खिलाफ आमिर खान भी प्रबुद्ध वर्ग में शामिल
ABP न्यूज़ चैनल की पब्लिक डिबेट में BJP माइंडेड एकंर ने 'ललुआ' कहा, मचा हंगामा
कुख्यात शाहबुद्दीन को लेकर लालू- नितीश के खिलाफ प्रदर्शन!
एक बड़े फर्जीबाड़े की उपज है रांची प्रेस क्लब या द रांची प्रेस क्लब !
देखिये हजारीबाग सेंट्रल जेल में भाजपा नेताओं की ढिठई
भोपाल सेंट्रल जेल से प्रतिबंधित  सिमी के आठ लोग फ़रार
मुंगेर: सड़कों पर क्यों जलाई जा रही है दैनिक प्रभात खबर ?
WCH ropes in Star Cricketer as the Brand Ambassador
नीतीश ने अपने फेसबुक का कवर पेज ब्लैक किया
फॉक्स न्यूज का दावा: भाषण के दौरान प्याज लगाकर रोए ओबामा  
इनके सामने गिरगिट, वेश्या या फिर कपड़े बदलने के जुमले नाकाफी है हुजूर !
संसद में बोले पीएम मोदी-  आत्महत्या करने जैसा है संविधान में बदलाव करने की सोचना
SBI बैंक में देखिये भ्रष्टाचार, मिड डे मिल का 100 करोड़ बिल्डर के एकाउंट में डाला

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...