जलना चाहता हूँ मैं तो बनकर इक दिया,देखो अँधेरा जग में कहीं अब रह न जाये

Share Button
Read Time:3 Minute, 3 Second

PRIZEनई ज्योति के संग झिलमिल करके
दिल में अपने उम्मीदों के रंग भरके,
करूँ रौशनी मैं तो झम झम यार
निशा की गली में यूँ तम खो जाये
जैसे तिमिर को कोई जुगनू खा जाये

हो बाती का मुझसे प्यार ऐसा
मेरे प्यार में झूमे संसार ऐसा
रौशनी संसार को इतनी दूंगा मैं
उषा जा न पाए, निशा आ ना पाये
मुझ दिए को कोई भुला ना पाये

जलना चाहता हूँ मैं तो बनकर इक दिया
देखो अँधेरा जग में कहीं अब रह न जाये

अगर संसार में हैं कही मुझ बिन उदासी
कोई तो होगी कही मेरी दर्श की प्यासी
पूणर्तया नहीं मुझमे मैं तुम बिन अधूरा हूँ
जल रहा हूँ मैं विरहा आग से मैं सन्यासी
सदा नाश हो इस जग से अंधेरो का यार
मैं हूँ दीपक धरा का सबसे मुझसे हैं प्यार

रोज इस जग में चाहे दीपावाली बनवालो
पर मुझसे तो इस जग का गम मिटवालो

जलना चाहता हूँ मैं तो बनकर इक दिया
देखो अँधेरा जग में कहीं अब रह न जाये

अगर मुझे जलाने से मिटता हो जग में,
मेरे इस संसार की धरा का अँधियारा
नयन दर्श को ऐसे प्यासे जगत में यार
जैसे कर दूंगा हर हृदय में मैं उजियारा
कटेगे तभी कही कही से यह अंधियार
जब जुगनू सा बन मैं उड़ चलु ये संसार

जलना चाहता हूँ मैं तो बनकर इक दिया
देखो अँधेरा जग में कही रह ना जाये

कैसे कहूँ किससे कहूँ कौन सुनेगा मेरी बात
कांटे से कटती नहीं प्रिये बिन तेरे मेरी रात

एक बहन के आगे एक बहन बोनी हो गई
बिन गलती के सज़ा मुझको मिली मेरे साथ कैसी अनहोनी हो गई

उठी थी मेरे भी अरमानों की होली
जलाई गई मेरे भी अरमानों की होली

सबने देखा था उसकी अग्निपरीक्षा को
किसी ने ना देखा मेरी पति की प्रतीक्षा को

रात वो काली अंधियारी वो मुझ पर अति भारी थी
जब इंद्रजीत ने मेरे प्राण प्रिये को बरछी मारी थी

बुझ रहे थे मेरे भी इस आंधी तूफ़ान में मेरे भी दिए
जब जब थे संकट में मेरे प्राण प्रिये

अपने हाथों से एक एक दिया बचाती रही
रात भर सोई नही माताओं के चरण दबाती रही

सीता बहन के दुःख सबने देखा
मेरा पति मेरे पास नहीं था किसी ने ना देखा

वैदेही तो एक आग में जली थी
पर उर्मिला पिया मिलन आग में रोज रोज जली थी

pp………..अशोक सपड़ा (दिल्ली ) की कलम से

0 0
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
Share Button

Relate Newss:

फर्जी राजगीर पत्रकार संघ का कोषाध्यक्ष मनोज कुमार बना फर्जी हेडमास्टर !
नालंदा में अपराधी बेलगाम, हरनौत में गोली मार कर हत्या
ब्रजेश ठाकुर के भाई एवं अखबार के पटना ब्यूरो चीफ झूलन के हाथ में कहां से आया इंसास रायफल
ऑपरेशन जिंजर वनाम ओम थानवी का भाजपा पर सर्जिकल स्ट्राइक
टीवी टुडे दिल्ली के पत्रकार अक्षय सिंह की संदिग्ध मौत को लेकर सीबीआई के रडार पर आजतक के पत्रकार राहु...
सुदर्शन चैनल के मालिक की केबिन में लगा है खुफिया बेडरूम
मना करने पर आठ फीट उंचे गेट यूं फांद अंदर घुसी रांची एसडीओ की पत्नी !
पेड न्यूज के दोषी दैनिक जागरण को सरकारी विज्ञापन पर केन्द्र सरकार ने लगाई रोक
भला-चंगा आदमी अस्पताल में भर्ती होकर खबर छपवा लिया !
बिहार में निष्पक्ष और निर्भीक पत्रकारिता की आवश्यकता : मंत्री प्रेम कुमार
उस महिला का गर्भपात की पुष्टि, कोडरमा घाटी में जिस अज्ञात महिला का मिला था शव
किशनगंजः निगरानी जांच में 6 शिक्षकों पर फर्जीवाड़े की पुष्टि
फर्स्ट पोस्टिंग में ही रिश्वत लेते पकड़ा गया यह IAS
इस अनुठी पहल के साथ पत्रकारिता का मिसाल बन गया प्रभात रंजन
बिल्डर अनिल सिंह केबहुत ऊंचे हैं राजनीतिक कनेक्शन
अनेक चर्चाओं-आशंकाओं के बीच यूं बोले ‘द रांची प्रेस क्लब’ के नव निर्वाचित सचिव शंभुनाथ चौधरी
टाइम्स नाऊ पर चला एनबीएसए का डंडा, जुर्माना सहित माफी मांगने के आदेश
एक और पत्रकार पर जानलेवा हमला, पुलिस ने दर्ज नहीं की FIR
किसने खड़ी की यहां भ्रष्टाचार की यह अर्द्धनग्न ईमारत !
नो टेंशन, राजगीर मलमास मेला एप्प है न
सृजन महाघोटालाः सीबीआई की रडार पर नेताओं,अफसरों के साथ पत्रकार भी
नोटबंदी से जन्मा देश में अपूर्व भ्रष्टाचार
पूरन सरमा का व्यंग्यः मेरी परेशानियां !
दैनिक जागरणः संपादक ने कहा तलवा चाटनेवाला तो रिपोर्टर ने कहा सबूत दिखाइए !
जब डॉ. मिश्र ने महज इंदिरा जी को खुश करने के लिए इस बिल से देश में मचा दिया था तूफान

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...