दैनिक भास्कर ग्रुप से कार्यमुक्त निदेशक अब चलाएंगे वेबसाइट

Share Button

राजनामा.कॉम। स्वर्गीय रमेश चंद्र अग्रवाल के चौथे बेटे माने जाने वाले डाक्टर भरत अग्रवाल को अंतत: दैनिक भास्कर से कार्यमुक्त होना पड़ा है। दिल्ली में रहकर पीआर, लायजनिंग और बिजनेस देखने वाले भरत अग्रवाल मूलत: एमबीबीएस डाक्टर हैं।

वे सुधीर अग्रवाल के साथ पढ़ें हैं और इसलिए वे शुरू से दैनिक भास्कर समूह से जुड़ गए और बड़ी डायरेक्टर के रूप में बड़ी जिम्मेदारी संभालने लगे। कभी किसी बाहरी आदमी को लगा ही नहीं कि डाक्टर भरत अग्रवाल भास्कर की अग्रवाल फेमिली के हिस्से नहीं हैं।

कहा है कि नौकरशाही और नौकरशाहों में असीमित रुचि रखने वाले डाक्टर भरत अग्रवाल ने नौकरशाही से जुड़ी देश की सबसे बड़ी वेबसाइट ह्विस्पर्स इन दी कारिडोर्स डॉट काम को ज्वाइन कर लिया है। उन्हें यहां ह्विस्पर्स मीडिया में ग्रुप एडिटर और सीईओ बनाया गया है।

ह्विस्पर्स मीडिया के मालिक मेहरोत्रा साहब बुजुर्ग हो गए हैं। बेटे के असमय निधन और मानद पुत्र के भी चले जाने के कारण वह अपनी चर्चित वेबसाइट को किसी ऐसे उपयुक्त हाथों में देने चाहते थे, जो इसे उचित तरीके से आगे बढ़ा सके। इस लिहाज से डाक्टर भरत अग्रवाल परफेक्ट आदमी हैं।

डाक्टर भरत अग्रवाल ने हिस्पर्स इन दी कारिडोर्स डॉट कॉम को टेक ओवर कर लिया है लेकिन अभी इसकी घोषणा अधिकृत तौर पर नहीं की जा रही है।

फिलहाल जितने मुंह उतनी चर्चाएं हैं, लेकिन ये दो बातें तो सच हैं कि डाक्टर भरत अग्रवाल दैनिक भास्कर के हिस्से नहीं रहे और डाक्टर भरत अग्रवाल ने नौकरशाही की चर्चित वेबसाइट हिस्पर्स इन दी कारिडोर्स डाट काम में सीईओ और ग्रुप एडिटर के बतौर ज्वाइन कर लिया है।

Share Button

Relate Newss:

एक और नवरूला? अपराधियों ने बेटी को बेचा, मां कर रही अनशन और पुलिस बेफिक्र
स्वायतत्ता की बात करने वाले शायद अपरिपक्व हैं !
अनेक चर्चाओं-आशंकाओं के बीच यूं बोले ‘द रांची प्रेस क्लब’ के नव निर्वाचित सचिव शंभुनाथ चौधरी
बात का बतंगड़ बना गई ‘आप’ की राखी बिडलान !
नीतिश के अहं को मिली बेलगाम IAS शासन की चुनौती
खबर लिखने से पहले सोचें कि समाज पर उसका क्या असर होगाः रघुवर दास
बंगाल BJP अध्यक्ष ने कहा- ममता बनर्जी को दिल्ली से बाल पकड़ निकाल सकते हैं
क्या पोर्न इंडस्ट्री से आई हैं कैटरीना कैफ ?
आजाद हिंद फौज के कैप्टन अब्बास अली का इंतकाल
...और मनीषा कोइराला की एक ट्वीट से चमक उठी महिला कांस्टेबल
बचिये ऐसे विज्ञापनों से, हमें मूर्ख बना रहे हैं ये
हम युवा पीढ़ी के बेहतर भविष्य के लिए मांग रहे हैं विशेष राज्य का दर्जा
एडिटर-रिपोर्टर के बीच सहमति और स्पष्टता के लिए जरुरी है परस्पर संवाद
जितनी हुई लानत मलामत, उतना ही बढ़ा कद !
रिपोर्टिंग के दौरान ट्रॉमा के ख़तरे से बचने के लिए कुछ परामर्श

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
loading...