पाक की पीएम बनना चाहती है मलाला, टीटीपी ने दी धमकी

Share Button

 लड़कियों की शिक्षा की पैरवी करने के कारण तालिबान की गोली का शिकार हुई पाकिस्तानी किशोरी मलाला यूसुफजई  भविष्य में अपने देश की प्रधानमंत्री बनना चाहती हैं।

malala (2)वह पाकिस्तान की पहली महिला प्रधानमंत्री बेनजीर भुंट्टो को अपना आदर्श मानती हैं। उन्ही के नक्शेकदम पर चलते हुए वह अपने देश की सेवा करना चाहती हैं। सीएनएन को दिए साक्षात्कार के दौरान उन्होंने यह बात कही। इस दौरान उनके पिता भी मौजूद थे।

पिछले साल अक्टूबर में तालिबान द्वारा सर में गोली मारे जाने की घटना को याद करते हुए उन्होंने कहा कि उनका सपना बच्चों की शिक्षा के लिए काम करना है।

मलाला ने कहा कि वह पहले चिकित्सक बनने का सपना देखती थी, लेकिन अब राजनेता बनना चाहती हैं। उन्होंने कहा कि अपने देश का प्रधानमंत्री बनने पर वह ज्यादा से ज्यादा फंड शिक्षा के लिए आवंटित कर सकेंगी और विदेशी मामलों को भी देख सकेंगी। साथ ही कहा कि तालिबान द्वारा गोली मारे जाने और मौत का सामना करने के बावजूद उन्होंने सपने देखना बंद नहीं किया है। वह शिक्षा के लिए काम करती रहना चाहती हैं।

उन्होंने बताया कि अपने स्कूल के पाठ्यक्रम में उन्होंने पहली बार नोबेल पुरस्कार के बारे में पढ़ा था। उन्होंने शांति के नोबेल पुरस्कार का शीर्ष दावेदार होने और पॉप स्टार जस्टिन बीबर और सेलेना गोमेज के गीतों को पसंद करने के संबंध में भी बात की।

किताब बेचने वाले भुगतेंगे गंभीर परिणाम:  मलाला की किताब ‘आइ एम मलाला’ की बिक्री करने वालों को प्रतिबंधित आतंकी संगठन तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान (टीटीपी) ने गंभीर परिणाम भुगतने की चेतावनी दी है।

मौका मिलते ही फिर से मलाला पर हमला करने की धमकी देने वाले तालिबान ने दावा किया है कि उसने (मलाला) कोई बहादुरी का काम नहीं किया है। अपने धर्म इस्लाम  को धर्मनिरपेक्षता से बदल देने के लिए ही उसे पुरस्कृत किया जा रहा है।

Share Button

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.