नेपाल में ‘गो इंडियन मीडिया गो’ की मुहिम

Share Button
Read Time:6 Minute, 0 Second

नेपाल में भूकंप की कवरेज को लेकर भारतीय मीडिया आलोचनाओं का सामना कर रहा है। सोशल मीडिया में शिकायत की जा रही है त्रासदी के समय में यह भारत सरकार का प्रचार करने का काम कर रहा है।

indian media in nepalपिछले महीने के विनाशकारी भूकंप के बाद नेपाल के उबरने के बीच कुछ लोगों ने भारतीय मीडिया के लगातार और सक्रिय कवरेज में खामियां खोज डाली है।

इस आपदा में सात हजार से अधिक लोग मारे गए हैं जबकि 14,000 से अधिक लोग घायल हुए हैं।

खसकर सोशल साइटों पर ‘गो इंडियन मीडिया’ (भारतीय मीडिया वापस जाओ) नेपाल में शीर्ष ट्रेंडिंग हैशटैग बना हुआ था। इस विषय पर 60,000 से अधिक ट्वीट थे।

नेपाल में दुखी लोगों ने 80 साल में देश में आए सबसे भीषण भूकंप की भारतीय मीडिया की ‘असंवेदनशील’ रिपोर्टिंग पर अपनी शिकायत करने के लिए सोशल मीडिया का सहारा लिया है।

दुर्भाग्यवश नेपाल में भारतीय मीडिया की यह आलोचना वर्ल्ड प्रेस डे के मौके पर हुई है। यह कम शर्मींदगी की बात नहीं है।

साथ ही, सोशल मीडिया में नकारात्मक प्रतिक्रियाओं पर आलोचनात्मक जवाब दिए जा रहे हैं। जैसे कि इस टिप्पणी में कहा गया है। भारतीय मीडिया का कवरेज नेपाल त्रासदी की तस्वीर विश्व को दिखाने और वैश्विक प्रतिक्रिया जुटाने के लिए बड़े पैमाने पर जिम्मेदार है।

बचाव के काम में मदद के लिए ये लोग आभार तो जता रहे हैं लेकिन सोशल मीडिया पर मीडिया के उस धड़े की जमकर खिंचाई हो रही है, जो इस त्रासदी के बहाने सरकार का प्रचार कर रहे हैं।

एक ट्वीट में कहा गया है, ‘‘संकट की घड़ी में मीडिया ने श्रेय लेने के लिए और सस्ती लोकप्रियता के लिए गरीब नेपाल को अपमानित किया है। ’’

सीएनएन पर प्रकाशित एक ब्लॉग में नेपाली मूल की सुनीता शाक्य ने लिखा है, ‘‘आपका मीडिया और आपके मीडियाकर्मी इस तरह से बर्ताव कर रहे हैं, जैसे कि वे किसी के पारिवारिक धारावाहिक की शूटिंग कर रहे हों।’’

उन्होंने ऐसे दो तीन उदाहरण भी बताएं जहां उन्होंने कहा कि रिपोर्टर ने जरूरतमंद घायल व्यक्ति की मदद के लिए पर्याप्त काम नहीं किया।

सुनीता ने कहा, ‘‘उन ढेरों रिपोर्टरों का शुक्रिया जो भारत के बचाव विमानों से नेपाल आए, आपने वह सीट ली, जहां किसी पीड़ित को अस्पातल या स्वास्थ्य शिविरों में पहुंचाया जा सकता था। आप सभी रिपोर्टरों का शुक्रिया,  आपने एक सीट ली जहां खाने के सामान का एक थैला और बुरी तरह से प्रभावित स्थानों के लिए रसद रखी जा सकती थी।’’

प्रख्यात पत्रकार कुंडा दीक्षित के हवाले से बताया गया कि कुछ नेपालियों को लगता है कि भारतीय मीडिया अपने रूख में कुछ देशभक्त हैं और शायद इसलिए ऐसी भावनाएं जाहिर हुई. इसी तरह से नेपाली मीडिया का एक धड़ा भी सोच रहा है।

ट्वीटर पर मौजूद लोगों ने भारतीय मीडिया पर जीवित बचे लोगों के लिए असंवदेनशील होने का आरोप लगाया, जिसने ‘‘आप कैसा महसूस कर रहे हैं?’’ जैसे सवाल पूछे और फौरन चिकित्सीय सहायता की जरूरत वाले लोगों को मदद नहीं दी।

