बिगबी फैमिली को डेढ़ लाख रुपये पेंशन देगी अखिलेश सरकार

Share Button

अमिताभ बच्चन, जया व अभिषेक को यूपी सरकार देगी मासिक 50,000 रुपये की पेंशन… यानि इस परिवार को हर महीने डेढ़ लाख रुपये। पेंशन के नाम पर…क्या मजाक है। मुख्यमंत्री के गाँव ‘सैफई’ के प्रधान दर्शन सिंह यादव को भी इस वर्ष यश भारती पुरस्कार मिला है। उसके प्रभाव ने यह निर्णय करा दिया। सरकारी खजाने का मज़ाक बना कर रख दिया है। लुटाओ, जितना लुटा सकते हो चुनाव तक।

bachchan-familyखास बात यह है कि जिस राज्य की प्रति व्यक्ति सालाना आय केवल 40,000 रुपये है, वह यश भारती सम्मान पाने वालों को 50,000 रुपये मासिक पेंशन के तौर पर देने जा रहा है। वह भी तब जब कि सम्मान पाने वालों में ज्यादातर लोग बेहद संपन्न आर्थिक वर्ग से ताल्लुक रखते हैं।

मौजूदा समय में जहां स्वतंत्रता सेनानियों (साथ में, उनकी पत्नी या पति) को 20,129 रुपये मासिक पेंशन के तौर पर मिलते हैं।

भारत सरकार की एक योजना के मुताबिक ऐसे बूढ़े और गरीब कलाकारों को जिन्होंने कम-से-कम 10 साल अपनी कला के दम पर आजीविका चलाई हो, उन्हें 2,000 रुपये की मासिक पेंशन मिलती है।

उ.प्र. के यश भारती व पदम् पुरुष्कार विजेताओं को पचास हजार रुपये प्रति माह पेंशन देना अकल्पनीय है। सैफई के प्रधान ने कराया यह निर्णय। इसके लिए सरकारी खजाना फिर लुटा। साहित्य, साहित्यकारों व पुरस्कारों का वोट के लिए ऐसा राजनीतिकरण कभी किसी ने नहीं देखा होगा।

…….उत्तर प्रदेश के वरिष्ठ आईएएस सूर्य प्रताप सिंह के फेसबुक वॉल से।

Share Button

Relate Newss:

मुर्गी लदे वाहन से कुचल कर प्रेस फोटोग्राफर मंजन की मौत
झारखंड में एसएआर कोर्ट खत्म करने की तैयारी
सीवान में दैनिक हिन्दुस्तान के क्राईम रिपोर्टर को चाकू गोदा, हालत गंभीर
गलत रस्सी खींच गई महबूबा, श्रीनगर में फहराने से पहले नीचे गिर गया तिरंगा!
पत्रकारों के लिए पाक-अफगानिस्तान से भी खतरनाक है भारत देश
दैनिक हिन्दुस्तान और प्रभात खबर में एक ही संवाददाता की हुबहू खबर!
अनिल कुशवाहा लेकर आ रहे हैं “कच्चे धागे”
आमिर और शाहरुख जैसे का सर कलम कर बीच चौराहे पर टांग देना चाहिएः हिन्दू महासभा
सावधान! झारखंड में चार शिक्षण संस्थान फर्जी, उषा मार्टिन अकादमी को AICTE से नहीं है मान्यता
'लिव इन रिलेशन' रेप के दायरे से बाहर नहीं :हाई कोर्ट
स्टोरी आइडिया और मीटिंग
अनारकली बनीं स्वरा जगा रही उम्मीदें
विदा हो गईं 'लम्बी जुदाई' वाली सूफी गायिका रेशमा
विदर्भ में कब आयेगें अच्छे दिन, पिछले 72 घंटो में 12 किसानों ने की आत्महत्या
अखबार के मंच से नीतीश और लालू में शब्दों की जंग

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
loading...