प्लास्टिक के तिरंगे का उपयोग पर होगी तीन साल की कैद !

Share Button

प्लास्टिक के तिरंगे का उपयोग करने पर तीन वर्ष की कैद या जुर्माना या दोनों सजा दी जाएगी। कूद समारोहों में प्लास्टिक के तिरंगे के उपयोग पर रोक लगाने के निर्देश दिए हैं।

tirangaइस संबंध में सभी राज्य सरकारों के मुख्य सचिवों, संघ राज्य क्षेत्रों के प्रशासकों और भारत सरकार के सभी विभागों के सचिवों को पत्र जारी कर कहा है कि प्लास्टिक के तिरंगे का उपयोग राष्ट्रीय ध्वज का अपमान है और इसके उपयोग पर क़डाई से रोक लगाई जाए तथा इस संबंध में व्यापक जन-जागरूकता भी पैदा की जाए।

परिपत्र में भारतीय झंडा संहिता 2002 और राष्ट्रीय गौरव अपमान निवारण अधिनियम 1971 के उपबंधों का क़डाई से पालन सुनिश्चित करने को कहा गया है। कहा गया है कि मंत्रालय के संज्ञान में यह तथ्य लाया गया है कि महत्वपूर्ण अवसरों पर कागज के झंडों के स्थान पर प्लास्टिक के झंडों का उपयोग किया जा रहा है।

चूंकि प्लास्टिक से बने झंडे कागज के समान जैविक रूप से अपघट्य (बायो डिग्रेडेबल) नहीं होते, इसलिए यह लंबे समय तक नष्ट नहीं होते और वातावरण के लिए हानिकारक भी होते हैं। इसके अलावा प्लास्टिक से बने राष्ट्रीय ध्वज का सम्मानपूर्वक उचित निपटान सुनिश्चित करना भी एक समस्या है।

परिपत्र में कहा गया है कि राष्ट्रीय गौरव अपमान निवारण अधिनियम 1971 की धारा 2 के अनुसार कोई भी व्यक्ति जो किसी सार्वजनिक स्थान पर या किसी ऎसे स्थान पर सार्वजनिक रूप से भारतीय राष्ट्रीय ध्वज या उसके किसी भाग को जलाता है, विकृत करता है, विरूपित करता है, दूषित करता है, कुरूपित करता है, नष्ट करता है, कुचलता है या अन्यथा उसके प्रति अनादर प्रकट करता है या मौखिक या लिखित शब्दों में अथवा कृत्य द्वारा अपमान करता है तो उसे तीन वर्ष के कारावास या जुर्माना या दोनों से दंडित किया जा सकता है।

Share Button

Relate Newss:

अमेजन के हिंदू देवी-देवताओं की ‘फोटो लेगिंग’ पर बबाल
तेजस्वी ने फेसबुक पर यूं लिखा नीतिश-शाह की बातचीत
गणतंत्रः लेकिन गण पर हावी है तंत्र
पत्रकार सुरक्षा कानून एवं आवास योजना की आवाज लोकसभा में उठायेंगे गिलुवा
कर्नाटक के सीएम ने कहा, मैं अब से खाऊंगा बीफ़
....और एक-एक पत्रकार को यूं नंगा कर डाले कृष्ण बिहारी मिश्र !
दिमाग कंपा जाती है पत्रकार संदीप कोठारी का शव !
चुनाव जीतने के बाद लालटेन लेकर सबसे पहले बनारस जाएंगे लालू
अपने-अपने 'औरा' को लेकर टकरा रहे हैं मोदी और प्रियंका !
वाह री मीडिया! खुद की खबर को न छापा और न दिखाया !
NDTV के खिलाफ हुई  एमरजेंसी जैसी कार्रवाई :एडिटर्स गिल्ड
सरेआम क्लीनिक खोल कर यूं शोषण कर रहे हैं झोलाछाप
जब डॉ. मिश्र ने महज इंदिरा जी को खुश करने के लिए इस बिल से देश में मचा दिया था तूफान
सरकारी विज्ञापनों में अब नहीं दिखेगा पांच साल तक सिर्फ पीएम का चेहरा
महाशपथ के साथ ही राष्ट्रीय फलक पर नीतीश की भूमिका अहम

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
loading...