नालंदा में सुशासन धोखा है,  प्रशासन बिल्कुल बोका है !

Share Button

पिछले कई माह से नालंदा जिले में व्याप्त कुशासन का जिस तरह से दंश झेल रहा हूं कि सीएम नीतिश जी के सुशासन के बोल से चिढ़ होने लगी है। मन मस्तिष्क आक्रोश से भर रहा है।

nitishठीक वैसा ही आक्रोश, जैसा कि कभी लालू जी के निकम्मों के कारण हुआ था। थाना प्रभारी, अंचलाधिकारी, अनुमंडलाधिकारी, पुलिस अधीक्षक, जिलाधिकारी…सब के सब निकम्मे नजर आ रहे हैं बिल्कुल लाचार पशु की तरह।

मैंने एक छोटी सी समस्या को लेकर इस दौरान गहन अध्ययन किए हैं। हमारे पास सब कुछ के पक्के सबूत हैं। एक थाना प्रभारी ने अकर्मणयता दिखाई।

मैं ज्यों-ज्यों उसकी शिकायत लेकर आगे बढ़ता गया, समस्या और भी बढ़ती गई। हम जैसे आम भारतीय नागरिक के खेत-खलिहान के खून पसीने की कमाई को इन लोगों ने अपनी एयरकंडीशनरी चर्बी बढ़ाने का मात्र जरिया समझ रखा है। लेकिन हम हार नहीं खाएगें…रार नहीं खाएगें।

एक वेब जर्नलिस्ट हैं। सारे सबूतों को इंटरनेट पर डालेगें। अपनी वेबसाइट पर उठाएगें। नालंदा की मीडिया भले भकचोधंर हो…उसके खिलाफ सोशल मीडिया के आप सरीखे मित्रों की उर्जा की मदद से मात देने का हरसंभव प्रयास करेगें।

……..मुकेश भारतीय

Share Button

Relate Newss:

नालंदा पत्रकार संघ के बैनर तले हिलसा अनुमंडल पत्रकार संघ का गठन
जहरीले मैगी के प्रचारक माधुरी दीक्षित को नोटिस !
दैनिक भास्कर रोहतक के एडीटोरियल हेड जितेंद्र श्रीवास्तव ने ट्रेन से कटकर की आत्महत्या
नंगे पांव एके-47 लेकर सिंघम दिखे रांची एसएसपी, 3 शार्प शूटरों को कराया यूं सरेंडर
सावधान हो जाइए ऑपरेटिंग सिस्टम विंडोज XP वाले
पटना मीडिया पर कथित हमले का सच, खुद तेजस्वी यादव की जुबानी
नियुक्ति के बाद से FTII ऑफिस नहीं गए गजेंद्र चौहान
बिहार का हक है विशेष राज्य का दर्जा :राज्यपाल
नालंदा से दो भ्रष्ट अफसर पकड़ पटना ले गये निगरानी वाले
45.68 हजार में बिका अदद मुर्गी का एक अंडा!
स्वतंत्रता एक उत्सव है; आजादी एक चुनौती है।
स्वभिमान रैली में लालू-राबड़ी का पीएम मोदी सीधा निशाना
राजगीर में बना फर्जी पत्रकार संघ, नियोजित शिक्षक बना कोषाध्यक्ष
बिहार के नवादा में पत्रकार के भाई की पीट-पीटकर निर्मम हत्या
अखबारों-टीवी चैनलों के लिए टर्निंग पॉइंट है बिहार चुनाव

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
loading...