पलामू के हुसैनाबाद में अब तक एचआइवी के 173 मरीज मिले

Share Button

पलामू जिला के हुसैनाबाद अनुमंडल क्षेत्र में अब तक एचआईवी पोजेटिव 173 मरीजों की पहचान अनुमंडलीय अस्पताल हुसैनाबाद में कार्यरत आइसीटीसी ने की है।

unnamedआइसीटीसी के काउंसेलर शशि भूशण सिंह ने बताया कि अनुमंडलीय अस्पताल हुसैनाबाद में आइसीटीसी जुलाई 2008 से शुरु किया गया है। इस केंद्र में जांच के बाद दवा भी दी जाती है।

उन्होंने बताया कि शोधों से यह ज्ञात हुआ है कि जितने मरीजों की पहचान होपाती है उससे दस गुणा अधिक मरीज उस क्षेत्र में पाये जाते हैं। इस बात को सरकार भी मानती है।

उन्होंने कहा कि हुसैनाबाद के अलावा हुसैनाबाद के अधिकांश एचआइवी पॉजेटिव मरीजों की पहचान सदर अस्पताल डालटनगंज, बीएचयू वाराणसी,रिम्स रांची, आरएमसीएच पटना, दिल्ली सहित अन्य अस्पतालों में भी हुई है। जिसका आंकड़ा अनुमंडलीय अस्पताल में उपलब्ध नहीं हो पाता है।

यही वजह है कि स्वास्थ्य विभाग यह मानता है कि जितने मरीजों की पहचान हुई उसके दस गुणा मरीज उस क्षेत्र में निष्चित ही पाये जाते हैं।

श्री सिंह ने बताया कि हुसैनाबाद शहर में रेड लाईट एरिया है। सिर्फ वहां एचआइवी पॉजेटिव 7 मरीज हैं। यह संख्या अधिक भी हो सकती है। क्योंकि अन्य ने कही और जांच कराया होगा तो उसकी जानकारी स्थानीय आइसीटीसी को नहीं है।

उन्होंने कहा कि इस क्षेत्र से पलायन कर लोग देश के विभिन्न जगहों में रोजी रोटी के लिए जाते हैं। पॉजेटिव मरीजों में अधिक संख्या वैसे ही लोगों की है।

उन्होंने कहा कि यह संख्या जनसंख्या का 0.5 प्रतिषत है। इतने एचआइवी पॉजेटिव मरीज पलामू प्रमंडल ही नहीं राज्य के एक दो जिला को छोड कर कहीं नहीं है।

कब कितने मरीजों की हुई पहचान

जुलाई 2008 से दिसंबर 2008 तक 16, वर्श 2009 में 38, 2010 में 16, 2011 में 24, 2012 में 28, 2013 में 27 ,2014 में 20 व 2015 में अबतक 4 मरीजों की पहचान अनुमंडलीय अस्पताल हुसैनाबाद में जांच के दौरान हुई है। कांउंसेलर श्री सिंह ने बताया कि अबतक 22159 लोगों का एचआइवी जांच किया गया है। इनमें कुल 173 पॉजेटिव पाये गये है।

कैसे होगा नियंत्रण

एडस पर नियंत्रण कैसे पाया जा सकता है। इस सवाल पर काउंसेलर षषिभूशण सिंह ने कहा कि जागरुकता ही एडस का बचाव है।

उन्होंने कहा कि एडस से बचाव की जानकारी गांव गांव में विभिन्न कार्यक्रमों के माध्यम से दी जा रही है। उन्होंने कहा कि ग्राम स्वास्थ्य स्वच्छता एवं पोषण समिति की मासिक बैठक में नियमित रुप से इस विषय पर चर्चा की जाती है।

वहीं सहिया, सहिया साथी, बीटीटी, एएनएम के द्वारा ग्राम स्तरीय बैठक, स्वास्थ्य उप केंद्र व आंगनबाड़ी केंद्रों के माध्यम से लोगों को जागरुक किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि जागरुकता के लिए वर्श में कई बार शिविर लगाकर जानकारी व बचाव के उपाय भी लोगों को बताये जाते हैं। सभी गर्भवती महिलाओं का पंजिकरण के समय ही एचआइवी जांच निश्चित किया जा रहा है।

 बाहर से एचआइवी लेकर आते हैं मजदूर

आइसीटीसी काउंसेलर श्री सिंह के अनुसार जागरुकता अभियान हुसैनाबाद के ही गांव तक सिमित नहीं है। विश्व के सभी जगह में जागरुकता कार्यक्रम चलाये जा रहे हैं। बावजूद इसके लोग शिकार हो रहे हैं।

उन्होंने कहा कि इसके शिकार सिर्फ अनपढ ही नहीं पढे लिखे लोग भी हो रहे हैं। श्री सिंह ने कहा कि पहले एचआइवी फैलने के विभिन्न कारण हुआ करते थे। एक ही सिरिंज से कई लोगों को इंजेक्षन देने, एचआइवी पॉजेटिव व्यक्ति का खून चढाने व अन्य कई कारण भी होते थे। वर्तमान में जो कारण सामने आ रहे हैं उनमें 99 प्रतिशत एचआइवी पॉजेटिव मरीज असुरक्षित यौन संबंधों की वजह से हो रहे हैं।

उन्होंने कहा कि यही वजह है कि लोग काम करने बाहर जाते हैं। वहां बाजारु औरतों के साथ संबंध बनाते हैं और एडस लेकर घर आने के बाद अपनी पत्नी को भी देकर चले जाते हैं। यह सारे कार्य अनजाने में ही होते हैं। जांच कराने के बाद पॉजेटिव आने पर देर हो चुकी होती है।

सावधानी ही एडस का बचाव हैः उपाधीक्षक

अनुमंडलीय अस्पताल हुसैनाबाद के उपाधीक्षक डा. अनिल कुमार ने बताया कि सावधानी ही एडस से बचाव है।

उन्होंने कहा कि एडस के मरीजो के साथ हाथ मिलाने, उसके साथ गले मिलने, साथ खाना खाने या साथ रहने से एडस नहीं फैलता है। असुरक्षित योन संबंध, एडस रोगी के रक्त से अच्छे व्यक्ति के रक्त के साथ संपर्क में आने, एडस रोगी का खून चढाने आदि से एडस फैलता है।

उन्होंने बताया कि असुरक्षित यौन संबंध सबसे बडा कारण हो रहा है। उन्होंने कंडोम का प्रयोग करने व दाम्पत्य जीवन में इमानदारी से इसपर काबू पाया जा सकता है। उन्हों ने कहा कि हरेक स्तर पर लोगों को जानकारी दी जा रही है। जागरुकता अभियान चलाया जा रहा है। उससे बहुत हद तह नियंत्रण हुआ है।

उन्होंने कहा कि वर्ष 2008 एवं 2009 में जिस तेजी के साथ एचआइवी पॉजेटिव मरीजों की संख्या बढ़ी थी उसमें काफी हद तक नियंत्रण पाने में सफलता मिली है। ……हुसैनाबाद,पलामू से जफर हुसैन की रिपोर्ट

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *