ताकि और अरीब मजीद न बन पाएं

Share Button

majdकल्याण के इंजीनियरिंग स्टूडेंट अरीब मजीद का नाम अब कोई अनजान नाम नहीं है,  ISIS के लिए काम करने गए अरीब मजीद को ईराक़ से लौटते ही NIA ने अपनी गिरफ्त में ले लिया और जैसा कि जांच और खुद उसके बयानों से यह बात सामने आयी है कि वो सोशल मीडिया के ज़रिये ही इस काम के लिए मोटीवेट हुआ था। 

इस ब्रेन वाश करने में  एक लड़की का हाथ है। उसका नाम है ताहिरा भट्ट,जिससे उसकी दोस्ती फेसबुक पर हुई थी।

अपने छह पन्ने के बयान में मजीद ने दावा किया है कि ताहिरा ने उसका और उसके तीन दोस्तों शाहीम तनकी, फहाद शेख और अमन टंडेल का ब्रैनवॉश कर इस काम के लिए उकसाया !!

सोशल मीडिया देखा गया है कि कई नौजवान उकसाने और  कट्टरता फैलाने वाली पोस्ट्स पर बिना सोचे समझे न सिर्फ ज्यादा तवज्जो देते हैं, बल्कि दिन रात इसी धुन में लगे भी रहते हैं…यह नौजवान फेसबुक पर कई उकसाने वाले ग्रुप्स और पेजेज़ के सदस्य भी हैं !

वो यह नहीं सोचते कि सोशल मीडिया पर उनकी इस गतिविधियों से क्या हासिल होने वाला है ? फेसबुक पर ऐसे कई ग्रुप्स भी हैं…जो कि मुसलमानो के नाम से कोई और ताक़ते आपरेट कर रही हैं, बिना सोचे समझे इनके जाल में फंसने वाले नौजवान खुद अपने लिए ही आफत का सामान इकठ्ठा कर रहे हैं !

पहले भी IM (इंडियन मुजाहिदीन) के जाल में कई नौजवान फंसे हैं, गिरफ्तार हुए हैं, और इसी IM की आड़ में सैंकड़ों बेगुनाह मुस्लिम नौजवान परेशान किये गए, हिरासत में लिए गए, कई छोड़े गए, कइयों का सामजिक, पारिवारिक जीवन बर्बाद हुआ !

अब इस ISIS के आकर्षण में फिर से मुस्लिम नौजवानो के फंसने की खबर आयी है तो यह भी एक बड़ा खतरा ही कहा जा सकता है !

asif

….. अपने फेसबुक वाल पर आसिफ़ अली हाशमी

 

Share Button

Related Post

One comment

  1. आदरणीय मुकेश भारतीय जी, नमस्कार, मेरे लेख को प्रकाशित करने के लिए बहुत बहुत शुक्रिया, मुझे ख़ुशी है कि आपने मुझे इस योग्य समझा !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...