पीएम मोदी के नतमस्तक के बाबजूद राज्यसभा में गतिरोध कायम

Share Button

नई दिल्ली। राज्यसभा में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी स्वयं चलकर विपक्षी नेताओं के पास गए और पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह समेत विभिन्न दलों के नेताओं से काफी देर तक बातचीत की।

उच्च सदन में आज भोजनवकाश की घोषणा होने के बाद मोदी विपक्षी दीर्घाओं के पास गए। उन्होंने पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, कांग्रेस नेता कर्ण सिंह, आनन्द शर्मा आदि से बातचीत की।

मोदी आम तौर पर सदन में गंभीर मुद्रा में रहने वाले मनमोहन का कुछ देर तक हाथ पकड़े रहे और दोनों को किसी बात पर हंसते हुए देखा गया।

मोदी ने इससे पहले जदयू नेता शरद यादव, तृणमूल कांग्रेस के सुखेन्दु शेखर, कांग्रेस के सुब्बीरामी रेड्डी आदि से भी बातचीत की।

उन्होंने बसपा प्रमुख का हाथ जोड़कर अभिवादन किया और और जवाब में मायावती ने भी हाथ जोड़े। किन्तु दोनों के बीच कोई बातचीत नहीं हुई।

प्रधानमंत्री जब राकांपा नेता प्रफुल्ल पटेल और द्रमुक की कनिमोई से बात कर रहे थे, उसी समय विख्यात महिला बॉक्सर एवं मनोनीत मैरीकॉम एवं मनोनीत संभाजी राव भी वहां पहुंचे।

मोदी मैरीकॉम और संभाजी राव के साथ काफी उत्साह से बात करते दिखे। इस दौरान उन्होंने संभाजी के कंधे पर हाथ रखा हुआ था।

उल्लेखनीय है कि उच्च सदन में पिछले कई दिनों से नोटबंदी के मुद्दे पर हो रही चर्चा में प्रधानमंत्री की उपस्थिति की मांग पर विपक्ष के हंगामे के चलते गतिरोध बना हुआ है।

आज बृहस्पतिवार होने के कारण प्रश्नकाल के दौरान प्रधानमंत्री के तहत आने वाले मंत्रालयों से संबंधित मौखिक सवाल पूछे जाते हैं। इसीलिए मोदी आज उच्च सदन में आए थे। किन्तु सदन में प्रश्नकाल के बजाय अधूरी चर्चा को आगे बढ़ाया गया और प्रधानमंत्री एक घंटे तक सदन में चर्चा सुनते रहे।

Share Button

Relate Newss:

किक्रेट छोड़ कर राजनीति संभाली और पहली बार में ही मंत्री बने लालू के 'तेजस्वी' लाल
कर्नाटक के सीएम ने कहा, मैं अब से खाऊंगा बीफ़
सांसद रामटहल चौधरी तक के घर की नाली का पानी स्कूल परिसर में होता है जमा
मध्य प्रदेश में पत्रकार की अपहरण के बाद हत्या !
आइएएनएस के ब्यूरो प्रमुख का गोरखधंधा, बीबी के नाम पर लूट रहा है झारखंड आइपीआरडी
सिल्ली MLA अमित महतो के इस 'बुजुर्ग मां' जज्बे को सलाम
सितंबर-अक्तूबर के महीने में होंगे बिहार विधानसभा चुनाव
भारतीय लोकतंत्र इस भाजपाई मंत्री की बपौती है मी लार्ड ?
रांची प्रेस क्लब में शादी का आयोजन कमिटी का फैसला  : सचिव
मन की बात के लिए भारत सबसे मुश्किल देश : करन जौहर
 जलना चाहता हूँ मैं तो बनकर इक दिया,देखो अँधेरा जग में कहीं अब रह न जाये
पत्रकारिता दिवस पर विशेष: मीडिया तेरे कितने प्रकार?
.....तो सपरिवार आत्मदाह कर लेगा पत्रकार वीरेन्द्र मंडल !
कनफूंकवों ने रघुवर की बांट लगा दी.....
12 को उद्घाटित होगा ‘खबर मंथन’, विनायक विजेता होंगे प्रधान संपादक

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
loading...