बिहार के नतीजों पर वर्ल्ड मीडिया ने लिखा- अपनी क्षमता खो चुके हैं पीएम मोदी

Share Button

prime-minister-narendra-modiबिहार विधानसभा चुनावों में बीजेपी की अगुवाई वाले एनडीए को मिली करारी हार को वैश्विक मीडिया ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लिए ‘सबसे अहम घरेलू झटका’ बताया है। इसके साथ ही इनमें कहा गया है कि यह हार दिखाती है कि वोट हासिल करने की उनकी क्षमता अब कम होती जा रही है।
पीएम मोदी की अपील हुई कम
ब्रिटिश अखबार ‘दि गार्जियन’ ने अपनी रिपोर्ट में कहा कि बिहार चुनाव जीतने में बीजेपी की नाकामी को इस संकेत के तौर पर देखा जा रहा है कि वोटरों पर मोदी की अपील अब कम होनी शुरू हो गई है।’

अखबार ने कहा, ‘भारत की सत्ताधारी पार्टी ने एक प्रांतीय चुनाव में हार मान ली है, जिसे प्रधानमंत्री नरेंद्र की वोट हासिल करने की क्षमता और उनकी राजनीतिक रणनीति की परीक्षा के तौर पर देखा जा रहा था।’

अखबार ने यह टिप्पणी ऐसे समय में की है जब मोदी इस हफ्ते ब्रिटेन की यात्रा पर जाने वाले हैं।
पीएम मोदी के लिए सबसे अहम घरेलू झटका
‘दि गार्जियन’ ने लिखा, ‘बिहार में बीजेपी की जीत मोदी के लिए सबसे अहम घरेलू झटका है, क्योंकि पिछले साल उभरती आर्थिक ताकत में हुए एक आम चुनाव में उन्हें शानदार जीत मिली थी। अपने चुनाव प्रचार में तेज विकास, आधुनिकीकरण एवं अवसर प्रदान करने के साथ-साथ रूढ़ीवादी सांस्कृतिक एवं सामाजिक मूल्यों के संरक्षण का वादा कर उन्होंने जीत हासिल की थी।’

अखबार ने कहा, ‘पिछले साल के चुनाव के दौरान मोदी ने अर्थव्यस्था को नई उंचाइयों तक ले जाने के जो भी वादे किए थे वे अब तक पूरे नहीं हुए हैं।’
आर्थिक कार्यक्रमों पर रायशुमारी में फेल पीएम मोदी
बीबीसी ने लिखा, ‘मोदी को पिछले साल के राष्ट्रीय चुनावों में एक शानदार जीत मिली थी, लेकिन यह चुनाव उनके आर्थिक कार्यक्रमों पर एक रायशुमारी के तौर पर देखा जा रहा था। यह हार एक बड़ा झटका है।’
गाय पर राजनीति के दुष्परिणाम
वहीं पाकिस्तान के बड़े अखबार ‘डॉन’ ने कहा कि खानपान की आदतों पर भारत की पारंपरिक सहनशीलता की कीमत पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की गाय पर राजनीति के खिलाफ बिहार चुनाव के नतीजे आए हैं। इसने उनके ‘संकीर्ण राष्ट्रवाद’ के खिलाफ विपक्षी एकता के एजेंडा को तय कर दिया है।

‘दि न्यूज’ ने अपनी रिपोर्ट में कहा कि बिहार में बीजेपी की हार प्रधानमंत्री के लिए बड़ा झटका है जिन्होंने अपने प्रचार में कोई कोर-कसर नहीं छोड़ी।

इसके अलावा ‘दि न्यूयॉर्क टाइम्स’ ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी को आज उस वक्त करारा झटका लगा, जब जनसंख्या के मामले में भारत के तीसरे सबसे बड़े राज्य बिहार के वोटरों ने विधानसभा चुनावों में उनकी पार्टी को खारिज कर दिया।

Share Button

Relate Newss:

डीसी, एसपी, महिला आयोग और पत्रकारों ने डुबोई सरायकेला जिले की प्रतिष्ठा
राष्ट्रीय महत्व के स्थल की अनदेखी कर रही है सरकार
नए राजनीतिक समीकरण के साथ बिहार में बड़ा प्रशासनिक फेरबदल
देखिये, इस मामले में राजगीर नगर पंचायत पदाधिकारी की गीली हो रही पैंट!
उत्तराखंड के सीएम हरीश रावत ने कहा, गौ-हत्यारों को नहीं है भारत में रहने का अधिकार
नारी की बद्दतर हालत का सबसे बड़ा कारण है लिंग भेद
सीएम रघुबर दास ने प्रेस सलाहकार योगेश किसलय को हटाया
अब नोटों के लिए जिस्म बेचने को विवश हैं ये विदेशी एक्ट्रेस
दैनिक हिंदुस्तान के मगध संस्करण में फिर छपे एक्सपायर्ड विज्ञापन
दूरदर्शन की टीम पर हमला, कैमरा मैन समेत 2 जवान शहीद

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading...