टीवी पर खबर कम तमाशा ज्यादा  :मार्क टुली

Share Button

हिंदी प्रिंट मीडिया ने प्रसार में अंग्रेजी अखबारों को पीछे छोड़ा है। अब उन्हें भी समान महत्व मिल रहा है।’ यह बात वरिष्ठ पत्रकार एवं लेखक सर विलियम मार्क टुली ने अमर उजाला संवाद कार्यक्रम में कहीं। कार्यक्रम का आयोजन अमर उजाला के नोएडा स्थित कार्यालय में किया गया।

mark-tullyतीन दशक तक दक्षिण एशिया में बीबीसी के प्रमुख रहे टुली ने कहा कि आजकल टीवी महज सनसनीखेज खबरों का जरिया बन गया है। अब तो ब्रेकिंग न्यूज के लिए भी इंतजार करने को कहा जाता है। पहले सनसनीखेज खबरें नहीं होती थी।

उन्होंने कहा कि टीवी पर किसी भी मुद्दे को लेकर सिर्फ विवाद के पहलू और तमाशे पर जोर दिया जाता है।

टुली ने टीवी चैनलों की अपेक्षा देश के अखबारों को बेहतर बताया। उन्होंने कहा कि अखबार बेहतर काम कर रहे हैं। भारत और इंग्लैंड, दोनों देशों में अखबार लंबी स्टोरी लिखते हैं।

कार्यक्रम के दौरान टुली ने भारतीय संस्कृति पर भी बात की और उसे अन्य देशों की संस्कृति से बेहतर बताया।

उन्होंने कहा कि भारतीय संस्कृति में ही देश का भविष्य है। भारतीय संस्कृति में प्रकृति के साथ रहने पर जोर दिया जाता है जबकि पश्चिमी देश प्रकृति को गुलाम बनाने की कोशिश करते हैं। जरूरी है कि असली भारत ही बने, नकली अमेरिका बनना बड़ी भूल होगी।

वहीं भारतीय राजनीति और राजनेताओं पर दुख जताते हुए टुली ने कहा कि भारत में नेता सिद्धांतों पर ध्यान नहीं देते हैं। वह सिर्फ राजनीतिक लाभ देखते हैं। हालांकि उन्होंने माना कि भारत का प्रजातंत्र काफी मजबूत है, जो कि देश की ताकत है।

टुली के मुताबिक भारत की कमजोरी है कि वह हमेशा दूसरे देशों को देखता है। भारत की अपनी संस्कृति और इतिहास है, जिसे न भूलते हुए आगे बढ़ना चाहिए।

Share Button

Relate Newss:

आखिर क्यों नहीं मिला बीजेपी को मंडल-कमंडल का लाभ ?
नीतिश के गृह क्षेत्र में नवनिर्वाचित महिला मुखिया की हत्या
जेयूजे प्रदेश अध्यक्ष रजत गुप्ता का आह्वान- रांची चलो
यहां संपादक से रिपोर्टर तक अंधे हैं साहब
गर्भपात को लेकर पूनम पांडे ने वेबसाइट पर किया सौ करोड़ का मुकदमा
अचानक शादी शुदा कैसे हो गए मोदी जी
इस छात्रा के सबाल से भावुक हुईं झारखंड के महामहिम
पत्रकार जगेंद्र के आश्रित को 30 लाख रुपए और दो नौकरी का वादा !
गूगल कंपनी में करीब 200 बकरियां नौकरी, वेतन सहित मिलती हैं अन्य सुविधाएं
मोदी-नीतीश के बाद अब ममता का चुनाव कैम्पेन संभालेंगे प्रशांत किशोर
kgbv के लेखापालों की हड़ताल 18 मार्च तक बताने के पीछे क्या है राज़ ?
झारखंड जागरण: तीन राज्यों से उड़ा रहा सरकारी विज्ञापन
महिषी के उग्रतारा मंदिर की 300 साल परंपरा टूटी, बिना मदिरा हुई निशा पूजा
भगवा-माओवाद का आक्रमण था सरैया दंगा!
हर डाल पर रघुवर बैठा है, अंजामे झारखण्ड क्या होगा...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
loading...