प्रखंड कमेटी के गठन के साथ जर्नलिस्ट एसोसिएशन ऑफ झारखंड की बैठक संपन्न

Share Button
Read Time:4 Minute, 26 Second

झरिया (धनबाद)। जर्नलिस्ट एसोसिएशन ऑफ झारखंड की एक बैठक धनबाद जिले की झरिया शहर में संपन्न हुई। श्री प्रशांत कुमार झा की अध्यक्षता में संपन्न हुई इस बैठक में मुख्य अतिथि दिग्गज पत्रकार बनखंडी मिश्र थे।

बैठक में एक कार्यवाहक प्रखंड कमेटी की जिम्मेवारी तीन नौजवानों के हाथों सौंपा गया जो कि इस प्रकार हैः अध्यक्षः श्री अरविंद कुमार शर्मा, सचिवः श्री रोबिन कुमार दत्ता, कोषध्यक्षः श्री पवन कुमार सिंह

बैठक में मुख्य अतिथि श्री बनखंडी मिश्र ने पत्रकारिता जगत के अनुभव को साझा करते हुए कहा कि समाज को आलोकित करने वाले खुद अंधकार में जीते है। इसका कारण पत्रकारों में समुहता का अभाव है। उन्होने जेएजे का मार्गदर्शन करते हुए कहा कि पत्र और पत्रकारिता का मिशन को और मजबुत करने के लिए संगठण को पहल करना होगा।

अपने अध्यक्षीय भाषण में श्री प्रशांत कुमार झा ने कहा कि जब मनरेगा में न्यूनतम मजदूरी का प्रावधान हो सकता है तो कलमकारों को मजदूरी न सही एक न्यूनतम मानदेय तो मिलना ही चाहिए। इसके लिए सबसे पहले प्रखंड स्तर के मीडिया कर्मिओं को जागरूक करते हुए  योग्यता के आधार पर इसका मुल्यांकन करना होगा। तभी चौथा स्तंभ कहलाने का दंभ भरने की असली ताकत हमें मिलेगी।

वरीय पत्रकार मुक्तेश्वर मिश्र ने कहा कि पत्रकार अक्सर गुमनामी में जीते है। उन्होने श्री बनखंडी मिश्रा का उदाहरण पेश करते हुए कहा कि पत्रकारिता में श्री बनखंडी मिश्रा को भीष्म पितामह माना जाता है। लेकिन इसके वावजूद इन्हे आपेक्षित सम्मान सरकार की ओर से नहीं मिली। जेएजे की ओर से ऐसे मामलों पर पहल किया जाना चाहिए ताकि ऐसे लोगों की विज्ञता को समुचित सम्मान मिले।

श्री गोविंदनाथ शर्मा ने कहा कि पत्रकारिता का जीवन दिया तले अंधेरा जैसी है। पत्रकार पूरे समाज में प्रकाश फैलाता है लेकिन उसके परिवार अंधेरे में रहते है। संगठण की ओर से ऐसी योजनाओं बारे में चिंतन करना चाहिए जो पत्रकारों के भविष्य सुरक्षित हो।

जेएजे के संयोजक  शुभाशीष राय ने संगठन का खाका प्रस्तुत करते हुए कहा कि संगठण का उददेश्य रोजगारोन्मुख आपसी संपर्क बढ़ाने के साथ-साथ ऐसी योजनाओं का धरातल में उतारना है जिससे मीडिया कर्मिओं में प्रभावी ताकत मिलें। बैठक का संचालन श्री स्वरूप मंडल ने किया। इस दौरान कई पत्रकार मित्र ने सदस्यता ग्रहण किये।

बैठक में संजय सिंह, प्रमोद शर्मा, पंकज कुमार, बाल्मिकी गुप्ता, विजय शर्मा, सुशील अग्रवाल, अजय कुमार, अभिषेक अग्रवाल, कमलेश कुमार सिंह, रौशन गुप्ता, चंदन कुमार, जितेन्द्र सिंह, मुकेश कुमार बर्मन, मोहन उपाध्याय, संजय मिश्रा, विनोद कुमार रवानी, योगेश सोनी, रवि कुमार, जहीरुद्दीन खान, रामप्रवेश कुमार आदि मुख्य रूप से उपस्थित थे।

बैठक की शुरुआत दिवंगत लेखक वेद प्रकाश शर्मा व् जोड़ापोखर (धनबाद) के अजीत श्रीवास्तव के लिये श्रधंजलि अर्पित करते हुए किया गया। बैठक का समापन राष्ट्रगान के साथ किया गया।

0 0
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
Share Button

Relate Newss:

सीएम नीतीश के हरनौत में धरने पर बैठे पत्रकार और नकारा बने उनके चहेते नालंदा डीएम-एसपी
अमेरिकी दूतावास ने यूं पढ़ाया इस बड़े रूसी अखबार को व्‍याकरण का पाठ
देखिये, मीडिया प्रचार खरीदने पर 1100 करोड़ रुपये कैसे फूंक डाले हमारे पीएम मोदी साहब
ताला मरांडी के बेटे की शादी पर उठा राजनीतिक भूचाल
ब्रजेश ठाकुर की राजदार 'मधु उर्फ शागुफ्ता' की इस कविता से खुले नये राज
जरुरी है PCI की वित्‍तीय एवं वैधानिक शक्तियों में बढ़ोतरी :न्‍यायमूर्ति सीके प्रसाद
अंततः भाजपा ने रघुवर दास को सौंपी झारखंड की कमान
भारत सरकार की नई विज्ञापन नीतिः पारदर्शिता और विश्वसनीयता पर जोर
काला धन नहीं, काली मुद्रा बाहर लायेगी नोटबंदी
भूत मेला रोकने गई पुलिस के साथ झड़प में एक की मौत !
स्टेट 10टॉपर्स में गरीबी को चीरती शामिल हुईं जुलिया मिंज
'इकोनॉमिस्ट' ने नोटबंदी को बताया अधकचरा कदम
राजगीर मलमास मेला सैरात भूमि अतिक्रमण मामले में प्रशासन के साथ न्यायालय भी कटघरे में
अपहर्ताओं को मोटी रकम देकर छुटे दिनेश और भवानी
मिड डे के वरिष्ठ पत्रकार की हत्या की सीबीआई जांच शुरू
सीएम को कवर करने से रोका तो फर्जी सूचना वायरल पर चला दी खबर
अन्ना- ऋषि को दीनानाथ मंगेशकर पुरस्कार
दिग्गी संग अमृता ने रचाई शादी, फेसबुक पर बताई पीड़ा
राजगीर मलमास मेला सैरात भूमि से अतिक्रमण हटाने में भेदभाव, आत्मदाह करेगें महादलित
इंडियन मुजाहिदीन का है दैनिक ‘प्रभात खबर’ से कनेक्शन !
किसान विरोधी है मोदी सरकार : अन्ना हजारे
रघुवर सरकार में मंत्री बने शमरेश सिंह के बौराये 'बाउरी ' !
गुजरात में अब मोदी-शाह का 'रुपानी राज'
मोदी जी को बेटा नहीं है तो इसमें मैं क्या करुं :हेमंत सोरेन
अरविंद को संगठन में बिना योगदान के सचिव बनाना सबसे बड़ी भूल : शहनवाज हसन

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...