दैनिक भास्कर ग्रुप से कार्यमुक्त निदेशक अब चलाएंगे वेबसाइट

Share Button

राजनामा.कॉम। स्वर्गीय रमेश चंद्र अग्रवाल के चौथे बेटे माने जाने वाले डाक्टर भरत अग्रवाल को अंतत: दैनिक भास्कर से कार्यमुक्त होना पड़ा है। दिल्ली में रहकर पीआर, लायजनिंग और बिजनेस देखने वाले भरत अग्रवाल मूलत: एमबीबीएस डाक्टर हैं।

वे सुधीर अग्रवाल के साथ पढ़ें हैं और इसलिए वे शुरू से दैनिक भास्कर समूह से जुड़ गए और बड़ी डायरेक्टर के रूप में बड़ी जिम्मेदारी संभालने लगे। कभी किसी बाहरी आदमी को लगा ही नहीं कि डाक्टर भरत अग्रवाल भास्कर की अग्रवाल फेमिली के हिस्से नहीं हैं।

कहा है कि नौकरशाही और नौकरशाहों में असीमित रुचि रखने वाले डाक्टर भरत अग्रवाल ने नौकरशाही से जुड़ी देश की सबसे बड़ी वेबसाइट ह्विस्पर्स इन दी कारिडोर्स डॉट काम को ज्वाइन कर लिया है। उन्हें यहां ह्विस्पर्स मीडिया में ग्रुप एडिटर और सीईओ बनाया गया है।

ह्विस्पर्स मीडिया के मालिक मेहरोत्रा साहब बुजुर्ग हो गए हैं। बेटे के असमय निधन और मानद पुत्र के भी चले जाने के कारण वह अपनी चर्चित वेबसाइट को किसी ऐसे उपयुक्त हाथों में देने चाहते थे, जो इसे उचित तरीके से आगे बढ़ा सके। इस लिहाज से डाक्टर भरत अग्रवाल परफेक्ट आदमी हैं।

डाक्टर भरत अग्रवाल ने हिस्पर्स इन दी कारिडोर्स डॉट कॉम को टेक ओवर कर लिया है लेकिन अभी इसकी घोषणा अधिकृत तौर पर नहीं की जा रही है।

फिलहाल जितने मुंह उतनी चर्चाएं हैं, लेकिन ये दो बातें तो सच हैं कि डाक्टर भरत अग्रवाल दैनिक भास्कर के हिस्से नहीं रहे और डाक्टर भरत अग्रवाल ने नौकरशाही की चर्चित वेबसाइट हिस्पर्स इन दी कारिडोर्स डाट काम में सीईओ और ग्रुप एडिटर के बतौर ज्वाइन कर लिया है।

Share Button

Relate Newss:

रघु'राज के सलाहकार योगेश-अजय प्रक्ररण का स्वागत होनी चाहिेये
राजगीर एसडीओ की यह लापरवाही या मिलीभगत? है फौरिक जांच का विषय
अंततः सरायकेला पुलिस ने पत्रकार वीरेंद्र मंडल को जेल में डाल ही दिया !
18 मार्च से फिर शुरू होगा जाटों का ‘हरियाणा जलाओ, आरक्षण पाओ अभियान’ !
खरमास के बाद भोंपू लेकर लालू बताएंगे भाजपा-आरएसएस का सच
पढ़िए आमिर खान का वह पूरा इंटरव्यू, जिसके एक अंश ने हंगामा बरपा रखा है
सावधान यारों देश मेरा सोता हैं
क्या इन्सान नहीं हैं नेवरी और पीपरा चौड़ा के मुसलमान ?
सियासी प्याले में ओबामा-मोदी का कूटनीतिक धमाल !
उत्तराखंड के सीएम हरीश रावत ने कहा, गौ-हत्यारों को नहीं है भारत में रहने का अधिकार
प्रशासन से अधिक चुनौतीपूर्ण है मीडिया की भूमिकाः डीएम योगेन्द्र सिंह
डालटनगंज में लगा भूतों का मेला, प्रशासन मूकदर्शक !
मांझी ने बनाया हम, नीतिश को बताया दुश्मन नं.1
मुंगेर: सड़कों पर क्यों जलाई जा रही है दैनिक प्रभात खबर ?
झारखंड में एसएआर कोर्ट खत्म करने की तैयारी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
loading...