ब्लेकमेलिंग के आरोप में सुदर्शन न्यूज के रिपोर्टर समेत 4 धराया

Share Button

sudarshan_news

खुद को प्रखर राष्ट्रवादी बताने वाले न्यूज चैनल सुदर्शन न्यूज की असलियत सामने आ गई है. इस चैनल की एसआईटी यानि स्पेशल इवेस्टीगेटिंग टीम के चार लोगों को ब्लैकमेलिंग में गिरफ्तार किया गया है.

ये सभी नर्सिंग होम व क्लीनिक चलाने वाले डॉक्टरों व पैथोलॉजी लैब मालिकों को लिंग परीक्षण के नाम पर ब्लैकमेल करते थे. आरोपियों में सुदर्शन चैनल के दो रिपोर्टर, एक महिला जो एक रिपोर्टर की पत्नी है, शामिल हैं.

चारों 50 से अधिक नर्सिग होम, लैब मालिक व डॉक्टरों को स्टिंग में फंसाकर करोड़ों रुपये की वसूली कर चुके हैं.

उनके पास से 71 हजार रुपये, स्विफ्ट कार, स्टिंग ऑपरेशन में इस्तेमाल होने वाले इलेक्ट्रॉनिक उपकरण बरामद हुए हैं.

क्राइम ब्रांच के संयुक्त आयुक्त रविंद्र यादव के मुताबिक गिरफ्तार आरोपियों के नाम जय कोचर, धन सिंह, राम शरण व पुष्पा हैं. जय रोहिणी सेक्टर-3 का रहने वाला है. धन सिंह मूलरूप से उत्तराखंड (गढ़वाल) का रहने वाला है और यहां गोविंदपुरी में रहता है. रामशरण करोलबाग में रहता है. वह मूलरूप से सीतामढ़ी, बिहार का रहने वाला है. वह तथा धन सिंह सुदर्शन चैनल में रिपोर्टर थे. धन सिंह की पत्नी नितिका स्टिंग में मदद करती थी. वह पति के साथ नर्सिग होम व पैथोलॉजी लैब में जाती थी.

पुष्पा कृष्णा नगर की रहने वाली है. वह विवाहिता है और डेढ़ साल से उनके साथ जुड़ी हुई थी. पुष्पा मरीज बनकर जाती थी और लिंग परीक्षण से संबंधित बातें कर स्पाई कैमरे में रिकार्ड कर लेती थी. आरोपी 7-8 लोगों के साथ गाड़ी से शिकार फंसाने जाते थे. धन सिंह व रामशरण ने चार महीने पूर्व जय को अपने साथ मिलाया था.

तीन अक्टूबर को पंजाबीबाग में एक पैथोलॉजी लैब के मालिक किसी काम से बाहर गए हुए थे. लैब की देखरेख उनके पिता कर रहे थे. चारों आरोपी लैब में पहुंचे. पुष्पा ने लैब मालिक के पिता से कहा कि उसकी उम्र 30 साल है वह तीन बच्चे की मां है. चौथी बार भी वह गर्भवती हो गई है.

वह जानना चाहती है कि गर्भ में पल रहा शिशु लड़का है या लड़की. उन्होंने लिंग परीक्षण करने से मना कर दिया. पुष्पा ने अनुरोध किया कि वह उस लैब के बारे में बता दें, जहां लिंग परीक्षण किया जाता है.

उन्होंने कीर्ति नगर स्थित एक लैब के बारे में बताया. उनकी बात रिकार्ड करने के बाद चारों ने उनसे एक करोड़ रुपये की मांग की. उन्होंने 40 लाख रुपये दे दिए. लैब मालिक के दिल्ली आने पर चारों जब शेष 60 लाख रुपये मांगने गए तो पिता ने स्टिंग की जानकारी दी.

उन्होंने पंजाबीबाग थाने में मुकदमा दर्ज कराया. मामला क्राइम ब्रांच में जाने पर डीसीपी भीष्म सिंह व एसीपी केपीएस मल्होत्रा की टीम ने चारों को गिरफ्तार किया.

जांच में यह बात भी सामने आई है कि चारों होटलों में भी स्टिंग ऑपरेशन कर मालिकों को ब्लैकमेल करते थे. वह यह पता लगाते थे दिल्ली के किस-किस होटल में लड़कियां आपूर्ति की जाती हैं. स्टिंग कर वे होटल मालिकों से वसूली करते थे। (भड़ास4मीडिया एवं डेमोक्रेसी4पीपुल.कॉम पर नदीम खान की रिपोर्ट)

Share Button

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading...