बढ़ता ही जा रहा है दरभंगा के सिमरी थाना प्रभारी का उत्पात !

Share Button

manuराजनामा.कॉम (अभिषेक कुमार)। दरभंगा जिले में  ‘मिनी सिंघम’ के नाम  से चर्चित ssp मनु महाराज द्वारा  पुलिस कमान संभालने के बाबजूद  तथाकथित एक ऊंचे राजनितिक घराने से सम्बन्ध रखने वाले दरभंगा के सिमरी थानाध्यक्ष दिनेश पासवान के खुलेआम खर्चा पानी मांगने एवं धमकाने के स्टाइल में कोई परिवर्तन नहीं आया है।

मालूम हो के पूर्व ASP कुमार आशीष एवं पूर्व SSP कुमार एकले के पास भी इस थानेदार की कई शिकायतें पहुची, पर अब तक कोई कार्रवाई नही हुई।

ताजा मामला में सिमरी थाना के अन्तर्गत माधोपुर एवं बनौली के 2 RTI का उपयोग करने वाले ने गैरकानूनी कार्यों में लिप्त लोगो से पैसे लेकर उन्हें संरक्षण देने एवं RTI कार्यकर्ताओं को प्रताड़ित करने का आरोप लगाया है।

बनौली निवासी सुरेन्द्र भगत ने हमे जो कागजात एवं आवाज की रिकॉर्डिंग उपलब्ध करवाई है उसके अनुसार RTI का उपयोग करने पर विपक्षी द्वारा धमकाने की शिकायत करने थाने पर पहुंचे सुरेन्द्र भगत को खर्चा पानी नही देने पर धमका कर भगा दिया गया।

सुरेन्द्र भगत ने इस बातचीत की रिकॉर्डिंग हमारे टीम को उपलब्ध करवायी है। इसके बाद लगातार विपक्षी एवं थानेदार द्वारा सुरेन्द्र भगत को RTI का उपयोग बंद करने नही तो अंजाम भुगत लेने की धमकी मिलती रही।

अंत में परेशान होकर तत्कालीन ASP कुमार आशीष से इस आशय की शिकायत की।

इस सन्दर्भ में पूर्व ASP ने बताया के उनके द्वारा मामले की गंभीरता को देखते हुए त्वरित कार्रवाई का निर्देश थानाध्यक्ष को दिया।

परंतु थानाध्यक्ष ने कोई कार्रवाई नही की। फिर इस कार्यकर्ता ने राज्य सूचना आयोग को लिखा जिसके बाद सुचना आयोग द्वारा जिलाधिकारी एवम् पुलिस अधीक्षक को उचित कार्रवाई के लिए पत्र लिखा गया। पर कोई कार्रवाई नही हुई। उलटे इसी कार्यकर्ता पर मुकदमा बढ़ता गया।

इसकी शिकायत सुरेन्द्र भगत ने नीचे से ऊपर तक के अधिकारियों से की। मिलने में खतरा होने के कारण वर्तमान SSP मनु महराज से फ़ोन पे बात की तो उन्होंने SMS कर देने को कहा। SMS कर देने के बाद भी इन्हें कोई प्रतिक्रिया नही मिली।

इसी थानाध्यक्ष पर एक जमीनी मामले में घर पर आकर धमकाने का आरोप माधोपुर की एक महिला RTI कार्यकर्ता अंजनी देवी ने भी लगाया है तथा उन्होंने भी आवाज

की रिकॉर्डिंग कर ली।

इस मामले अलावा 6 नवम्बर के जनता दरबार में 2 अन्य लोगो ने भी इस थानेदर के विरुद्ध आवेदन दिया था।

अब देखना है कि मामला संज्ञान में आने के वाद नए SSP मनु महराज इस ऊंचे राजनितिक घराने से सम्बन्ध रखने वाले थानाध्यक्ष के विरुद्ध मिली शिकायतों की निष्पक्ष जांच करके कितनी कार्रवाई कर पाते हैं।

हालांकि इस पुरे मामले की लिखित जानकारी हमारे द्वारा मनु महराज के व्हाट्सएप नंबर पर 28 नवम्बर की सुबह देकर उनकी प्रतिक्रिया मांगी गई तो उनकी कोई प्रतिक्रिया हमे प्राप्त नही हुई।

Share Button

Relate Newss:

'राजनामा' की पड़तालः नोटबंदी से बजा जनता का बैंड
गेहूँ उत्पादन के लिए बिहार को मिला कृषि कर्मण पुरस्कार
भोजपूरिया बिहारी का चंपारण कोलाज
नालंदा में प्रेस रिपोर्टर बने अनेक नियोजित मास्टर, क्या बेखबर है प्रशासन?
महादलित महिला के काटे बाल, मुंह पर पोती कालिख, गले में चप्पल डाल सरेआम घुमाया, भीड़ तमाशबीन
एक आरटीआई एक्टिविस्ट ने हिला डाली सुशासन बाबू की चूल !
तस्वीरे झूठ नहीं बोलती मंत्री जी, पप्पु यादव को 10 करोड़ का ऑफर!
लालू प्रसाद के फर्जी ट्वीटर एकाउंट से जातीय उन्माद फैलाने की कोशिश
बिहार में केंद्रीय विश्वविद्यालय की नियुक्तियों पर उठते सवाल
सितंबर-अक्तूबर के महीने में होंगे बिहार विधानसभा चुनाव
राजद के एक मामूली सुबेदार के हाथों हार गए मोदी-शाह के मांझी
बिहार में अराजकता फैला रहे हैं लालू-नीतीश के मांझी !
बिहारः नीतिश कुमार के आगे सब बौने
नई दिल्ली डीएवीपी और पटना सूचना जनसम्पर्क विभाग के अफसर अरेस्ट होंगे!
पटना जनता दरबार में नीतिश के मांझी पर जुता फेंका

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
loading...