प्रबंधन की विशाल असफलता है नोटबंदी :मनमोहन सिंह

Share Button
Read Time:2 Minute, 24 Second

नई दिल्ली।  पूर्व प्रधानमंत्री डॉ मनमोहन सिंह ने नोटबंदी को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि जिस तरह से इसे लागू किया गया है, वह प्रबंधन की विशाल असफलता है और यह संगठित एवं कानूनी लूट-खसोट का मामला है।

सरकार द्वारा 500 रूपये और 1000 रूपये के नोटों को अमान्य किए जाने के बाद उत्पन्न हालात को लेकर इस कदम के विरोध में विपक्ष की मुहिम तेज करते हुए सिंह ने राज्यसभा में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की मौजूदगी में कहा कि इस फैसले से सकल घरेलू उत्पाद में दो फीसदी की कमी आएगी, जबकि इसे नजरअंदाज किया जा रहा है।

पूर्व प्रधानमंत्री सिंह ने उम्मीद जताई कि प्रधानमंत्री एक व्यावहारिक, रचनात्मक एवं तथ्यपरक समाधान निकालेंगे, जिससे आम आदमी को नोटबंदी के फैसले से उत्पन्न हालात के चलते हो रही परेशानी से राहत मिल सके।

उन्होंने कहा कि जो परिस्थितियां हैं उनमें आम लोग बेहद निराश हैं। सिंह ने कहा कि कृषि, असंगठित क्षेत्र और लघु उद्योग नोटबंदी के फैसले से बुरी तरह प्रभावित हुए हैं और लोगों का मुद्रा एवं बैंकिंग व्यवस्था पर से विश्वास खत्म हो रहा है।

उन्होंने कहा कि इन हालत में उन्हें लग रहा है कि जिस तरह योजना लागू की गई, वह प्रबंधन की विशाल असफलता है। यहां तक कि यह तो संगठित एवं कानूनी लूट-खसोट का मामला है।

सिंह ने कहा कि उनका इरादा किसी की भी खामियां बताने का नहीं है लेकिन, मुझे पूरी उम्मीद है कि देर से ही सही, प्रधानमंत्री एक व्यावहारिक, रचनात्मक और तथ्यपरक समाधान खोजने में हमारी मदद करेंगे ताकि इस देश के आम आदमी को हो रही परेशानियों से राहत मिल सके।

0 0
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
Share Button

Relate Newss:

टाडा के भगौड़ा पत्रकार सुरेंद्र सिंह का 21 साल बाद सरेंडर
राजेन्द्र जैसे प्रेरक युवाओं को सरकारी प्रोत्साहन की जरुरत
अखबार के मंच से नीतीश और लालू में शब्दों की जंग
राजनीतिक संयम दिखाए अब सरकार
देश के तीन और साहित्यकारों ने लौटाये अपने सम्मान
एक राष्ट्रीय खबर, जो बिहार के सीतामढ़ी के गांवो में खो कर रह गई !
2G-4G घोटाला सरीखा है बिहार में ‘बीजेपी ब्लैक लैंड स्कैंडल'
......तो अब दारु छोड़ देंगे भड़ास वाले यशवंत !
पद्मश्री बलबीर दत्त आज की पत्रकारिता में अप्रासंगिक क्यों?
राजस्थान पत्रिका समूह के सलाहकार संपादक बने ओम थानवी
दगंलः आमिर खान की एक और बजोड़ फिल्म
ओ री दुनियाः गरीब का जीवन कुक्कुर से भी बदतर देखा
सुदेश महतोः पांच साल में पांच गुना कमाया
प्रेस क्लब रांची के नवांतुकों पर अतीत से सीख भविष्य संवारने की बड़ी जिम्मेवारी
राहुल गांधी ने टटोली झारखंड में राजनीति की नब्ज
जरुरी है पत्रकार वीरेन्द्र मडंल से जुड़े मामलों की उच्चस्तरीय जांच
फेसबुक से लोग चुन-चुन कर हटा रहे इस 'लेडी ब्रजेश ठाकुर' की तस्वीरें
मोदी जी, सीएम रघुबर दास के बेटा-भाई पर भी नजर डालिए!
भड़काऊ खबरें प्रसारित करने वाले सुदर्शन चैनल के मालिक सुरेश चह्वाणके के खिलाफ मुकदमा
गुजराती मोदी को बिहारी मोदी पर नहीं है भरोसा ?
सुनियोजित प्रतीत होता है जंतर-मंतर का हादसा
आई-नेक्स्ट की गंदगी सुनाते सुनाते रो पड़ीं प्रतिमा  भार्गव
मामला डीएमसीएच दरभंगा काः अंधे क्यों बने हैं पुलिस वाले ?
EX MLA ने कोल्हान DIG को सौंपी मुखिया-पत्रकार मामले  की CD
अरविंद केजरीवाल की ईमानदारी पर NDTV के रवीश का जवाब

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...