पल्सर पल्सर पल्सर और पल्सर…

Share Button

bhupendra

-डॉ. भूपेन्द्र सिंह गर्गवंशी

पल्सर- एक मोटर साइकिल जिसका इस्तेमाल बदमाश और आपराधिक प्रवृत्ति के लोग कुछ ज्यादा ही करते हैं। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक हत्या लूटकाण्ड में बदमाश पल्सर मोटर बाइक का ही प्रयोग करते हैं।

हत्या सम्बन्धी खबरों में हत्यारों द्वारा काली/लाल रंग की पल्सर मोटर बाइक का ही प्रयोग किया जाना लिखा हुआ पढ़ने को मिलता है। लूट की वारदात को अंजाम देने वाले बदमाश असलहों से लैस पल्सर मोटर बाइक पर सवार थे- ऐसा मीडिया/प्रेस द्वारा प्रस्तुत न्यूज स्टोरी में पढ़ने/सुनने को मिलता है।

यदि ‘पल्सर’ के प्रयोग पर बैन (प्रतिबन्ध) लगा दिया जाए तो क्या अपराध पर नियंत्रण अपने आप लग जाएगा? सरकार को सुझाव दिया जा सकता है कि पल्सर मोटर साइकिल के निर्माण/बिक्री पर अविलम्ब रोक लगा दी जाए। थोड़ा संशोधन कर दिया जाए तो और भी उपयुक्त रहेगा।

वह यह कि- पल्सर को आम/साधारण लोगों के प्रयोग के लिए न करके इस मोटर बाइक का प्रयोग पुलिस व सुरक्षा संगठनों के लिए मस्ट कर दिया जाए। ऐसा करने से पल्सर सवार पुलिस और सुरक्षा जवान मौका-ए-वारदात से लेकर भाग रहे/भागे/फरार बदमाशों को यथाशीघ्र पकड़ सकेंगे। ऐसा होने पर इन संगठनों का इकबाल बुलन्द होगा और आपराधिक प्रवृत्ति के लोगों के हौंसले पस्त होंगे।

लेकिन ध्यान रखना होगा- कहीं पुलिस और सुरक्षा संगठनों के लोग पल्सर को आपराधिक कृत्यों में लिप्त होने वाले तत्वों को किराए पर न देने लगे? जनाब यह मुफ्त मशवरा है जाने-अनजाने भूलवश कोई गुनाह हुआ हो तो मुआफी चाहूँगा। पल्सर- यह अंग्रेजी भाषा का शब्द है जिसका अर्थ है…………….मुझे भी नहीं मालूम।

शब्द कोष तो है लेकिन कैसे पता करूँ। अंग्रेजी में पल्सर की स्पेलिंग च्नसेंत है यदि च्नसेमत होती तब इसका दूसरा अर्थ होता। एक पल्स का मतलब नाड़ी/धड़कन है वहीं दूसरे पल्स का मतलब दाल लेकिन पल्सर न तो नाड़ी/धड़कन और न ही दाल वाले शब्द का कोई अनुज या अनुजा है।

यह बजाज आटो कम्पनी के इंजीनियर्स द्वारा दिया गया एक नाम है जिसका हिन्दी अर्थ स्पष्ट नहीं है। फिर भी यह लोगों की जुबान पर है।

वैसे पल्सर का शाब्दिक अर्थ तो नहीं बता सकता लेकिन जितनी जानकारी मिली है उसके अनुसार एक प्रकार के तारे को पल्सर कहते हैं।

बहरहाल इसके शाब्दिक अर्थ पर बातें करना व्यर्थ में टाइब वेस्ट होगा। पल्सर बजाज आटो द्वारा निर्मित एक रेसर मोटर बाइक है जो कई क्षमताओं में उपलब्ध है। कीमत मुझे नहीं मालूम। एक जमाने में हीरो होण्डा, यामहा रेसर मोटर बाइक के रूप में जानी जाती थीं लेकिन इस समय पल्सर ही लम्बी दौड़ में सक्षम और फुर्तीली मोटर साइकिलों में शुमार है। इसीलिए पल्सर मोटर साइकिल का इस्तेमाल खेल महकमें द्वारा रेस एवं अन्य प्रतियोगिताओं के लिए किया जाता है।