शाक्या ने पूछा, ‘‘यदि आप मीडियाकर्मी ऐसी जगह पर पहुंचते हैं जहां राहत सामग्री नहीं पहुंची है तो संकट की ऐसी घड़ी में क्या वे प्राथमिक उपचार किट या कुछ खाने की चीजें अपने साथ नहीं ले जा सकते।’’

एक ट्वीट में कहा गया है कि डियर नरेन्द्र भाई मोदी हमारा धरहरा भले ही ढह गया हो पर हमारी संप्रभुता नहीं ढही है..‘गो होम इंडियन मीडिया’।

एक अन्य ट्वीट में कहा गया है कि मिस्टर नरेन्द्र भाई मोदी कृपया अपने मीडिया को वापस बुलाइए। वे हमें सिर्फ और चोट पहुंचा रहे हैं।

एक अन्य ट्वीट में कहा गया है कि इवेंट प्रबंधन की पराकाष्ठा है। मीडिया की चमचागिरि शर्मनाक है।

एक अन्य ट्वीट में कहा गया है, ‘‘गो होम इंडियन मीडिया. इसका भारत सरकार से कोई लेना देना नहीं है। भारत सरकार सबसे पहले नेपाल पहुंची थी।’’

प्रख्यात पत्रकार अजय भद्र खनाल के हवाले से बताया गया है कि भारतीय मीडिया की आक्रामक उपस्थिति और जिस तरह से यह बचाव एवं राहत कोशिशों में सिर्फ अपने सरकार की पीठ थपथपा रही है, उसने भारत सरकार के बारे में नेपालियों के बीच पूर्वधारणा को प्रभावित किया है।

0 0
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
Share Button

Relate Newss:

पुलिस अकर्मण्यता की हदः वे चाहे जो करें उनकी मर्जी !
कनफूंकवों ने रघुवर की बांट लगा दी.....
‘दुर्ग’ को जमानत, लेकिन ST-SC कोर्ट में यूं दिखा सुशासन का दोहरा चरित्र
दैनिक जागरण के स्थानीय संवाददाता हैं होटल मालिक बब्लु सिंह
वरिष्ठ संपादक हरिनारायण जी ने यूं उकेरी उषा मार्टिन एकेडमी के छात्र की पीड़ा
राजगीर एसडीओ की यह लापरवाही या मिलीभगत? है फौरिक जांच का विषय
ऑपरेशन जिंजर वनाम ओम थानवी का भाजपा पर सर्जिकल स्ट्राइक
अब 2अक्टूबर से नया संशोधित शराबबंदी कानून लागू करने की मंशा
'लिव इन रिलेशन' रेप के दायरे से बाहर नहीं :हाई कोर्ट
गरीब बिहार की अमीर सरकारः 5 वर्ष में मीडिया पर लुटाए 500 करोड़ !
चतरा पत्रकार हत्याकांड का मुख्य आरोपी तमिलनाडु में धराया
नए राजनीतिक समीकरण के साथ बिहार में बड़ा प्रशासनिक फेरबदल
दैनिक ‘सन्मार्ग’ ने जिन्दा प्रखंड प्रमुख को मार डाला !
सावधान ! नई दिल्ली से हर तरफ फैला है पत्रकार बनाने का यह गोरखधंधा
झारखंड में JJA की आवाज- नीतीश होश में आओ, पत्रकारों का दमन स्वीकार्य नहीं
भस्मासुर बने मांझी को जदयू विधायक दल ने हटाया, नीतीश बने नेता
न्यूड वीडियो के जरिए पाकिस्तानी महिला जासूस ने फौजी को फंसाया
तस्वीरे झूठ नहीं बोलती मंत्री जी, पप्पु यादव को 10 करोड़ का ऑफर!
अलविदा! बीबीसी हिन्दी रेडियो सर्विस, लेकिन तेरी वो पत्रकारिता....✍
यहां संपादक से रिपोर्टर तक अंधे हैं साहब
The Telegraph ने राष्ट्रपति-प्रधानमंत्री-गृहमंत्री की तस्वीर लगा यूं छापी लीडः We the idiots
कठखोदी की चोंच में फंसा लोकतंत्र और आम आदमी !
जमशेदपुर DPRO ने मीडिया हाउसों और रिपोर्टरों को यूं डराया
मेड इन चाइना होगी मोदी सरकार की पटेल स्टैचू ऑफ यूनिटी
ढोंगी रामपाल की काली दुनिया का सच

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...