प्रबंधन की विशाल असफलता है नोटबंदी :मनमोहन सिंह

Share Button

नई दिल्ली।  पूर्व प्रधानमंत्री डॉ मनमोहन सिंह ने नोटबंदी को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि जिस तरह से इसे लागू किया गया है, वह प्रबंधन की विशाल असफलता है और यह संगठित एवं कानूनी लूट-खसोट का मामला है।

सरकार द्वारा 500 रूपये और 1000 रूपये के नोटों को अमान्य किए जाने के बाद उत्पन्न हालात को लेकर इस कदम के विरोध में विपक्ष की मुहिम तेज करते हुए सिंह ने राज्यसभा में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की मौजूदगी में कहा कि इस फैसले से सकल घरेलू उत्पाद में दो फीसदी की कमी आएगी, जबकि इसे नजरअंदाज किया जा रहा है।

पूर्व प्रधानमंत्री सिंह ने उम्मीद जताई कि प्रधानमंत्री एक व्यावहारिक, रचनात्मक एवं तथ्यपरक समाधान निकालेंगे, जिससे आम आदमी को नोटबंदी के फैसले से उत्पन्न हालात के चलते हो रही परेशानी से राहत मिल सके।

उन्होंने कहा कि जो परिस्थितियां हैं उनमें आम लोग बेहद निराश हैं। सिंह ने कहा कि कृषि, असंगठित क्षेत्र और लघु उद्योग नोटबंदी के फैसले से बुरी तरह प्रभावित हुए हैं और लोगों का मुद्रा एवं बैंकिंग व्यवस्था पर से विश्वास खत्म हो रहा है।

उन्होंने कहा कि इन हालत में उन्हें लग रहा है कि जिस तरह योजना लागू की गई, वह प्रबंधन की विशाल असफलता है। यहां तक कि यह तो संगठित एवं कानूनी लूट-खसोट का मामला है।

सिंह ने कहा कि उनका इरादा किसी की भी खामियां बताने का नहीं है लेकिन, मुझे पूरी उम्मीद है कि देर से ही सही, प्रधानमंत्री एक व्यावहारिक, रचनात्मक और तथ्यपरक समाधान खोजने में हमारी मदद करेंगे ताकि इस देश के आम आदमी को हो रही परेशानियों से राहत मिल सके।

Share Button

Relate Newss:

हिंदी पत्रकारिता दिवस: बिहार में साहित्यिक पत्रकारिता का विकास
फिर सबालों के घेरे में नालंदा की पत्रकारिता और पत्रकार संगठन
सोशल मीडिया को भी प्रेस परिषद दायरे में लाना चाहिएः अध्यक्ष न्यायमूर्ति सी.के. प्रसाद
कमीशन के खेल में फंसी रांची की मेयर आशा लकड़ा
भड़ास बंद करा के Galgotia को मिला घंटा!
गौ-हत्या पर दफा 302 के तहत मुकदमा की तैयारी
मीडिया की परेशानी और चुनौतियों को भारत सरकार तक पहुंचाए पीआईबी
बड़ा सेलीब्रेटी फीगर है ‘आसरा’ की संचालिका, कई ब्यूरोक्रेट्स-लीडरों का है संरक्षण
साइबर कैफे में पत्‍नी की ब्‍लू फिल्‍म देख पति के उड़े होश
रांची के ऐसे पत्रकार संगठन के अध्यक्ष और अखबार के संपादक पर मुझे शर्म है
मुखपत्र नहीं, मूर्खपत्र है संघ का ऑर्गेनाइजरः शिवसेना
श्वेताभ सुमन की लंका में फूटी चिंगारी, सुनिये ऑडियो टेप
पगलाया बिहार नगर विकास एवं आवास विभाग, यूं बनाया 2 दिन का सप्ताह
मीडिया मालिकों के कालाधन पर क्यों नहीं पड़ा छापा : आलोक मेहता  
डॉ. नीलम महेंद्र को मिला अटल पत्रकारिता सम्मान

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
loading...