नौजवान/शौकीन लोग भी पल्सर का शौक पाले हुए हैं। मेरा यह तात्पर्य नहीं कि ये लोग बदमाश और अपराधी प्रवृत्ति के हैं। शौक है साथ ही युवावस्था का स्टेटस सिम्बल भी। खैर! पल्सर मोटर बाइक देखने में अजीब तो लगती ही है उससे ज्यादा खतरनाक तब दिखता है जब सड़क, संकरी गली से सनसनाती हुई ‘हाईस्पीड’ में गुजरती है।

इसकी गति के साथ-साथ चालकों का अजीब हाव-भाव भी मन खिन्न करने वाला होता है। आप बोर न हो……….बता दूँ कि पल्सर के बारे में सुनते-सुनते दिमाग झन्ना उठा था।

बीते दिवस एक लूटकाण्ड के समाचार में पल्सर मोटर बाइक का जिक्र था। इसके पहले हत्या, लूट जैसे कई आपराधिक घटनाओं में पल्सर मोटर साइकिल प्रयुक्त किए जाने के समाचार सुनने में आए थे। पल्सर, पल्सर सुनने-सुनते कान में नासूर हो गया सोचा कुछ लिखकर थोड़ा मन हल्का कर लूँ- लिखने बैठ गया पल्सर के बारे में कंप्यूटर पर इन्टरनेट के जरिए ट्रान्सलेटर से जानकारी लिया उसी में एक प्रकार का तारा और बजाज आटो का जिक्र भी पढ़ने को मिला।

पल्सर-पल्सर सुनते-सुनते जो एलर्जी मुझे हुई उसी को इस आलेख के माध्यम से आप सभी को शेयर कर रहा हूँ। लिखने बैठता हूँ तो पल्सर की बेडौल बॉडी आँखों के सामने फर्राटा भरने लगती है। आप के साथ कैसा बीतेगा? यह आप की प्रॉब्लम है……..आप जानो…झेलो। पल्सर एक महंगी रेसर मोटर बाइक है जिसका प्रयोग स्पोटर्स परसन्स के अलावा क्रिमिनल्स अधिक करते हैं। ब

हुत पहले की ट्रम्फ, बी.एस.ए., रॉयल इन्फील्ड/बुलेट, राजदूत, जावा, यजदी मोटर साइकिलों को पीछे छोड़ती पल्सर आजकल लगभग सबकी जुबान पर है। ऊपर से मीडिया सहयोग, मुफ्त का प्रचार बजाज ऑटो की तो दसो उंगलिया घी और सिर कड़ाहे में है- वाह रे पल्सर………..।

(लेखक: डॉ. भूपेन्द्र सिंह गर्गवंशी वरिष्ठ पत्रकार, स्वतंत्र टिप्पणीकार और रेनबोन्यूज वेब पोर्टल के संरक्षक हैं)

Share Button

Relate Newss:

अंधविश्वास में फंसे नाग ‘देवता’ !
SSP ने तीन पत्रकार समेत थानेदार को 8 लाख की उगाही करते रंगे हाथ दबोचा
अख़बारों से लुप्त होते सामाजिक सरोकार
रिटायर्ड फौजी को ब्लैकमेल करने के आरोप में टाइम्स नाऊ और सहारा समय का स्ट्रिंगर धराया, एएनआई का स्ट्...
झालसा का अपने वेबसाइट पर नियंत्रण का दावा खोखला
इलाहाबाद में 10 मार्च से होगी पाँचवी अरविन्द स्मृति संगोष्ठी
रघु’राज में मीडिया पर अंकुश, केवल फोटोग्राफ कवर करने के निर्देश
दैनिक हिन्दुस्तान विज्ञापन घोटाले में गिरफ्तार हो सकते हैं शशि शेखर समेत शोभना भरतिया
नालंदा में गजब हो गया, अंतिम सुनवाई के दिन लोशिनिका से रेकर्ड गायब, मामला राजगीर मलमास मेला सैरात भू...
आलोक श्रीवास्तव को ‘राष्ट्रीय दुष्यंत कुमार अलंकरण’ सम्मान
लोकसभा में उठा 'सूखा' के साथ फिल्म ‘पद्मावती’ का मुद्दा
नीतीश प्रेम पर बोले मांझी- अलग अलग पार्टी के पति-पत्नी साथ सोते हैं कि नहीं !
गजब ! ओरमांझी जन सूचना अधिकारी ने मांगे 25 रुपये प्रति पेज सूचना
सोशल मीडिया में कही जाने वाली ये आपत्तिजनक बातें है अपराध
लुटेरे थैलीशाहों के लिए ‘अच्छे दिन’ ?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
loading...