पत्रकार हत्याकांड: आशा रंजन को केस वापस नहीं लेने पर टुकड़े-टुकड़े कर डालने की धमकी

Share Button

पटना। बिहार में चर्चित पत्रकार राजदेव रंजन हत्याकांड में अज्ञात अपराधियों ने उनकी पत्नी आशा रंजन को फोन कर केस वापस लेने की धमकी दी है। ऐसा नहीं करने पर जान से मारने की भी धमकी दी है।

आशा रंजन ने सिवान के महादेवा थाने में लिखित शिकायत दर्ज कराई है। अपने आवेदन में उन्होंने लिखा है कि उन्हें +671 नंबर से कॉल कर किसी ने धमकी दी कि सुप्रीम कोर्ट से अपना केस वापस ले लो नहीं तो तुम्हारे इतने टुकड़े करेंगे कि गिन नहीं पाओगी।

जानकारी के मुताबिक बीते 26 दिसंबर की रात को आशा रंजन को एक कॉल आया जिसमें अज्ञात शख्स ने खुद को शहाबुद्दीन का आदमी बताते हुए केस वापस लेने की धमकी दी है। फोन करने वाले ने आशा को ऐसा न करने पर जान से मारने और टुकड़े-टुकड़े करने की धमकी दी है।

मामले को लेकर आशा रंजन ने पुलिस से शिकायत की है। मालूम हो कि सीवान में हुए इस मर्डर के बाद फिलहाल दिल्ली के सुप्रीम कोर्ट में इसकी सुनवाई हो रही है। आगामी 17 जनवरी को इस मामले में अगली सुनवाई होनी है। मामले में आरोपी बनाये गए बाहुबली नेता शहाबुद्दीन भी फिलहाल दिल्ली के तिहाड़ जेल में बंद हैं।

महादेवा ओपी के थाना प्रभारी अरविंद कुमार गुप्ता ने इस बात की पुष्टि करते हुए बताया कि आशा रंजन ने सुरक्षा की गुहार लगाई है और वो काफी डरी हुई हैं। उन्हें जान से मारने की धमकी दी गई है और उन्होंने इसका लिखित आवेदन दिया है।

Share Button

Relate Newss:

मंदिर में कंडोम का प्रमोशन करने पर सनी लियोन पर हुई FIR
महंगा पड़ा फेसबुक पर शराब की बोतल संग फोटो पोस्ट, 4 समेत पहुंचा जेल
हिरासत में मौतें: बिहार ने सुधारी अपनी छवि
सुप्रीम कोर्ट ने लगाई जी न्यूज के सुधीर चौधरी को कड़ी फटकार
पटना के जोनल आईजी सुशील खोपडे के नाम पर चल रहा फर्जीवाड़ा
रघु'राज के सलाहकार योगेश-अजय प्रक्ररण का स्वागत होनी चाहिेये
बच्चों की जिंदगी से खिलवाड़ करता एनजीओ, मीड डे मील में मिला मेढक, छात्रों ने किया हंगामा
जामा मस्जिद में जल चढ़ाने की घोषक सुदर्शन न्यूज चैनल के मालिक गिरफ्तार
सोशल मीडिया को लेकर यूं गंभीर हुये नालंदा के डीएम-एसपी
भगवान बिरसा जैविक उद्दान में लूट का आलमः खा गए मछली , डकार लिए घर
जीत आखिरकार पेड की हुई न कि न्यूज की !
समाज सेवा पेशा से जुड़े हरिनारायण सिंह बन गये कथित द रांची प्रेस क्लब के उपाध्यक्ष !
बिहार का 'डीएनए' ही ऐसा है कि विश्व नेता को जिला नेता भी न रहने दिया
हे आर्य, तेनु काला चसमा सजदा हे देव जँचता जी रुखड़े मुखड़े पे
स्वतंत्र लेखक मंच का 27 वां वार्षिक साहित्योत्सव आज

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
loading...