जी न्‍यूज पर चली झूठी खबर को सच बनाने में सारे चैनल टूट पड़े

Share Button

chaudhary sudhir z newsमोतिहारी। बिहार में निर्भया कांड, मोतिहारी में हुआ निर्भया कांड, लड़की के प्राइवेट में बंदूक घुसाया, घर में घूस कर लड़की को सड़क पर निकालकर छह लोगों ने किया गैंगरेप, रेपिस्‍ट को पकड़ो-लीपापोती मत करो…इसी तरह की हेडलाइन्‍स आज प्राइम टाइम में है। जी न्‍यूज पर दिन में चली झूठी खबर को सारे चैनल सच बनाने को टूट पड़े। कुछ चैनलों और सोशल मीडिया के हाईली पेड कुख्‍यातों को मुस्लिम नाम दिखा नहीं कि दुकान चमकाने का मौका मिल जाता है। इसमें तो दुर्भाग्‍य से गैंगरेप और मुस्लिम आरोपी दोनों दिख गया।

अब जानिए टीवी चलने वाले बिहार के निर्भया गैंगरेप का असली सचः

1- जिसे गैंगरेप बता रहे हैं वो दरअसल गैंगरेप या रेप है ही नहीं।

2- रामगढ़वा कांड में पीड़ित लड़की भी मुस्लिम ही है और आरोपी भी उसके गांव का ही है।

3- इस मामले में छह नहीं पांच आरोपी है, मुख्‍य आरोपी समीमुल्‍लाह को शुक्रवार को अरेस्‍ट कर लिया गया है।

4- पीड़ित लड़की के साथ समीमुल्‍लाह ने कुछ दिन पहले समीमुल्‍लाह ने दुष्‍कर्म का प्रयास किया था, लड़की सिलाई-कढ़ाई का काम करती है। उसने खुद को बचाने के लिए ब्‍लेड से समीमुल्‍लाह पर वार किया. ब्‍लेड का वार लड़के के प्राइवेट पार्ट भी हुआ। मौके से किसी तरह भाग कर समीमुल्‍लाह ने जान बचाई।

5- घटना से तिलमिलाया समीमुल्‍लाह ने इसके कुछ दिन बाद चार लोगों के साथ लड़की के घर पर हमला बोल दिया। घर से निकालकर लड़की को बेरहमी से पीटा गया। इस वक्‍त केवल लड़की मां थी, जिसे भी पीटा गया। घटना 15 जून की है।

6- लड़की ने पांच लोगों के खिलाफ नामजद एफआईआर किया, जिसमें मुख्‍य आरोपी समीमुल्‍लाह को बनाया गया। एफआईआर में पिछली घटना का जिक्र भी किया गया।

7- मेडिकल टीम की जांच रिपोर्ट में भी कहीं दुष्‍कर्म का जिक्र नहीं है। प्राइवेट पार्ट पर हमला या बंदूक डालने जैसी बातें पूरी तरह झूठ है। लड़की मोतिहारी सदर अस्‍पताल में ए‍डमित है और खतरे से बाहर है।

तो क्‍या मोतिहारी में गैंगरेप नहीं हुआ?

मोतिहारी के ही पिपरा ब्‍लॉक में 17 जून की रात 10 वर्षीय बच्‍ची के साथ गैंगरेप किया गया था। बच्‍ची परिजनों के साथ बच्‍ची आम के बाग की रखवाली करनेगई थी, जहां से उठाकर उसके साथ दो युवकों ने गैंगरेप किया।

दोनों आरोपियों को अगले दिन ही गिरफ्तार कर लिया गया। बच्‍ची अब भी गंभीर है और पटना में इलाज चल रहा है। उसे पीएमसीएच से दिल्‍ली रेफर किया जा रहा है, मगर पैसे के अभाव में अब भी वह जिंदगी और मौत से जूझ रही है, क्‍योंकि अब तक उसे मीडिया ने ‘निर्भया’ नहीं बताया है।

विडंबना है कि  कुछ टीवी चैनल, हिंद-हिंदू, युवक-नवयुक टाइप सेना-दल और सोशल मीडिया से अपनी दुकान चलानेवालों ने भी जानबुझ कर दोनों घटना को मिक्‍स कर बिहार की निर्भया को इंसाफ दिलाने की नौटंकी कर रहे हैं ।

(साभारः लाइव हिन्दुस्तान.कॉम पर मोतिहारी से चंदन शर्मा की रिपोर्ट)  

Share Button

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.