दीपक चौरसिया की ‘इंडिया न्यूज’ चैनल में वापसी

Share Button

नई दिल्ली। लंबे सस्पेंस के बाद अंतत: दीपक चौरसिया की ‘इंडिया न्यूज’ समाचार चैनल में वापसी हो गई. कल शाम उन्होंने अपना शो ‘टूनाइट विथ दीपक चौरसिया’ खुद पेश किया. इंडिया न्यूज के बैनर तले छोटे परदे पर फिर अवतरित होने के बाद उनके ‘इंडिया न्यूज’ समाचार चैनल से चले जाने संबंधी खबरें, चर्चाएं, अफवाहें झूठी साबित हो गईं. वैसे सूत्रों का कहना है कि अंदरखाने कुछ तो गड़बड़ था.

चैनल मालिक कार्तिक शर्मा और चैनल के एडिटर इन चीफ दीपक चौरसिया के बीच कई मसलों पर जमकर मतभेद था. दीपक के अधिकारों में कई किस्म की कटौती की गई और उनकी आंखों के सामने उनके खास लोगों को निकाल बाहर किया गया. इस सबसे खफा दीपक ने आफिस आना बंद कर दिया था.

सूत्रों के मुताबिक चैनल प्रबंधन और दीपक चौरसिया के बीच हुई बैठक में आपसी विवादों का निपटारा कर लिया गया है और फिर से नए सिरे से सभी को चैनल के लिए जुटने का आह्वान किया गया है.

कल जिन लोगों ने दीपक चौरसिया का शो देखा, उनमें से कई का कहना है कि दीपक में अब वो पहले वाली बात नहीं रही. उनकी सेहत लगातार गड़बड़ रहने के कारण उनका न्यूज प्रजेंटेशन और डिबेट संचालन का स्तर थोड़ा गिरा है. वह खबर पढ़ने में भी अक्सर गड़बड़ा जा रहे हैं.

जो भी हो, यह तो श्रेय दीपक चौरसिया के खाते में जाता ही है कि उन्होंने  इंडिया न्यूज चैनल को अपनी और अपनी टीम की मेहनत के बल पर नंबर तीन-चार का चैनल बना दिया.

कुछ लोगों का यह भी कहना है कि चैनल प्रबंधन और एडिटर इन चीफ के बाच यह अल्पकालिक युद्धविराम है. देखते जाइए, आगे आगे होता है क्या.

Share Button

Relate Newss:

मुंडा राज में फर्जी पत्रकारों के बीच बंटे रेवड़ियों की जांच जरुरी
आजादी के हनन  को लेकर  नॉर्थ ईस्‍ट इंडिया के 6 प्रमुख अखबारों  के एडिटोरियल स्‍पेस ब्लैंक्स
अश्विनी गुप्ता अपहरण में कुख्यात पूर्व सांसद शहाबुद्दीन को मिले थे ढाई करोड़ रुपये
शराब-शबाब के शौकिन जदयू विधायक सिर ले घुमते हैं बाज !
हे आर्य, तेनु काला चसमा सजदा हे देव जँचता जी रुखड़े मुखड़े पे
यहां आंचलिक पत्रकारिता और चुनौतियां विषयक कार्यशाला में उभरे ये सच
बिग बी ने सिंगापुर की जिद्दू डॉट कॉम में किया 7.1 करोड़ का निवेश !
भ्रष्टाचार में संलिप्त पुलिस महकमे के खिलाफ कार्रवाई क्यों नहीं कर रही रघुबर सरकार
सुशासन बाबू के नालंदा में अराजकता, सिर्फ मीडिया में दिखता है सुशासन !
चंडी पुलिस के निकम्मेपन खिलाफ उच्चस्तरीय जांच की जरुरत
पत्रकार को निर्भीकता से निष्पक्ष खबर लिखने की जरुरत
ओरमांझी प्रखंड प्रमुख शिवचरण करमाली की सड़क हादसे में दर्दनाक मौत
इधर आमरण अनशन पर बैठे पत्रकार की हालत बिगड़ी, उधर राजनीति करने में जुटी पुलिस-संगठन
21 दिन बाद भी सुपरविजन नहीं, बीडीओ पर मेहबान है रांची पुलिस !
भाजपा ने सोशल मीडिया को 'एंटी-सोशल' बनायाः नीतिश

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
loading...